Tuesday, November 21, 2017

नीम और दही का फेसपैक




नीम और दही का फेसपैक यूज़ करने के फायदे

पिंपल्स – यह फेस पैक स्किन के बैक्टीरिया खत्म करके पिम्पल्स जैसी प्रॉबल्म दूर करने में हेल्प करता हैं।

डल स्किन – इसमें मौजूद विटामिन और न्यूट्रिएंट्स स्किन सेल्स हेल्दी बनाते हैं। स्किन ग्लोइंग दिखने लगती है।


टैनिंग – नीम और दही का फेस पैक स्किन के डैमेज टिश्यूज़ को रिपेयर करता है। इससे टैनिंग कम होती है।

ब्लैक हेड्स – इस फेस पैक में मौजूद इंग्रीडिएंट्स स्किन को क्लीन करके ब्लैक हेड्स दूर करने में मदद करते हैं।


चोट के निशान – इस फेस पैक में एंटीसेप्टिक प्रॉपर्टी होती है। इसे लगाने से चोट और उसके निशान ठीक होते हैं।

ड्राय स्किन – यह फेस पैक स्किन में नमी बनाए रखता है। ड्रायनेस और रिंकल्स की प्रॉब्लम में फायदा होता है।


सन प्रोटेक्शन – यह फेस पैक सनस्क्रीन की तरह काम करता है। सूरज की उल्टा वायलेट किरणों से बचाव होता है।






डार्क सर्कल – यह फेस पैक स्किन को हेल्दी और एनर्जाइज बनाता है। रेग्युलर लगाने से डार्क सर्कल भी दूर होते हैं।



















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Saturday, November 18, 2017

SKIN TIPS

SKIN TIPS


‘एवॉन’ के स्किनकेयर विशेषज्ञ व भारत के प्रमुख कॉस्मेटोलॉजिस्ट में से एक मोहित नारंग ने त्वचा को प्रदूषण मुक्त रखने रखने के संबंध में ये सुझाव दिए हैं : 

* रूई के फाहे पर बेबी ऑयल, नारियल तेल लगाकर चेहरे को साफ कर लें और फिर फेस वॉश से चेहरा साफ करें। इससे त्वचा के रोम छिद्र गहराई से साफ होंगे और बैक्टीरिया निकल जाएंगे। इसके बाद टोनर लगाएं।

* विटामिन सी और ई युक्त एंटी-ऑक्सीडेंट से समृद्ध फलों, सब्जियों को अपने आहार में शामिल करें। ब्रोकली, पालक, पीनट बटर इसके प्रमुख स्रोत हैं।

 त्वचा में नमी बरकरार रखने के लिए तरबूज, ग्रीन एप्पल आदि के कुछ टुकड़े काट लें और इसे अपने पानी के बोतल में डाल लें और पूरे दिन पोषण तत्वों से भरपूर इसका सेवन करें। 

* विटामिन और एंटी-ऑक्सीडेंट से समृद्ध फेस मास्क जैसे पपाया मास्क का इस्तेमाल करें। साफ, निखरी त्वचा के लिए टरमेरिक मास्क और गहरे दाग-धब्बे हटाने के लिए आप पोटेटो मास्क इस्तेमाल कर सकती हैं। 

* हवा में उच्च अम्लीय स्तर होने के चलते त्वचा में जल्दी रूखापन आता है और हानिकारक कण त्वचा में प्रवेश कर जाते हैं। इसके लिए ऐसे क्लींजर का इस्तेमाल करें जो आपकी त्वचा से सारी नमी नहीं निकाले और आप त्वचा को मॉइश्चराइज करना नहीं भूलें।

 त्वचा को साफ करने के बाद अच्छी कंपनी का टोनर इस्तेमाल करना जरूरी है। यह तेल और जमे धूल को अच्छी तरह से हटाकर त्वचा में किसी हानिकारक एसीडिक कण की मौजूदगी नहीं होना सुनिश्चित करता है। 

* टोनर को त्वचा पर एकसार लगाने के बाद हल्के हाथों से स्क्रब करना नहीं भूलें। हवा में एक्सपोज होने वाले शरीर सभी हिस्सों पर फेस स्क्रब लगाया जा सकता है। दिन में दो बार हल्के हाथों से स्क्रब करने से त्वचा धूल-तैलीयपन से पूरी तरह मुक्त रहेगा। 

* मॉइश्चराइजर के बजाय फेशियल ऑयल लगाना ज्यादा लाभकारी रहेगा। यह त्वचा में बाहरी हानिकारक कणों को प्रवेश करने से रोकता है।

ओरिफ्लेम इंडिया’ की त्वचा व मेकअप विशेषज्ञ आकृति कोचर ने भी संबंध में ये सुझाव दिए हैं : 

* ऐसे सन ब्लॉक क्रीम का इस्तेमाल करें जो न सिर्फ सूर्य की हानिकारक पराबैंगनी किरणों से सुरक्षा प्रदान करे बल्कि हवा में मौजूद प्रदूषकों और हानिकारक कणों से भी सुरक्षा प्रदान करें। 


सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Sunday, November 5, 2017

खीरा सेहत के लिए लाभकारी


खीरा सेहत के लिए लाभकारी माना जाता है। ये सेहत के साथ-साथ सौंदर्य में बहुत फायदेमंद होता है। कम फेट व कैलोरी से भरपूर खीरे का सेवन आपको कई रोगो से बचाने में सहायता करता है। खीरे को आप कई तरह से खा सकते हैं, जैसे सलाद, जूस, सैंडवीच, या यूं ही नमक छिडक कर भी खा सकते हैं। खीरे के स्वास्थ्यवद्र्धक और सौन्दर्यवद्र्धक गुण दोनों अनगिनत होते हैं जैसे...
आयुर्वेद के अनुसार खीरा, पित्त, रक्त पित्त दूर करने वाला तथा रक्तविकार और मूत्र कच्छ नाशक रूचिकर फल है। खीरे के प्रयोग से पेट तथा जिगर की जलन शांत होती है।

आयुर्वेद के मुताबिक पेट में गर्मी होने के वजह से मुंह से बदबू निकलता है, खीरा पेट को शीतलता प्रदान करने में मदद करता है।
खीरे में विटामिन ए, बी1 बी6 सी, डी पौटेशियम, फास्फोरस, आयरन आदि प्रचुर मात्रा में पाये जाते हैं।
खीरे का नियमित सेवन से मासिक धर्म में होने वाली समस्याओं से भी छुटकारा मिलता है।
खीरा एक ऐसी सब्जी है जिसमें कोलेस्ट्रोल बिल्कुल नहीं होता। यह हृदय रोगी के लिए बहुत लाभकारी माना जाता है। एक अध्ययन के अनुसार खीरा में जो स्टे्रराल नाम का योगिक होता है वह कोलेस्ट्रोल को कम करने में मदद करता है।
खीरे में कैलोरी कम और फाइबर उच्च मात्रा में होता है। इसलिए मीडे डे में भूख लगने पर खीरा खाने से पेट देर तक भरा हुआ रहता है।





















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें ।