Thursday, November 3, 2016

Kurti measures to get rid of winter colds



सितंबर से दिसंबर तक का ड्राई मौसम बीमारियों के लिए जिम्मेदार होता है। इस दौरान नाक, कान, गले की एलर्जी, सासं लेते समय छाती में परेशानी और सर्दी जुकाम-खांसी जैसी बीमारी ज्यादा होती हैं। ये बीमारियां इन दिनों होने वाली आतिशबाजी, सडकों पर उडती धूल आदि से होती है। अब मौसम फिर से बदल रहा है और सर्दी दस्तक दे रही है। इन दिनों कई लोग वायरल बुखार की चपेट में हैं। आजकल जुकाम बुखार और कई बीमारियों से पीडित लोग घर-घर में दिखाई दे रहा है। कुछ लोगों की नाक बंद हो रही है, कुछ को जुकाम बढने पर फीवर आ रहा है। यदि बुखार जुकाम का उपचार उसके लक्षण नजर आते ही कर लिया जाए तो शरीर को अन्य दूसरी बीमारियों की परेशानी नहीं झेलनी पडती है। बीमारियों को दूर करने के कुछ कारगार घरेलू उपचार जानें




काली मिर्च जलाकर उसका धुआं सूंघने से बंद नाक खुलती है।




अदरक के टुकडों का काढा 20 मि ली से 30 मि ली दिन में तीन बार लेने से सर्दी से आराम मिलता है।




गाजर में विटामिन ए भरपूर मात्रा में पाया जाता है। गाजर में बीटा-कैरोटीन भी पाया जाता है। गाजर सर्दी जुकाम से लडने में मदद करती है साथ ही यह सर्दियों में आम संक्रमण से बचने में सहायक है।




मशरूम भी प्रतिरोधी क्षमता को मजबूत बनाने में मदद करता है। ठंड में मशरूम हमारी प्रणाली को जुकाम और वायरसों से बचाता है। मशरूम एक ऐसे एंटी ऑक्सिडेंट का मुख्य प्राकृतिक स्त्रोत है, जो कई घातक बीमारियों में इंसान को बचाता है।




थोडा अदरक, अजवाइन 1 चम्मच, लौंग 5, काली मिर्च 3, मैथी 1 चम्मच, तुलसी और पुदीना पत्ती 10 प्रत्येक इन सबका काढा बनाकर, खांडसारी मिलाकर दिन में दो बार आराम होने तक लेना चाहिए।






सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


No comments:

Post a Comment