Sunday, October 23, 2016

नींबू लगाएं... रूप रंग और खूबसूरत बाल पाएं




नींबू के ढेर सारे सौंदर्य लाभ हैं, यह चेहरे के साथ साथ बालों पर भी लगाया जा सकता है। इसे आप चाहे सीधे तौर पर लगाएं या फिर किसी तेल के साथ मिक्‍स कर के प्रयोग करें, यह पूरी तरह से फायदा पहुंचाता है। नींबू के ढेर सारे सौंदर्य लाभ हैं, यह चेहरे के साथ साथ बालों पर भी लगाया जा सकता है। इसे आप चाहे सीधे तौर पर लगाएं या फिर किसी तेल के साथ मिक्‍स कर के प्रयोग करें, यह पूरी तरह से फायदा पहुंचाता है। नींबू का प्रयोग करने से पहले जान लें कि उसमें क्‍या क्‍या गुण होते हैं। 

नींबू में 6% से ज्‍यादा सिट्रस एसिड और उससे भी ज्‍यादा विटामिन सी पाया जाता है।  यह विटामिन सी आपको फ्री रैडिकल्‍स से बचाता है। इसके अलावा नींबू में ब्‍लीचिंग प्रापर्टी भी होती है जो स्‍किन का रंग साफ करता है। नींबू में विटामिन B1, B2, B3 और B5 भी पाया जाता है जो उम्र को कम करने में मददगार होता है। ऐसे करें नींबू को पय्रोग: ब्‍लैकहेड से मुक्‍ती दिलाए: नींबू में एंटीबैक्‍टीरियल गुण होने के नाते यह एक्‍ने से और ब्‍लैकहेड से मुक्‍ती दिलाता है। स्‍टेप 1: पके हुए नींबू का स्‍लाइस में काटें। फिर उसमें थोड़ा सा शहद लगा कर उसे प्रभावित स्‍थान पर रगड़ें। 15 मिनट तक उसे ऐसे ही रहने दें और फिर उसे पानी से धो लें। 

दांतों चमकाए: अगर आपको अपने दांतों पर लगे दाग को छुड़ाना है तो नींबू का प्रयोग करें। स्‍टेप 1: 1 चम्‍मच बेकिंग सोडा में नींबू का थोड़ा सा रस मिलाएं। इसे पेस्‍ट बना कर दांतों पर रगड़े और 1 मिनट तक उस पर लगा रहने दें। फिर हल्‍के गुनगुने पानी से कुल्‍ला कर लें। 

फुट स्‍क्रब: पैरों की एडियों में जमी हुई डेड स्‍किन को निकालने के लिये और उसे मुलायम बनाने कमे लिये जनिये क्‍या करना होगा। स्‍टेप 1: 2 चम्‍मच ब्राउन शुगर लें, उसमें 1 चम्‍मच जैतून तेल मिलाएं और ऊपर से कुछ बूंद नींबू की डालें। अपने पैरों पर यह पेस्‍ट लगाएं और उससे 15 मिनट के लिये स्‍क्रब करें। 

रूसी से मुक्‍ती के लिये: रूसी और गंदे बालो से मुक्‍ती पाने के लिये नींबू का प्रयोग ऐसे करें। स्‍टेप 1: सिर पर सीधे नींबू का रस लगाएं और 1 घंटे तक लगाए रखें। फिर सिर को शैंपू से धो लें।


















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Thursday, October 20, 2016

सामान्‍य जुकाम और खांसी के लिए 10 घरेलू उपचार



1 जुकाम और खांसी

मौसम में बदलाव के साथ ही कई प्रकार की बीमारियां व्‍यक्ति को अपना शिकार बनाती है। इनमें जुकाम और खांसी सबसे सामान्‍य हैं। साधारण सी बीमारी लगने वाली ये बीमारी आपको बहुत परेशान कर सकती है। इसके उपचार के लिए आप घरेलू उपाय आजमा सकते हैं, ये आसानी से उपलब्‍ध होते हैं और इनका कोई भी साइड इफेक्‍ट भी नही पड़ता है।


2 हल्‍दी जुकाम और खांसी से बचाव के लिए हल्‍दी बहुत ही अच्‍छा उपाय है। यह बंद नाक और गले की खराश की समस्‍या को भी दूर करता है। जुकाम और खांसी होने पर दो चम्‍मच हल्‍दी पावडर को एक गिलास दूध में मिलकार सेवन करने से फायदा होता है। दूध में मिलाने से पहले दूध को गर्म कर लें। इससे बदं नाक और गले की खराश दूर होगी। सीने में होने वाली जलन से भी यह बचाता है। हती नाक के इलाज के लिए हल्दी को जलाकर इसका धुआं लें, इससे नाक से पानी बहना तेज हो जाएगा व तत्काल आराम मिलेगा।


3 गेहूं की भूसी

जुकाम और खांसी के उपचार के लिए आप गेहूं की भूसी का भी प्रयोग कर सकते हैं। 10 ग्राम गेहूं की भूसी, पांच लौंग और कुछ नमक लेकर पानी में मिलाकर इसे उबाल लें और इसका काढ़ा बनाएं। इसका एक कप काढ़ा पीने से आपको तुरंत आराम मिलेगा। हालांकि जुकाम आमतौर पर हल्का-फुल्का ही होता है जिसके लक्षण एक हफ्ते या इससे कम समय के लिए रहते हैं। गेंहू की भूसी का प्रयोग करने से आपको तकलीफ से निजात मिलेगी।




4 तुलसी
 समान्‍य कोल्‍ड और खांसी के उपचार के लिए बहत की कारगर घरेलू उपाय है तुलसी, यह ठंक के मौसम में लाभदायक है। तुलसी में काफी उपचारी गुण समाए होते हैं, जो जुकाम और फ्लू आदि से बचाव में कारगर हैं। तुलसी की पत्तियां चबाने से कोल्ड और फ्लू दूर रहता है। खांसी और जुकाम होने पर इसकी पत्तियां (प्रत्येक 5 ग्राम) पीसकर पानी में मिलाएं और काढ़ा तैयार कर लें। इसे पीने से आराम मिलता है।

5 अदरक

सर्दी और जुकाम में अदरक बहुत फायदेमंद होता है। अदरक को महाऔषधि कहा जाता है, इसमें विटामिन, प्रोटीन आदि मोजूद होते हैं। अगर किसी व्यक्ति को कफ वाली खांसी हो तो उसे रात को सोते समय दूध में अदरक उबालकर पिलाएं। अदरक की चाय पीने से जुकाम में फायदा होता है। इसके अलावा अदरक के रस को शहद के साथ मिलाकर पीने से आराम मिलता है।




6
काली मिर्च पाउडर



जुकाम और खांसी के इलाज के लिए यह बहुत अच्‍छा देसी ईलाज है। दो चुटकी, हल्दी पाउडर दो चुटकी, सौंठ पाउडर दो चुटकी, लौंग का पाउडर एक चुटकी और बड़ी इलायची आधी चुटकी, लेकर इन सबको एक गिलास दूध में डालकर उबाल लें। इस दूध में मिश्री मिलाकर पीने से जुकाम ठीक हो जाता है। शुगर वाले मिश्री की जगह स्टीविया तुलसी का पाउडर मिलाकर प्रयोग करें।

7 इलायची



इलायची न केवल बहुत अच्‍छा मसाला है बल्कि यह सर्दी और जुकाम से भी बचाव करता है। जुकाम होने पर इलायची को पीसकर रुमाल पर लगाकर सूंघने से सर्दी-जुकाम और खांसी ठीक हो जाती है। इसके अलावा चाय में इलायची डालकर पीने से आराम मिलता है।

8हर्बल टी

सर्दी और जुकाम में औषधीय चाय पीना बहुत फायदेमंद होता है। सर्दी के कारण जुकाम, सिरदर्द, बुखार और खांसी होना सामान्‍य है, ऐसे में हर्बल टी पीना आपके लिए फायदेमंद है। इससे ठंड दूर होती है और पसीना निकलता है, और आराम मिलता है। यदि जुकाम खुश्‍क हो जाये, कफ गाढ़ा, पीला ओर बदबूदार हो और सिर में दर्द हो तो इसे दूर करने के लिए हर्बल टी का सेवन कीजिए।

9 कपूर

सर्दी से बचाव के लिए कपूर का प्रयोग भी फायदेमंद है। कपूर की एक टिकिया को रुमाल में लपेटकर बार-बार सूंघने से आराम मिलता है और बंद नाक खुल जाती है। इसके आलाव यह कपूर सूंघने से ठंड भी दूर होती है। कपूर की टिकिया का प्रयोग करके आप सर्दी और जुकाम से बचाव कर सकते हैं।

10 नींबू

गुनगुने पानी में नींबू को निचोड़कर पीने से सर्दी और खांसी में आराम मिलता है। एक गिलास उबलते हुए पानी में एक नींबू और शहद मिलाकर रात को सोते समय पीने से जुकाम में लाभ होता है। पका हुआ नींबू लेकर उसका रस निकाल लीजिए, इसमें शुगर डालकर इसे गाढ़ा बना लें, इसमें इलायची का पावडर मिलाकर इसका सेवन करने से आराम‍ मिलता है।

11 कालीमिर्च

आधा चम्‍मच कालीमिर्च के चूर्ण और एक चम्‍मच मिश्री को मिलाकर एक कप गर्म दूध के साथ दिन में लगभग तीन बार पीने से आराम मिलता है। रात को 10 कालीमिर्च चबाकर उसके ऊपर से एक गिलास गरम दूध पीने से आरा‍म मिलता है। कालीमिर्च को शहद में मिलाकर चाटने से सर्दी और खांसी ठीक हो जाती है।










सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Wednesday, October 19, 2016

पेट करें कम, बॉडी बनाएं स्लिम, जानें 5 जादुई टिप्स





बढ़ा हुआ पेट आपको सेहत संबंधी कई परेशानियां भी देता है, और आपके फिगर को भी बिगाड़ कर रख देता है। लेकिन फि‍क्र की कोई बात नहीं, यह 5 टिप्स पेट को कम और बॉडी को स्लिम रखने में आपकी मदद कर सकते हैं




1 थोड़ा-थोड़ा खाएं - अगर आप एक ही बार में अधि‍क भोजन करने में यकीन करते हैं, और आपको इसकी आदत है, तो यह आदत बदल डालिए। अपनी डाइट को 2 या 3 भागों में बांट लें, और हर दो या तीन घंटे में थोड़ा-थोड़ा खाएं। इससे आपका पेट भरा रहेगा, ऊर्जा का स्तर भी बना रहेगा और पेट का मोटापा भी कम होगा।

2 गरम पानी - सुबह-सुबह खाली पेट गर्म पानी पीना, पेट कम करने के लिए बेहद फायदेमंद होगा। इससे पेट में जमा वसा धीरे-धीरे कम होगा। इसके अलावा अगर आप गरम पानी में नींबू और शहद डालकर पिएंगे तो यह और भी फायदेमंद साबित होगा। इतना ही नहीं, इसे रोजाना पीने से आप तरोताजा और ऊर्जावान भी महसूस करेंगे।




3 मॉर्निंग वॉक - सुबह-सुबह पैदल चलना, जॉगिंग करना या फिर पेट संबंधी व्यायाम करना, पेट की चर्बी कम करने का बेहतरीन विकल्प है। इससे धीरे-धीरे फैट भी कम होगा और आपका पाचन तंत्र भी बेहतर होगा। साथ ही शरीर में दिनभर ऊर्जा का स्तर बना रहेगा।




4 नौकासन - योगा आपके शरीर के साथ-साथ मानसिक परेशानियों को भी कम करता है। बढ़े हुए पेट को कम करने के लिए नौकासन योग का सबसे बेहतर विकल्प है। इससे पेट की चर्बी जिस तरह से कम होगी, आप खुद इस बदलाव को देख और महसूस कर पाएंगे।




5 देर रात न खाएं - देर रात को खाना खाना भी पेट की चर्बी बढ़ने का एक प्रमुख कारण है। हमेशा सोने से 2 घंटे पहले ही रात का भोजन कर लें। इसके अलावा आप चाहें तो रात के खाने में कुछ हल्का फुल्का ही खाएं। अगर खाना खाने के बाद थोड़ा समय टहलने के लिए निकालेंगे, तो यह सोने पर सुहागा होगा।  















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Tuesday, October 18, 2016

फटी एड़‍ियों को सही करने के घरेलू उपाय



फटी एडियां, गंभीर नहीं लेकिन दुखदायी समस्‍या होती है। अगर लम्‍बे समय तक ये फटी रहती हैं तो आपके पैरों में संक्रमण हो सकता है।  एडियां फटने के कई कारण हो सकते हैं जिनमें से सबसे प्रमुख वजह चप्‍पल का न पहनना होता है। इसके अलावा, खराब पोषण युक्‍त खुराक, धूप या प्रदूषण भी कारक हो सकते हैं। एडियों के फटे होने से व्‍यक्ति असहज हो सकता है और उसे दर्द व खुजली हो सकती है। शरीर में डिहाईड्रेशन होने के कारण भी एडियां फट जाती है। आइये जानते हैं इससे छुटकारा पाने का तरीका क्‍या है! 

1. घर पर चप्‍प्‍ल पहनें - आप घर पर भी फुटवियर पहनकर रहें। ऐसा करने से पैर की त्‍वचा सुरक्षित रहेगी और वह धूल के सम्‍पर्क में नहीं आएगी।


2. सही चप्‍पल का चयन - हमेशा सही चप्‍पल पहनें। इससे पैरों को आराम मिलेगा और आपको असहजता भी नहीं होगी। ऐसा करने से पैरों में गांठ या त्‍वचा भी नहीं फटेगी। 

3. पैरों की एक्‍सरसाइज - पैरों के लिए हमेशा सही एक्‍सरसाइज करें। एडियों को मजबूत बनाने वाले व्‍यायाम को नियमित रूप से करें। ऐसा करने से एडियों में रक्‍त का संचार अच्‍छी तरह रहेगा और वो चटकेगी भी नहीं। 

4. मसाज - अगर आपकी एडियां फट जाती हैं तो आप नियमित रूप से मसाज करें। हर रात अच्‍छे से उन्‍हें धो लें और मसाज करके सो जाएं। ऐसा करने से आराम मिलेगा।






सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


बालों में मेथी और कडी पत्‍ते का पेस्‍ट लगाने के 10 फायदे



लंबे, घने और खूबसूरत बालों की चाह भला किसे नहीं होती लेकिन सभी को यह खूबसूरती मिल पाए यह मुमकिन नहीं। पर अगर आप अपने बालों की केयर अच्‍छे से करेंगी तो आपके बाल आपको थैंक्‍स जरुर बोलेंगे। हमारे घरों में कडी पत्‍ती और मेथी काफी आसानी से उपलब्‍ध हो जाती है। आज हम आपको इसका हेयर पैक बनाना सिखाएंगे और इससे क्‍या लाभ मिलेंगे ये भी बताएंगे। इस पैक को बनाने के लिये एक ब्‍लेंडर में थोड़ी सी कडी पत्‍ती और भिगोइ हुई मेथी डालें। ऊपर से थोड़ा सा पानी भी डालें और फिर इसको पीस कर पेस्‍ट बनाएं। 

 इस हेयर मास्‍क को बालों में 15 मिनट तक लगाए रखें और फिर बालों को धो लें। अब आइये जानते हैं इससे क्‍या फायदे होते हैं। बालों को बनाए मुलायम यह नेचुरल हेयर पैक बालों को नमी देता है और उसे मुलायम बनाता है।दो मुंहे बालों से छुटकारा दिलाए यह घरेलू पैक आपके दो मुंहे बालों को नमी देगा और उन्‍हें दो मुंहे होने से बचाएगा। बालों में चमक भरे मेथी और कडी पत्‍ते में विटामिन होने के नाते यह बालों में अंदर से चमक भरता है। सफेद बालों से छुटकारा इसे नियमित बालों में लगाने से बालों की सफेदी चली जाती है। यह पैक बालों की सेल्‍स को अंदर से पोषण देता है और उन्‍हें ग्रे होने से बचाता है। 

बालों का झड़ना रोके यह बालों को पोषण पहुंचाता है और उनकी जड़ों को कस के जोड़ कर रखता है। रूसी से छुटकारा दिलाए इस हेयर पैक में एंटी बैक्‍टीरियल गुण होते हैं जो कि बैक्‍टीरिया का नाश करते हैं और रूसी से छुटकारा दिलाते हैं।  सिर की सफाई करे जब यह मिश्रण नींबू के साथ मिक्‍स कर के सिर पर लगाया जाएगा तो यह सिर से अत्‍यधिक तेल और गंदगी को निकालेगा तथा सिर की सफाई करेगा। बालों में बाउंस भरे यह हेयर पैक बालों को घना और बाउंसी बनाता है। सिर से तेल निकाले यह सिर पर जमे हुए अत्‍यधिक तेल को कम करता है जिससे बालों को जल्‍दी शैंपू करने की जरुरत नहीं पड़ती।



















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Monday, October 17, 2016

चेहरे को गोरा और साफ कर देंगे ये 12 उबटन, अभी ट्राई करें


उबटन एक प्राकृतिक चीज़ है जो हर घर में बनाई जाती है। आपको हल्‍दी और बेसन वाला उबटन तो पता ही होगा लेकिन आज हम आपके सामने 12 तरह के अलग-अलग उबटन बनाने की विधि ले कर आए हैं। अगर आपके घर पर कोई त्‍योहार या उत्‍सव आने वाला है तो समय आ गया है कि आप उसकी तैयारी अभी से कर लें। चेहरे पर अगर दाग धब्‍बे या झाइयां हैं तो उसे इन प्राकृतिक उबटनों से दूर कर सकती हैं। आइये जानते हैं इनके बारे में

1. केले का मास्‍क यह मास्‍क चेहरे के तेल को कम करता है और डेड सेल को हटाता है। एक चम्‍मच मसला हुआ केला, 1 चम्‍मच शहद और 1 चम्‍मच नींबू का रस मिलाएं और चेहरे पर लगाएं। इसे आधे घंटे के लिये सूखने दें और फिर ठंडे पानी से धो लें।

 2. मलाई और शहद यह मास्‍क त्‍वचा में नमी भरता है, जिससे स्‍किन ग्‍लो करने लगती है। 1 चम्‍मच मलाई लें और उसमें 1 चम्‍मच शहद मिक्‍स करें। पहले चेहरे को धो लें और फिर इसका एक कोट लगाएं। 30 मिनट के बाद चेहरे को धो लें। इस मास्‍क को रोजाना लगाएं। 

3. जैतून और बादाम तेल इस पैक को लगाने से चेहरा मुलायम हो कर चमकदार बन जाएगा। 1 चम्‍मच जैतून तेल में 5 बूंद बादाम तेल मिक्‍स करें और चेहरे पर 5 मिनट तक इससे मसाज करें। फिर इसे रातभर चेहरे पर ही रहने दें और सुबह चेहरे को धो लें।

 4. नींबू और ग्‍लीसरीन दाग धब्‍बों से मुक्‍ती पाने के लिये और चेहरे पर ग्‍लो भरने के लिये यह फेस पैक लगाएं। 1 चम्‍मच ग्‍लीसरीन में 5 बूंद नींबू की बूंद डालें और एक कॉटन बॉल से इसे चेहरे पर लगाएं। फिर चेहरे को 10 मिनट बाद ठंडे पानी से धो लें। यह मास्‍क ड्राई स्‍किन के लिये काफी अच्‍छा है। 

5. टमाटर और शक्‍कर टमाटर की दो स्‍लाइस लें, उस पर थोड़ी सी शक्‍कर छिड़के। फिर इसको अपने चेहरे तथा गर्दन पर स्‍क्रब करना शुरु कर दें। फिर इसे 10 मिनट के लिये चेहरे पर ही लगा रखने दें और फिर चेहरे को धो लें।  

6. बेसन, दही और हल्‍दी इस मास्‍क में एंटीऑक्‍सीडेंट और ब्‍लीचिंग गुण होते हैं, जिससे स्‍किन टोन हल्‍की हो जाती है। 1 चम्‍मच बेसन में आधा चम्‍मच दही और चुटकीभर हल्‍दी मिक्‍स करें। फिर इसे पेस्‍ट बनाएं और चेहरे पर लगा कर 30 मिनट तक छोड़ दें। फिर पानी से चेहरे को धो लें। 

7. एलो वेरा और टी ट्री ऑइल चेहरे से पिंपल हटाने हों या फिर दाग धब्‍बे दूर करने हों , तो यह पैक काफी अच्‍छा रहेगा। थोड़ा सा ताजा एलोवेरा जैल लें, उसमें 7 बूंद टी ट्री ऑइल की मिक्‍स करें। इससे चेहरे को धीरे धीरे मसाज करें और फिर 20 मिनट तक छोड़ दें। फिर चेहरे पर बरफ रगड़े और चेहरे को पानी से धो लें।

8. अंडा और बादाम तेल इस पैक में प्रोटीन और एंटी ऑक्‍सीडेंट होते हैं जो कि चेहरे से बारीक धारियों को दूर करते हैं। अंडे को तोड़ कर उसके सफेद हिस्‍से को निकाल लें, फिर उसमें 5 बूंद बादाम तेल की मिलाएं और फेंट लें। अब इसका पतला सा कोट चेहरे तथा गर्दन पर लगाएं और 30 मिनट के लिये छोड़ दें। जब स्‍किन सूख जाए तब इसे पानी से धो लें। इसे हफ्ते में दो बार लगाएं।

9. शहद अगर आपके पास समय नहीं है तो आप केवल शहद को ही चेहरे पर लगा सकती हैं। जब यह सूख जाए तब चेहरे को गुनगुने पानी से धो लें। 

10. गाजर, शहद और हल्‍दी यह आयुर्वेदिक उबटन चेहरे के पोर्स को कम करता है और चेहरे पर निखार लाता है। गाजर को घिस कर उसमें 2 चम्‍मच शहद और चुटकीभर हल्‍दी मिक्‍स करें। फिर इसे चेहरे तथा गर्दन पर लगाएं और 30 मिनट के बाद चेहरे को गोलाई में रगड़ कर पानी से धो लें। 

11. आलू और दही इस पैक में विटामिन सी, प्रोटीन और आयरन होता है जो कि सनटैनिंग और काले धब्‍बे मिटाता है। आलू को मसल लें और उसका पेस्‍ट बना लें। फिर उसमें 1 चम्‍मच शहद और दूही मिलाएं। चेहरे को धो कर यह पेस्‍ट लगाएं और 20 मिनट के बाद चेहरे को धो लें। इसको हफ्ते में दो बार लगाएं, आपको चेहरा हमेशा साफ बना रहेगा।

 12. ओटमील, शहद, दूध और बादाम तेल इस पैक में एंटीबैक्‍टीरियल गुण होते हैं, जो गंदगी को बाहर निकालते हैं और चेहरे को गोरा बनाते हैं। 1 चम्‍मच ओटमील को ग्राइंड कर के पावडर बनाएं, फिर उसमें 1 चम्‍मच शहद, 6 बूंद बादाम तेल और दूध मिक्‍स करें। इस पेस्‍ट को चेहरे पर लगाएं और जब यह सूख जाए तब चेहरे को स्‍क्रब करें और फिर प्‍लेन पानी से धो लें।






















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


जानिये फेस पैक को ठीक से लगाने की विधि क्‍या है


आप माने चाहे नहीं, लेकिन 3 में से 5 लोग बिना अपनी स्‍किन को जाने समझे किसी भी तरह का फेस पैक चेहरे पर लगा लेते हैं। जिससे बाद में उनके चेहरे का ग्‍लो चला जाता है और वह अपनी गलती पर पछताते हैं। आप माने चाहे नहीं, लेकिन 3 में से 5 लोग बिना अपनी स्‍किन को जाने समझे किसी भी तरह का फेस पैक चेहरे पर लगा लेते हैं। जिससे बाद में उनके चेहरे का ग्‍लो चला जाता है और वह अपनी गलती पर पछताते हैं।  

बहुतों को नहीं पता कि फेस पैक कौन सा लगाएं या फिर उसे चेहरे पर कितनी देर के लिये रखना है या पैक का सिंगल कोट लगाएं या डबल आदि। आज हम आपकी इसी उलझन को दूर करने के लिये जानकारी लाए हैं, हमें आशा है कि आप इसका फायदा जरुर उठाएंगी। अपनी स्‍किन की पहचान बादाम का तेल अच्‍छा होता है मगर या यह आपकी स्‍किन के लिये अच्‍छा है? अगर आपकी स्‍किन ऑइली है तो यह नहीं अच्‍छा है पर अगर आपकी स्‍किन हमेशा रूखी रहती है तो यह काफी अच्‍छा तेल माना जाता है। बादाम का तेल नमी पैदा करता है इसलिये यह चेहरे को नम बनाता है। इसलिये अपनी स्‍किन टाइप को जानना बड़ा ही जरुरी है जिससे आप यूं ही ऐसी वैसी चीज़ ना लगा लें।

फेस पैक कितनी बार लगाना चाहिये? चेहरे पर फेस पैक हफ्ते में केवल दो दिन ही लगाना चाहिये। इसमें प्रयोग की जाने वाली सामग्रियां स्‍किन के लिये बिल्‍कुल भी कठोर ना हों। फेस पैक का खास मक्‍सद होना चाहिये पोर्स को खोलना और गंदगी को साफ करना ना कि चेहरे का प्राकृतिक तेल सोख लेना।

 चेहरे पर कितने देर के लिये फेस पैक लगाएं रखें? अगर आपकी स्‍किन संवेदनशील है तो मास्‍क को 10 से 15 मिनट तक रखें। अगर आपकी स्‍किन नॉर्मल है तो 20 से 30 मिनट तक मास्‍क को रखा जा सकता है। क्‍या फेस मास्‍क के पहले स्‍टीमिंग करना जरुरी है या नहीं? अगर आपकी स्‍किन ऑइली है तो फेस को स्‍टीम दें। अगर आपकी स्‍किन अत्‍यधिक रूखी रहती है तो स्‍टीम ना लें। स्‍टीम देने से चेहरे के पोर्स खुल जाते हैं और गंदगी बाहर निकल जाती है, जिससे बाद में फेस पैक लगाने से चेहरे पर ग्‍लो आता है।  फेस पैक का कितना कोट लगाएं फेस पैक का एक ही कोट काफी रहता है। इस पर बार बार कोट लगाने से कोई फायदा नहीं करता। अगर आपका पैक काफी गीला है और चेहरे पर लगाने से बह रहा है तो, उसमें थोड़ा सा बेसन या चंदन पावडर मिक्‍स कर लें। फेस पैक को धोने के लिये गरम पानी प्रयोग करें या ठंडा गरम पानी आपके चेहरे को ड्राई कर देता है और वहीं ठंडा पानी चेहरे के पोर्स को बंद करेगा। आप ठंडे या सादे पानी का प्रयोग चेहरे को धोने के लिये कर सकती हैं। फेस मास्‍क साफ करने की विधि मास्‍क को कभी भी पूरा सूखने ना दें। इसे तब ही साफ कर ले जब यह सेमी ड्राई हो। सूखा हुआ मास्‍क काफी कठोर हो जाता है जिसे चेहरे से निकालना काफी मुश्‍किल होता है। यह आपके चेहरे को नुकसान भी पहुंचा सकता है। अगर आपका मास्‍क गलती से काफी सूख गया है तो उसे चेहरे से हटाने के लिये सबसे पहले उस पर पानी की छींटे मारें और फिर उसे छुड़ाएं। मास्‍क को साफ करने के बाद चेहरे को तौलिये से आराम से पोंछे और मॉइस्‍चराइजर लगाएं।























सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Wednesday, October 12, 2016

वर्कआउट के बाद न खाएं ये फूड्स



क्‍या आप चाहते हैं कि रेगुलर व्‍यायाम करें? अगर हां, तो आपके लिए कुछ प्रकार के फूड्स; जैसे- दूध, दही, सब्‍जी आदि का सेवन करना बेहद जरूरी होता है। इन फूड्स को एक्‍सरसाइज करने के बाद अवश्‍य खाएं। ] क्‍या आप चाहते हैं कि रेगुलर व्‍यायाम करें? अगर हां, तो आपके लिए कुछ प्रकार के फूड्स; जैसे- दूध, दही, सब्‍जी आदि का सेवन करना बेहद जरूरी होता है। इन फूड्स को एक्‍सरसाइज करने के बाद अवश्‍य खाएं। अगर आप इनका नियमित सेवन करते रहेंगे तो आपको एनर्जी मिलेगी और शरीर फिट भी रहेगा। परन्‍तु इस आर्टिकल में हम आपको ऐसे फूड्स बता रहे हैं जिनका सेवन वर्कआउट के बाद बिलकुल मना होता है। डालिए इन पर एक नज़र: 

1. कच्‍ची सब्जियां: हरी और पत्‍तेदार सब्जियों का सेवन बहुत जरूरी होता है। इनमें बहुत सारे पोषक तत्‍व होते हैं जो शरीर को भरपूर ऊर्जा देते हैं। आप इन्‍हें सूप के रूप में भी ले सकते हैं। लेकिन वर्कआउट के ठीक बाद इन्‍हें न लें। 

2. मिठाईयां: मिठाईयों का सेवन न करें। इनमें शक्‍कर की मात्रा बहुत ज्‍यादा होती है। केक और पेस्‍ट्रीज़ से भी दूर रहें। ये शरीर को दुर्बल बना देती हैं। वर्कआउट के बाद इन्‍हें न खाएं।  

3. मसालेदार खाना: मसालेदार भोजन, पेट में कई तरह की गड़बडियां पैदा कर देता है और ऊर्जा के नाम पर आपको कुछ नहीं मिलता है। साथ ही इनके सेवन से वर्कआउट भी बेकार चला जाता है। 

4. वसायुक्‍त फूड्स: वसा युक्‍त आहार का सेवन कतई न करें। समोसा, चिप्‍स आदि से दूर रहे हैं। इन्‍हें खाने के बाद वर्कआउट बेकार चला जाता है। 

5. बीन्‍स: हर प्रकार की बीन्‍स में बहुत सारे पोषक तत्‍व होते हैं। लेकिन इनसे गैस और अपच की शिकायत हो सकती हैं। इसलिए, वर्कआउट के ठीक बाद इन्‍हें न लें। आप भोजन में इनका इस्‍तेमाल कर सकते हैं।

 6. एनर्जी बार: बहुत सारे एनर्जी बार में फैट और शुगर ही होती है। यही कारण है कि इनके सेवन के बाद आपको ऊर्जा महसूस होती है। लेकिन ये आपके शरीर के ब्‍लड़ सुगर को अनियंत्रित कर देते हैं। वर्कआउट के बाद इन्‍हें खाने की भूल न करें।




सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Tuesday, October 11, 2016

आयुर्वेद के अनुसार पानी पीते समय जरूर ध्यान रखनी चाहिए ये बातें


पानी के बिना जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती है। कहते हैं शरीर को स्वस्थ रखने के लिए दिनभर में कम से कम आठ से दस गिलास पानी जरूर पीना चाहिए। पानी पीना फायदेमंद तो होता ही है, लेकिन तब जब सही मात्रा में और सही तरीके से पिया जाए। अगर पानी को गलत तरीके से पिया जाए या गलत समय में अधिक मात्रा में पिया जाए तो वह शरीर को नुकसान पहुंचा सकता है, ऐसा आयुर्वेद में वर्णित है।




आयुर्वेद को जीवन का विज्ञान माना जाता है,भोजन से लेकर जीवनशैली तक की चर्चाएं इस शास्त्र में समाहित हैं। आज हम आयुर्वेदिक ग्रन्थ अष्टांग संग्रह (वाग्भट्ट) में बताए गए पानी पीने के कुछ कायदों से आपको रूबरू कराने का प्रयास करते हैं। चलिए जानते हैं पानी कब, कैसे और कितना पीना चाहिए……

1. भक्तस्यादौ जलं पीतमग्निसादं कृशा अङ्गताम!!
खाना खाने से पहले यदि पानी पिया जाए तो यह जल अग्निमांद (पाचन क्रिया का मंद हो जाना) यानी डायजेशन में दिक्कत पैदा करता है।

2. अन्ते करोति स्थूल्त्वमूध्र्वएचामाशयात कफम!
खाना खाने के बाद पानी पीने से शरीर में भारीपन और आमाशय के ऊपरी भाग में कफ की बढ़ोतरी होती है। सरल शब्दों में कहा जाए तो खाने के तुरंत बाद अधिक मात्रा में पानी पीने से मोटापा बढ़ता है व कफ संबंधी समस्याएं भी परेशान कर सकती हैं।

3. प्रयातिपित्तश्लेष्मत्वम्ज्वरितस्य विशेषत:!!
आयुर्वेद के अनुसार बुखार से पीड़ित व्यक्ति प्यास लगने पर ज्यादा मात्रा में पानी पीने से बेहोशी, बदहजमी, अंगों में भारीपन, मितली, सांस व जुकाम जैसी स्थिति पैदा हो सकती है।


4. आमविष्टबध्यो :कोश्नम निष्पिपासोह्यप्यप: पिबेत!
आमदोष के कारण होने वाली समस्याओं जैसे अजीर्ण और कब्ज जैसी स्थितियों में प्यास न लगने पर भी गुनगुना) पानी पीते रहना चाहिए।

5. मध्येमध्यान्ग्तामसाम्यं धातूनाम जरणम सुखम!!
खाने के बीच में थोड़ी मात्रा में पानी पीना शरीर के लिए अच्छा होता है। आयुर्वेद के अनुसार खाने के बीच में पानी पीने से शरीर की धातुओं में समानता आती है और खाना बेहतर ढंग से पचता है।


6. अतियोगेसलिलं तृषय्तोपि प्रयोजितम!
प्यास लगने पर एकदम ज्यादा मात्रा में पानी पीना भी शरीर के लिए बहुत नुकसानदायक होता है। ऐसा करने से पित्त और कफ दोष से संबंधित बीमारियां होने की संभावना बढ़ जाती है।

7. यावत्य: क्लेदयन्त्यन्नमतिक्लेदोह्य ग्निनाशन:!!
पानी उतना ही पीना चाहिए जो अन्न का पाचन करने में जरूरी हो, दरअसल अधिक पानी पीने से भी डायजेशन धीमा हो जाता है। इसलिए खाने की मात्रा के अनुसार ही पानी पीना शरीर के लिए उचित रहता है।


8. बिबद्ध : कफ वाताभ्याममुक्तामाशाया बंधन:!
पच्यते क्षिप्रमाहार:कोष्णतोयद्रवी कृत:!!
कफ और वायु के कारण जो भोजन नहीं पचा है उसे शरीर से बाहर कर देता है। गुनगुना पानी उसे आसानी से पचा देता है।



सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


इन आठ आयुर्वेदिक तरीकों से पाएं स्वस्थ जीवन और रहें बीमारियों से दूर



हर इंसान स्वस्थ जीवन जीना चाहता है। लोग अपनी पूरी जिंदगी स्वस्थ जीवन जीने की कोशिश में गुजार देते हैं। सबके तरीके अलग होते हैं, कोई योग का सहारा लेता है तो कोई दवाओं का, कोई घरेलू उपचार का तो कोई उपचार के पश्चिमी तरीकों का। सभी का लक्ष्य होता है कि वो ऐसी स्थिति बना पाएं जिसमें वो शारीरिक व मानसिक दोनों प्रकार के रोगों से मुक्त रहें। इसी लक्ष्य की प्राप्ति के लिए आयुर्वेद सालों से कुछ विशेष तरीकों को अपनाता आया है, जिसे अपनाकर आप एक स्वस्थ जीवन जी सकते हैं।


आइए जाने आयुर्वेद के ऐसे ही 8 तरीकें।
1-मेडिटेशन (Meditation)



मेडिटेशन आयुर्वेद की एक ऐसी प्राचीन विधि है जिसे अब पूरी दुनिया में अपनाया जा रहा है। स्वस्थ जीवन और एकाग्रता बढ़ाने के लिए मेडिटेशन का इस्तेमाल किया जाता है। मेडिटेशन से आपका मन शांत रहता है और आप काफी रिलेक्स महसूस करते हैं। ये खुद पर कंट्रोल करने की शक्ति प्रदान करता है।अगर आप हर वक्त तनाव में रहते हैं तो मेडिटेशन करें। इससे आपको बहुत फायदा मिलेगा। मेडिटेशन में श्वास जागृति के साथ साथ मूविंग मेडिटेशन या योग भी शामिल होता है। मेडिटेशन की वो तकनीक अपनाएं, जो आपको अच्छे से समझ आए। जितना आप मेडिटेशन का अभ्यास करेंगे, उतना वो आपके लिए आसान हो जाएगा।


2-प्राणायाम (श्वसन से प्रक्रिया संबंधित व्यायाम)



प्राणायाम एक ऐसी क्रिया है जो खुली हवा में की जाती है। प्राणायाम का मतलब है अपने सांस को नियंत्रित करने के साथ ही रेग्युलेट करना जिससे शरीर और मन दोनों स्वस्थ रहते हैं। प्राणायाम एक बहुत आसान क्रिया है। प्राणायाम की कपालभाति क्रिया बहुत लोकप्रिय है। इस प्राणायाम में श्वांस को दोनो नासिका द्वारा पूरी शक्ति के साथ निकालते रहें। इस प्राणायाम से चेहरा कान्तिमय एवं तेजमय होता है तथा दमा, ब्लडप्रशैर, शुगर, मोटापा, कब्ज, गैस, डिप्रेशन, प्रोस्टेट एवं किडनी सम्बन्धित सभी रोगों में बहुत ही लाभ होता है।
3-जीभ की सफाई



टंग स्क्रैपिंग या जीभ की सफाई आयुर्वेद के अनुसार आपके स्वस्थ रहने के लिए बहुत जरूरी है। अगर आपके टेस्ट बड्स यानि स्वाद कलिका बैक्टिरीया और प्लाक से ढके रहेंगे तो आपको खाने का स्वाद नहीं आएगा। इससे आप अधिक नमक या अधिक चीनी खा सकते हैं। टंग स्क्रैपर को आराम से जीभ पर चलाएं। एक दो मिनट तक हर दिशा में सफाई के बाद कुल्ला कर लें।

4-बॉडी मसाज



मसाज करने के शरीर को बहुत फायदे हैं। इससे शरीर में ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है, त्वचा को कसाव मिलता है, मांसपेशियों की ताकत बढ़ती है। शरीर के साथ साथ ही मन पर भी मसाज का अच्छा प्रभाव पड़ता है। मसाज करने से तनाव दूर होता है, और हल्कापन महसूस होता है। आयुर्वेद मसाज के लिए तिल का तेल या फिर नारियल के तेल की सलाह देता है। मसाज करने के लिए तेल को हल्का गर्म कर लें, फिर घड़ी की सुईयों की दिशा में हल्के हाथ से मसाज कीजिए।
5-पसीना बहाना (स्वेदन)



आपकी त्वचा डिटॉक्सीफिकेशन का सबसे बड़ा अंग है। जब त्वचा ताप के संपर्क में आती है तो उसमें से शरीर की अशुद्धियां पसीने के रूप में निकल जाती हैं। पसीना बहने से सर्कुलेशन भी बढ़ता है, और आपके शरीर में जरूरत जितना पानी ही बचता है। स्वेदन एक आयुर्वेदिक स्पा ट्रीटमेंट है जिसमें पूरे शरीर की तेल मसाज होती है फिर स्टीम दिया जाता है। इससे शरीर की सारी अशुद्धियां रोमछिद्रों के माध्यम से बाहर निकल जाती है। इसके अलावा, आप जिम में जाकर व्यायाम कर सकते हैं, दौड़ सकते हैं।

6-दोपहर को खाएं भारी खाना



आयुर्वेद का मानना है कि जब सूर्य अपने उच्चतम बिंदु पर होता है, यानि दोपहर 12 बजे से लेकर 1 बजे के बीच, वो समय हमारी पाचन क्षमता अपने उत्कर्ष पर होती है। हालांकि इसका मतलब ये नहीं है कि इस समय आप जरूरत से ज्यादा खा लें। इसका मतलब ये है कि आप नाश्ते और रात के खाने में हल्का खाना खाएं, और दिन में उनकी तुलना में थोड़ा भारी खाना खा सकते हैं।
7-गर्म पानी और अदरक की चाय



ठंडा पानी आपकी पाचन क्रियाओं में बाधा डाल सकता है। इसकी बजाय गुनगुना या हल्का गर्म पानी पिएं। साथ में, अदरक वाली चाय। आयुर्वेद के अनुसार, अदरक की चाय पाचन क्षमता को बढ़ाती है। शुरूआत में सुबह एक कप अदरक की चाय से शुरूआत करे। अगर आपकी सेहत पर इसका अच्छा असर पड़ने लगे तो धीरे-धीरे दिन में दो से तीन कप तक सेवन बढ़ा लें।

8-अधिक भावुक होने पर न खाएं



अगर आप पर कोई गहरी भावना हावी होती है तो ऐसा बोता है कि आप सारा ध्यान खाने पर नहीं लगा पाते। इससे आपको पाचन में दिक्कत हो सकती है, आप गलत खाना चुन सकते हैं या फिर खाना खाने के बाद आपको संतुष्टि नहीं मिलेगी। इसलिए इंतज़ार करें, जब आपकी भावनाएं नियंत्रण में आ जाएं, तब खाना खाएं।



सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


शहद के साथ दालचानी के लाभ



हर महिला की चाह होती है कि वे खूबसूरत और दुबली पतली दिखें। अगर आप भी मोटापा कम करना चाहती हैं, तो आप दालचीनी और शहद को अपने दिन में एक बार जरूर सेवन करें।

1.शहद और दालचीनी के सबसे अच्छा तरीक है कि आप इस की चाय बनाकर पीयें। इस चाय को पीने के बाद आपकी बॉडी कर मेटाबॉलिज्म भी बढाती है। जिससे आपको कोई बीमारी जल्दी नहीं आयेगी। ऐसे में शहद और दालचीनी से बनी चाय का सेवन कर सकते हैं। तो आइये जानते हैं-

शहद में हजारों गुण मौजूद होते हैं। शहद आपके मेटाबॉलिज्म को सही रखने में मदद करता है। इसके सेवन से बॉडी में एनर्जी बनी रहती है और मोटापा कम होता है। शहद कोलेस्ट्रॉल को ज्यादा बनने नहीं देता। इससे आप एक्टिव रहते हैं।




2.दालचीनी और शहद के पावडर का पेसट बनाएं और इसे रोटी पर चुपड कर खाने से बहुत फायदा होता है।




3.शहद व दालचीनी की चाय का नियमित सेवन करते हैं तो आपके शरीर को एनर्जी और मेटाबॉलिजम के लिए एक बार में कुछ ही कैलरी की जरूरत होती है।




अगर आपको कोलेस्ट्रॉल बढा हुआ है और आप उसे कम करने के लिए कोई उपाय खोज रहे हैं तो दालचीनी का इस्तेमाल आपके लिए लाभकारी रहेगा।




सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Monday, October 10, 2016

हर रोग से छुटकारा दिलाएगी 1 कप तुलसी और हल्‍दी की चाय


आज की इस भाग दौड़ भरी जिंदगी में बहुत से लोग ऐसे हैं जो ना तो ठीक से खाते हैं और ना ही ठीक से सो पाते हैं। इसमें से ज्‍यादातर नौकरी शुदा लोग हैं जिसमें से युवाओं की संख्‍या ज्‍यादा है। अच्‍छी दिनचर्या ना होने से शरीर को कई रोग लग जाते हैं, जिसकी वजह से हमें रोज़ डॉक्‍टरों के चक्‍कर लगाने पड़ते हैं। तो अगर आप भी इनमें से एक हैं तो आज हम आपको एक नेचुरल ड्रिंक के बारे में बताएंगे, जिसे रोजाना नियमित पीने से आप का शरीर रोगों से मुक्‍त हो जाएगा। 

यह पेय है तुलसी और हल्‍दी का, जिसमें आधी मुठ्ठी तुलसी को एक कप पानी में उबाल कर उसमें आधा चम्‍मच हल्‍दी पावडर या ताजी हल्‍दी की गांठ को काट कर मिला दें। फिर इसे गरम करें और पेय को छान कर पी जाएं। आइये जानते हैं इस पेय को पीने से क्‍या क्‍या लाभ मिलते हैं। कफ से दिलाए छुटकारा तुलसी और हल्‍दी का मिश्रण कफ को दूर करने के लिये काफी फायदेमंद हो सकता है क्‍योंकि यह गले की सूजन को दूर करता है और कफ को भगाता है।   अस्‍थमा के लिये यह पेय respiratory tract को चौड़ा करता है जिससे सांस लेने में आसानी होती है और अस्‍थमा से आराम मिल जाता है। किडनियों को साफ करे यह घरेलू पेय आपकी किडनियों से गंदगी को साफ करने में मदद करती है और आपके शरीर को शुद्ध और स्‍वस्‍थ बनाती है।

 तनाव दूर करे इसे पीने से दिमाग की नसें शांत होती हैं और दिमाग तक ब्‍लड का फ्लो बढता है जिससे तनाव दूर होता है। कब्‍ज से छुटकारा इसे नियमित पीने से पेट की सभी तकलीफें जैसे कब्‍ज आदि दूर होता है। 

एसिडिटी भी दूर करे यह पेट में जा कर एसिड के लेवल को बैलेंस करता है जिससे एसिडिटी दूर होती है। अल्‍सर ठीक होता है यह एक नेचुरल ड्रिंक है, जो शरीर की हर समस्‍या को ठीक करता है, जैसे पेट या मुंह का अल्‍सर आदि। पाचन क्रिया सुधारे यह खाना पचाने वाले जूस को सक्रिय करता है, जिससे पाचन क्रिया दुरुस्‍त होती है और खाना बडे़ आराम से हजम होता है। सिरदर्द दूर करे इस ड्रिंक को रोजाना सुबह पीने से आपको साइनस और तनाव की वजह से पैदा हुए सिरदर्द से छुटकारा मिल सकता है। एलर्जी से छुटकारा मिलता है यह ड्रिंक आपके शरीर को अंदर से डिटॉक्‍स करता है और कुछ प्रकार की एलर्जी से छुटकारा भी दिलाता है। कैंसर से बचाए प्रोस्‍टेट कैंसर और ब्रेस्‍ट कैंसर इसको पीने से नहीं होते क्‍योंकि इस पेय में पावर फुल phytonutrients पाए जाते हैं। कोलेस्‍ट्रॉल घटाए यह शरीर में जमा हुए फैट टिशू को घोल देता है जिससे कोलेस्‍ट्रॉल कम होने लगता है।





















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


पपीते से बाल लंबे करने के उपाय


रूखे व बेजान बाल आपके सर पर रखें घोसले की तरह नज़र आते हैं। हवा का ज़रा सा झौंका आपके बालों को बिखेर कर चला जाता है। इन बिखरे बालों को समेटने के लिए आपको किसी कॉस्मेटिक की नहीं बल्कि आपके फ्रीज में पडे पपीते को इस्तेमाल में लाने की जरूरत है।

कहते हैं कि पपीते में पपाइन नाम का एक एंजाइम होता है। यह एंजाइम आपके बालों को जडों से मजबूत कर उन्हें लंबा व खूबसूरत बनाता है।


इन लाभों के कारण आज हम आपको पपीते से बनने वाले कुछ हैर मास्क बताने जा रहे हैं। इन्हें आप रसोई में मौजूद सामग्री के साथ आसानी से तैयार कर सकते हैं। इन सरल पपीता हैर मास्क पर एक नज़र डालें।






1 पपीता व दही से बना हैर मास्क
पपीते व दही का यह मास्क आपके बालों को मुलायम बनाएगा तथा सर की खुजली से छुटकारा दिलाएगा। इस मास्क को तैयार करने के लिए कटोरी में मुट्ठी भर पपीता डालें फिर उसमें 2 चम्मच दही मिलाएं। दोनों चीजों को मिलाकर एक मुलायम पेस्ट तैयार करें। फिर इस पूरे मास्क को अपने बालों में लगाकर उन्हें एक साफ तौलिए से लपेटें। पैक को बालों में एक घंटे के लिए रहने दें। बाद में, बालों को शैंपू करें।


2 पपीता, नारियल का दूध व शहद का बना मास्क
इन तीनों चीज़ों को मिलाकर बनने वाला मास्क आपके बालों को जडों से मज़बूत बनाएगा। एक कटोरी में 3 चम्मच पपीता, 1 चम्मच नारियल का दूध व 1 चम्मच शहद दें। इन तीनों चीज़ों को मिलाकर एक मास्क तैयार करें। मास्क को एक घंटे तक बालों में रहने दें और बाद में शैंपू करके अपने बालों को धो लें। शैंपू के बाद कंडीश्नर भी लगाएं। हफ्ते में एक बार इस मास्क को अपने बालों में लगाएं।


3 पपीता, जैतून का तेल व शहद का बना हैर मास्क
इन प्राकृतिक चीजों में मौजूद तत्व आपके बालों को चमकदार तथा बालों को लंबा करने में सहायक साबित होंगे। इस मास्क को बनाने के लिए एक कटोरी में 3-4 चम्मच मसले हुए पपीते के डालें। फिर इसमें 1 चम्मच जैतून का तेल व 1 चम्मच शहद डालें। इस मास्क को बालों के साथ बालों की जडों में भी लगाएं। लगाने के बाद मास्क को 45 मिनट के लिए रहने दें। बाद में शैंपू करके धो लें।


4 पपीता, केला व शहद का बना हैर मास्क
क्या आप अपने रूखे व बेजान बालों से परेशान हैं? और चाहती हैं कि वो चमकदार और स्ट्रेट लगे तो पपीते, केले व शहद से बनने वाले इस मास्क को आज़माएं। इसके लिए एक पके केले में 7-8 टुकडे पपीते के डालकर मसलें। फिर इसमें 1 चम्मच शहद डालें। इस सारी सामग्री से एक पेस्ट तैयार करें। इस पेस्ट को अपने पूरे बालों में लगाएं। इस पेस्ट को 2-3 घंटों के लिए रहने दें। अतः अपने बालों को शैंपू से धोएं।


5 पपीता, नींबू के रस व शहद का बना हैर मास्क
खुजली एवं रूसी से छुटकारा पाने के लिए इस मास्क को सप्ताह में एक बार लगाएं। एक कटोरी में 8-9 टुकडे पपीते के लें। इन्हें मसल कर इसमें 2 चम्मच नींबू का रस व 1 चम्मच शहद मिलाएं। इस मिश्रण को अपनी खोपड़ी में लगाएं तथा हलके हाथों से सर की मालिश करें। मास्क को 1 घंटे के लिए बालों में रहने दें और बाद में शैंपू करें।




सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Sunday, October 9, 2016

यदि पिएंगे सुबह खाली पेट चाय तो बॉडी पर होंगे ये साइड इफेक्ट्स


सुबह खाली पेट रहने पर बॉडी में एसिड की मात्रा बढ़ती है। चाय में भी एसिड होता है। ऐसे में अगर खालीपेट चाय पिएंगे तो एसिड की मात्रा ज्यादा बढ़ेगी जिससे एसिडिटी और अन्य हेल्थ प्रॉब्लम हो सकते हैं। इसलिए सुबह चाय पीने से पहले कुछ जरूर खाना चाहिए। हम बता रहे हैं खालीपेट चाय से होने वाले ऐसे ही नुकसान के बारे में।



1. खाली पेट ब्लैक टी पीने से पेट फूलता है।

2. चाय एसिडिक होती है। खाली पेट पीने से एसिडिटी बढाती है।

3. चाय खाली पेट में गैस्ट्रिक म्यूकोसा बढ़ा देती है जिससे भूख कम होती है।


4. चाय में टेनिन होता है। इससे खाली पेट चाय पीने से उल्टी जैसा फील होता है।

5. एक दिन में 4-5 कम चाय पीने से पुरुषों में प्रोस्टेट कैंसर की संभावना हो सकती है।


6. खाली पेट पीने से चाय बॉडी में प्रोटीन और दूसरे न्यूट्रिएंट्स का अब्जॉर्बेशन कम करती है।

7. खाली पेट दूध वाली चाय पीने से थकान महसूस होती है और चिड़चिड़ापन बढ़ता है।


8. ज्यादा स्ट्रांग चाय पीने वालों को अल्सर होने का खतरा रहता है।

9. अदरक की चाय खाली पेट पीने से गैस की प्रॉब्लम हो सकती है।

10. चाय में कैफीन, एल-थायनिन और थियोफाइलिन होता है। इससे खाली पेट पीने से अपच हो सकती है।

चाय पीने का सही तरीका-
डॉक्टर्स के अनुसार चाय के साथ हमेशा बिस्कुट या अन्य कोई स्नैक्स लेने चाहिए। चाय के साथ बिस्‍कुट या अन्‍य चीज़ें खाने से पेट दृारा चाय अच्‍छी तरह से पचा ली जाती है। दूसरी ओर चाय के साथ नमकीन या मीठा खाने से शरीर को सोडियम की प्राप्‍ती होती है, जिससे अल्‍सर नहीं होता।





















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Saturday, October 8, 2016

6 तरीके जिनसे आपकी त्वचा मिनिटों में चमकने लगेगी


इस बात को मानें कि 9-5 की नौकरी, महिला होने के नाते करियर और परिवार की जिम्मेदारियों के बीच संघर्ष करते हुए तथा सामाजिक दायित्व निभाते हुए यह बताने की आवश्यकता नहीं है कि हम महिलाओं के पास समय ही नहीं बचता!  यदि खुद के लिए कुछ करने की बात हो तो हम फेस मास्क लगाने के बजाय कुछ घंटे सोना पसंद करते हैं। इसलिए हम आपको कुछ ऐसे तरीके बता रहे हैं जिनसे आपकी त्वचा मिनिटों में चमकने लगेगी। 

त्वचा पर चमक लाने वाले इन उपायों को करने में 2 मिनिट से अधिक समय नहीं लगता तथा ये आपके फैंसी स्पा की तुलना में निश्चित ही सस्ते हैं और त्वचा के लिए सुरक्षित हैं। आइए त्वचा पर चमक लाने वाले इन उपायों के बारे में जानें। मिल्क वाइप (दूध से चेहरा पोछें) ठन्डे कच्चे दूध में रुई का टुकड़ा डुबायें। अतिरिक्त दूध को निकाल दें और धीरे से इस रुई से चेहरे को पोछें। इसे सूखने दें। फिर इसे ठन्डे पानी से धो डालें। इस आयुर्वेदिक उपचार में भरपूर मात्रा में लेक्टिक एसिड होता है जो त्वचा की गंदी परत को हटा देता है और अंदर छुपी हुई साफ़ त्वचा को बाहर निकालता है। नीचे की ओर सिर करके खड़े हो जाएँ हम जानते हैं कि यह थोडा अजीब लग रहा होगा, पर आगे हमारी बात सुनें। अपने बिस्तर पर लंबवत इस प्रकार लेटें कि आपका सिर बाहर की ओर हो। लगभग 2 मिनिट तक इसी स्थिति में रहें फिर वापस आ जाएँ। इससे आपकी गरदन और चेहरे की ओर रक्त प्रवाह बढ़ जाता है जिससे आपका चेहरा चमकने लगता है। 

बर्फ़ यह ग्लोइंग त्वचा प्राप्त करने के लिए सबसे आसान उपाय है। बर्फ़ का तापमान कम होने के कारण यह जली हुई त्वचा को आराम पहुंचाती है, खुले हुए रोम छिद्रों को बंद करती है और रक्त प्रवाह बढ़ाती है जिससे आपकी त्वचा चमकने लगती है। अधिक टोनिंग के लिए अपना प्रिय फ्रूट जूस आइस ट्रे में रख दें और इसका उपयोग त्वचा पर चमक लाने के लिए करें। भाप लें परंतु कुछ बदलाव के साथ उपयोग की जा चुकी ग्रीन टी बैग को उबलते हुए पानी में डालें। इसमें कुछ बूँदें एसेंशियल ऑइल की मिलाएं। 2 मिनिट तक भाप लें और फिर ठन्डे पानी से चेहरा धो डालें। रोज़ वॉटर स्प्रे (गुलाब जल का स्प्रे) आपको पार्टी के लिए जाना है और आपकी त्वचा खिली हुई नहीं है? ग्लोइंग स्किन के लिए इस प्राकृतिक तरीके को अपनाएँ। 

रोज़ वॉटर स्प्रे को एक घंटे के लिए फ्रिज में रख दें। बेजान त्वचा पर रोज़ वॉटर छिडकें। इसे त्वचा पर सूखने दें। आपकी त्वचा तुरंत ही खिल उठेगी। चेहरे को थपथपाएं ये वाकई असरदार है! चेहरा साफ़ करने के बाद पूरे चेहरे पर मॉस्चराइज़र थपथपाएं। साफ़ उंगली की सहायता से चेहरे को थपथपाएं ताकि रक्त प्रवाह बढ़े। अब क्रीम से ऊपर की दिशा में मसाज करें। इससे चेहरे की त्वचा आसानी से मॉस्चराइज़र को सोख लेगी और आपका चेहरा चमक उठेगा।









सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Health Benefits of Aloe Vera



एलोवेरा में विटामिन्स, मिनरल्स, एमिनो एसिड, एंजाइम, पॉलिसैचेराइड्स और फैटी एसिड्स जैसे लगभग 200 तत्व पाए जाते हैं, जिनका इस्तेमाल बहुत सारी बीमारियों में घरेलू उपचार के तौर पर किया जाता है। एलोवेरा की पत्तियों में पाए जाने वाले जैल में 99 प्रतिशत पानी होता है। तकरीबन 5000 साल में दवाओं के रूप में इसका उपयोग किया जा रहा है। आइए जानते हैं एलोवेरा के कुछ ऐसे ही फायदों के बारे में।







1. विटामिन्स और मिनरल्स का खजाना एलोवेरा
एलोवेरा में विटामिन ए, सी, ई, फॉलिक एसिड, कोलीन, बी1, बी2, बी3 और बी6 पाया जाता है। एलोवेरा उन पौधों में भी शामिल है जिसमें विटामिन बी12 भी होता है और करीब 20 प्रकार के मिनरल्स जिनमें कैल्शियम, मैग्नीशियम, जिंक, क्रोमियम, सेलेनियम, सोडियम, आयरन, पोटैशियम, कॉपर और मैंगनीज शामिल हैं।


2. एमिनो एसिड्स और फैटी एसिड्स की अधिक मात्रा
एमिनो एसिड्स प्रोटीन के निर्माण के लिए बहुत जरूरी होते हैं। बॉडी को तकरीबन 22 एमिनो एसिड्स की जरूरत होती है जिनमें 8 बहुत ही जरूरी होते हैं। अकेले 18-20 एमिनो एसिड्स और 8 जरूरी एसिड्स एलोवेरा में पाए जाते हैं। इसके साथ ही इसमें बहुत ही जरूरी फैटी एसिड्स भी पाए जाते हैं, जिनमें HCL कोलेस्ट्रॉल, कैम्पेस्टेरॉल और बी-सिटोस्टेरोल शामिल हैं जो शरीर को कई प्रकार की एलर्जी, अपच से बचाते हैं।

3. डिटॉक्सिफिकेशन करता है
ऐलोवेरा की पत्तियों में पाया जाने वाला जैल बहुत ही कारगर होता है। इसका काम शरीर के एक्स्ट्रा टॉक्सिन्स को बाहर निकालना है, जो कैंसर का मुख्य कारण होते हैं। शरीर से जब सारी बेकार की चीजें बाहर निकल जाती हैं, तो इम्यूनिटी पावर बढ़ जाती है और उसमें अनेक प्रकार के रोगों से लड़ने की क्षमता आ जाती है।


4. पाचन में सहायक होता है
खराब खाने से पाचन क्रिया पर असर पड़ता है जिससे कई प्रकार की बीमारियों शुरू हो जाती हैं। पेट का सीधा संबंध सेहत से होता है। एलोवेरा खाने से पेट की अंदरूनी सफाई हो जाती है। इससे पाचन से संबंधित कई प्रकार की समस्याएं खत्म हो जाती हैं। डायरिया और कब्ज जैसे प्रॉब्लम्स कोसों दूर रहती हैं। पेट के कैंसर की संभावनाएं भी काफी कम हो जाती हैं। यह पेट के एक्स्ट्रा बैक्टीरिया को मारकर आंतों को सुरक्षित रखता है।

5. कॉर्डियोवैस्कुलर हेल्थ
एलोवेरा जैल में बहुत सारे ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो ब्लड में आसानी से घुल जाते हैं। इससे शरीर में ऑक्सीजन का प्रवाह अच्छे से होता है जो कॉर्डियोवैस्कुलर हेल्थ के लिए बहुत ही जरूरी होता है। ब्लड प्रेशर, ब्लड के सर्कुलेशन, कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल के साथ ही ब्लड क्लॉटिंग को भी रोकता है जिससे दिल कई प्रकार की बीमारियों से सुरक्षित रहता है।


6. शरीर को एल्कलाइज रखता है
एलक्लाइन बॉडी से बीमारी काफी दूर रहती है। अच्छी सेहत के लिए शरीर में 80 प्रतिशत एलक्लाइन और 20 प्रतिशत एसिड की मात्रा होनी चाहिए। एलोवेरा में ये सारे गुण होते हैं जो बॉडी में सारे जरूरी एसिड्स की मात्रा को बनाए रखते हैं। यह पेट के साथ ही सेहत के लिए भी काफी अच्छा रहता है।

7. स्किन के लिए फायदेमंद
एलोवेरा में ऐसे तत्व मौजूद होते हैं जो धूप, धूल, प्रदूषण के कारण होने वाले स्किन की कई प्रकार की समस्याओं से दूर रखते हैं। इसके जैल को चेहरे पर लगाने से पिंपल्स, कील-मुहांसे, दाग-धब्बों से छुटकारा मिलता है। पानी की 99 प्रतिशत मात्रा एस्ट्रिंजेंट की तरह काम करती है, साथ ही बॉडी को हाइड्रेट भी रखती है। चेहरे पर इसके जैल को लगाकर कुछ ही दिनों में कोमल त्वचा पाई जा सकती है और साथ ही स्किन इन्फेक्शन से भी बचा जा सकता है।


8. बॉडी की इम्यूनिटी बढ़ाता है
भागदौड़ भरी जिंदगी, गलत तरीके से खान-पान का सीधा असर हेल्थ पर पड़ता है। एलोवेरा में पाए जाने वाले पॉलिसैचेराइड्स, वायरस से लड़कर कई प्रकार की बीमारियों से शरीर को सुरक्षित रखते हैं। इसके साथ ही इसमें एंटी-ऑक्सीडेंट्स भी बहुत ज्यादा मात्रा में पाया जाता है, जो फ्री रैडिकल्स की समस्या को दूर करता है। इससे त्वचा लंबे समय तक जवां दिखती है।

9. सूजन कम करने में कारगर
एलोवेरा में पाए जाने वाले 12 तत्व जिनमें बी-सिस्टेरोलभी शामिल है जो चोट के कारण होने वाली सूजन की समस्या से राहत दिलाते हैं। इतना ही नहीं, जोड़ों में होने वाले दर्द, कड़ेपन को खत्म करता है।

10. मोटापा कम करने में फायदेमंद
पाचन क्रिया को सही रखता है, शरीर की सारी गंदगी को बाहर निकालता है। मोटापे से परेशान लोगों को एलोवेरा का सेवन करना चाहिए। यह वजन कम करने में बहुत ही कारगर है। इसके साथ ही इससे बॉडी को जरूरी एनर्जी भी मिलती है।





















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Friday, October 7, 2016

HOME TIPS: Get rid of skin Finelines




चेहरे की त्वचा पर प्राय: काले या सफेद कलर के धब्बे हो जाते हैं। इन्हें झांइयां पिगमेंटेंशन कहा जाता है। झांइयां होने से चेहरे का आकर्षण खत्म हो जाता है। झांइयां उत्पन्न होने आंतरिक एवं बाहृा- दोनों ही कारण हैं। गर्भावस्था, रजोनिवृत्ति, मासिकधर्म तथा वयसंधि काल आदि समय में आंतरिक अनियमितता को वजह से शारीरिक हार्मोन में परिवर्तन होता है जिससे किसी-किसी महिला के चेहरे पर झांइयां उत्पन्न हो जाती हैं।




एक चम्मच गाजर का रस, एक चम्मच मुलतानी मिट्टी, एक चम्मच संतरे का रस और आधा चम्मच नींबू का रस इनसबको ठीक से मिलाकर झांइयों पर लगाएं। आधा घंटे बाद ठंडे पानी से धो लें। यह प्रयोग सप्ताह में एक बार करें।




झांइयां अधिक काली होने पर आधा चम्मच एरंड का तेल और आधा चम्मच नींबू का रस दोनों को मिलाकर झांइयों पर सप्ताह में दो बार लगाएं।




एक पिसा बादाम और एक चम्मच संतरे के छिलके का पाउडर दोनों को कच्चे दूध में मिलाकर पेस्ट बना लें। इसे चेहरे और गर्दन की झांइयों पर लगाएं। एक घंटे बाद ठंडे पानी से धो लें।




आधा चम्मच मलाई और आधा चम्मच कच्ची पिसी हल्दी दोनों को मिलाकर अपने चेहरे की झांइयों पर लगाएं। यह प्रयोग नियमित रूप से करने पर लाभ दिखाई देगा।




एक चम्मच टमाटर का रस, चम्मच तुलसी के पत्तों का रस, आधा चम्मच हरा धनिया के पत्तों का रस और आधा चम्मच पुदीने का रस इन सबको मिलाकर रूई के फाहे से झांइयों पर लगाएं। यह प्रयोग सप्ताह में तीन बार करें। शीघ्र ही लाभ दिखाई देगा।








सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


8 of these amazing benefits of gourd



कहीं आप लौकी से परहेज तो नहीं करते ? कई लोग सब्जियों में लौकी खाना पसंद नहीं, करते और इसे खाने से हमेशा बचते रहते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं, कि लौकी आपके आलस के दूर करने के साथ ही वजन भी कम करती है। हम बता रहे हैं, लौकी के 8 ऐसे ही गुण जो आपके लिए फायदेमंद होंगे, आइए जानते हैं -

1 ताजगी - लौकी को हल्की सब्जियों में गिना जाता है। इसे खाने से पेट में भारीपन नहीं रहता, बल्कि यह शरीर में ताजगी बनाए रखने में सहायक है। प्रतिदिन तरोताजा बने रहने के लिए, नमक या मसाले डालकर लौकी का जूस पीना कारगर उपाय है। 

2 वजन कम - लौकी का सबसे बड़ा फायदा है, कि यह आपका वजन बहुत जल्दी कम करने में सहायक होती है। इसलिए इसे उबालकर नमक के साथ खाया जाता है, या फिर इसका जूस पिया जाता है।

3 पाचन - लौकी पाचन संबंधी समस्याओं का उत्तम इलाज है, साथ ही यह एसिडिटी में भी लाभप्रद है। लौकी को अपने भोजन में शामिल करने से पाचन क्रिया को बेहतर किया जा सकता है।

4 डाइबि‍टीज - डाइबिटीज के मरीजों के लिए लौकी का सेवन एक प्रभावकारी उपाय है। डाइबि‍टीज में खाली पेट लौकी का सेवन करना बेहतर होगा।

5 यूरिनरी डिसऑर्डर - यूरिनरी डिऑर्डर अर्थात मूत्र संबंधी समस्याओं में भी लौकी बेहतर कारगर उपाय है। यह शरीर में सोडियम की अधि‍कता को कम करने में सहायक है, जो यूरिन के जरिए बाहर निकल जाता है।

6 नैचुरल ग्लो - लौकी का प्रतिदिन सेवन करने से त्वचा में प्राकृतिक चमक आती है, और वह आकर्षक दिखाई देती है। कई महिलाएं व युवतियां इसके लिए लौकी का प्रयोग करती हैं।


7 कोलेस्ट्रॉल - लौकी को भोजन में शामिल करने से हानिकारक कोलेस्ट्रॉल बहुत आसानी से धीरे- धीरे कम होने लगता है, जिससे हृदय संबंधी या कोलेस्ट्रॉल से होने वाली अन्य समस्याएं नहीं होती। इसके लिए लौकी का जूस एक आदर्श पेय माना जाता है।


8 लौकी में भरपूर मात्रा में डायट्री फायबर, विटामिन- ए, विटामिन -सी, थायमिन, राइबोफ्लेविन, विटामिन- बी3, बी6, मिनरल्स, कैल्श‍ियम, आयरन, मैग्नीशि‍यम, फास्फोरस, पोटेशि‍यम, सोडियम और जिंक पाया जाता है, जो आपको स्वस्थ बनाए रखता है।
सावधानी -
1 लौकी के जूस का सेवन करते समय यह ध्यान रखें, कि इसे किसी अन्य वेजिटेबल जूस के साथ मिक्स न करें।
2 लौकी का जूस बनाने से पहले उसे टेस्ट कर लें, यदि वह कड़वी हो तो उसका सेवन बिल्कुल न करें। इसमें टेट्रासायक्ल‍िक होता है, जो आपको डिहाइड्रेशन, जी मचलाना, गैस जैसी समस्याएं दे सकता है।
तो अब लौकी से परहेज कैसा....? इसे भोजन में शामिल करें और हमेशा स्वस्थ रहें। है ना फायदे का सौदा ...







सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


5 great benefits of potatoes, you do not know



व्रत-उपवास हो, विशेष व्यंजन या फिर सामान्य खाना...आलू सभी में स्वाद और पोषण देता है। क्या आप जानते हैं इसके 5 फायदे...? जरूर जानिए आलू के यह 5 खास और जादुई लाभ -


1 गुर्दे की पथरी में केवल आलू खाते रहने पर बहुत लाभ होता है। पथरी के रोगी को केवल आलू खिलाकर और बार-बार अधिक पानी पिलाते रहने से गुर्दे की पथरियां और रेत आसानी से निकल जाती हैं।

2 रक्तपित्त बीमारी में कच्चा आलू खाना या इसका जूस पीना बेहद फायदेमंद होता है। वहीं भुना हुआ आलू पुरानी कब्ज और आंतों की सड़ांध दूर करने में मददगार है।


3 शरीर पर कहीं जल गया हो, तेज धूप से त्वचा झुलस गई हो, त्वचा पर झुर्रियां हों या कोई त्वचा रोग हो तो कच्चे आलू का रस निकालकर लगाने से फायदा होता है। आलू को पीसकर त्वचा पर मलने से रंग गोरा होता है।

4 आलू में पोटेशियम सॉल्ट होता है जो अम्लपित्त को रोकता है। चार आलू सेंक लें और फिर उनका छिलका उतार कर नमक, मिर्च डालकर नित्य खाएं। इससे गठिया ठीक हो जाता है। 


5 उच्च रक्तचाप के रोगी भी आलू खाएं तो रक्तचाप को सामान्य बनाने में लाभ करता है। आलू का रस दूध पीते बच्चों और बड़े बच्चों को पिलाने से वे मोटे-ताजे हो जाते हैं। आलू के रस में शहद मिलाकर भी पिला सकते हैं।










सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Thursday, October 6, 2016

Faces will fill it beautifully and yogurt Neem Face Pack



क्‍या आप रोज-रोज अलग-अलग तरह के ब्‍यूटी प्रोडक्‍ट ट्राई कर के थक चुकी हैं? वैसे हम आपकी जानकारी के लिये बता दें कि ये प्रोडक्‍ट चेहरे का कहीं से भला नहीं करते बल्‍कि उल्‍टा नुकसान ही पहुंचाते हैं। 

 अगर आपको कोई ऐसा नेचुरल प्रॉडक्‍ट चाहिये जो चेहरे को गोरा और दाग धब्‍बों से छुटकारा दिलाए, तो नीम और दही का फेस पैक आपके लिये सबसे अच्‍छा रहेगा। नीम की पत्‍तियों को धो कर साफ करें और ब्‍लेंडर में 2 चम्‍मच पानी के साथ मिला कर पीस लें। फिर इस पेस्‍ट में 2 चम्‍मच दही मिलाएं और पेस्‍ट तैयार करें। READ:12 तरह के नीम फेस पैक जो त्‍वचा बनाएं साफ और बेदाग आइये जानते हैं इस फेस पैक को चेहरे पर लगाने से क्‍या क्‍या फायदे मिलते हैं।  इस स्‍किन पैक में विटामिन और न्‍यूट्रियन्‍ट्स होते हैं जो कि स्‍किन की सेल्‍स को अंदर से पोषण पहुंचाते हैं और चेहरे को चमकदार बनाते हैं। 
 दाग धब्‍बों को हल्‍का करे यह पैक प्राकृतिक तरीके से दाग धब्‍बों को हील कर के स्‍किन के डैमेज टिशू को रिपेयर करता है जिससे दाग धब्‍बे हल्‍के होने लगते हैं।  

सूरज की किरणों से बचाए इसे नियमित रूप से चेहरे पर लगाने से त्‍वचा सूरज की तेज किरणों से बची रहेगी। एक्‍ने कम करे इस पैक में एंटीबैक्‍टीरियल गुण होते हैं जो एक्‍ने पैदा करने वाले बैक्‍टीरिया का सफाया करते हैं। वाइट स्‍किन टोन यह घरेलू स्‍किन पैक चेहरे को वाइट स्‍किन टोन देगी क्‍योंकि यह प्राकृति रूप से चेहरे को ब्‍लीच करता है। त्‍वचा के घावों को दूर करे यह पेस्‍ट चेहरे पर या शरीर के कहीं भी हिस्‍से पर पड़े घावों को दूर करता है चाहे वह जलने का निशान हो या फिर कोई रैश। इसमें एंटीसेप्‍टिक गुण होते हैं। 

 स्‍किन को कोमल बनाए इस पैक में दही भी होती है जो चेहरे को नमी प्रदान करती है। इसलिये इस पैक को चेहरे पर लगाने से स्‍किन सॉफ्ट हो जाती है। डार्क स्‍पॉट हटाए दही और नीम को मिलाने से चेहरे के डार्क स्‍पॉट दूर होते हैं और ब्‍लैकहेड्स भी निकल जाते हैं।






















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Tuesday, October 4, 2016

Take the problem of stains, to remove acne Honey Face Mask


पुराने जमाने से ही शहद का इस्‍तमाल औषधियों में किया आता जा रहा है। शहद को चेहरे पर लगाने से भी काफी प्रभाव पड़ता है क्‍योंकि इसमें नेचुरल एंजाइम्‍स होते हैं जो चेहरे की गंदगी को अंदर से साफ करते हैं और उसके पोर्स को टाइट बना कर चेहरे पर रौनक वापस लाते हैं।  

शहद एक नेचुरल मॉइस्‍चराइजर है जो चेहरे के अंदर आसानी से समा जाती है और उसे पोषण पहुंचाती है। इसके अलावा इसमें एंटीबैक्‍टीरियल और एंटीसेप्‍टिक गुण भी समाए होते हैं, जो बैक्‍टीरिया से मुक्‍ती दिला कर चेहरे पर मुंहासे होने से रोकता है। तो आइये अब जानते हैं शहद के प्रयोग से कैसे बनाए चेहरे के लिये फेस मास्‍क... स्‍क्रब की तरह करें प्रयोग चेहरे को बिना नुकसान पहुंचाए अगर स्‍क्रब करना है तो आप हर्बल हनी फेस मास्‍क का प्रयोग करें। एक चम्‍मच शहद को एक चम्‍मच जोजोबा ऑइल के साथ मिक्‍स कर के चेहरे की मसाज गोलाई में करें। फिर इसे 30 मिनट तक रखने के बाद धो लें। 

पिंपल के लिये मास्‍क इस मास्‍क को लगाने से आपके पिंपल सूख जाएंगे। 1 टी स्‍पून दालचीनी पावडर के साथ एक चम्‍मच शहद मिक्‍स करें और पेस्‍ट बनाएं। अब इसे चेहरे पर लगा कर 30 मिनट के लिये छोड़ दें और फिर ठंडे पानी से धो लें। काले धब्‍बों के लिये मास्‍क चेहरे से दाग धब्‍बों को हटाने के लिये जरुरी है कि चेहरे को विटामिन A, K, B6 और बीटा कैरोटीन मिले। इसके लिये गाजर को उबाल कर मसल लें और उसमें 2 चम्‍मच शहद मिलाएं। फिर इसे पेस्‍ट बना कर चेहरे और गर्दन पर लगाएं। 15 मिनट के बाद चेहरे को धो कर पोछ लें। 

  चेहरे को गोरा बनाने वाला मास्‍क इस मास्‍क में चेहरे को विटामिन B1, B6 और C मिलेगा, जिससे स्‍किन टाइट और गोरी बनेगी। 1 चम्‍मच दूध में उतना ही शहद और 1 चम्‍मच आलू का जूस मिलाएं। इससे चेहरे की मसाज करें और 30 मिनट तक छोड़ने के बाद धो लें।टैनिंग मास्‍क इस मास्‍क को लगाने से चेहरे में ग्‍लो आएगा। 1 चम्‍मच शहद में चुटकीभर हल्‍दी मिक्‍स करें और साफ चेहरे पर लगा लें। 20 मिनट के बाद चेहरा सूखने के बाद इसे स्‍क्रब कर के निकाल लें।

 एंटी एजिंग मास्‍क इस मास्‍क में काफी सारा प्रोटीन है, जिससे चेहरे की झुर्रियां गायब हो जाती हैं। एक कटोरे में अंडे का सफेद भाग लें, उसमें आधा चम्‍मच शहद मिलाएं और इसको अच्‍छी तरह से फेंट लें। फिर इसे चेहरे पर लगाएं और जब यह सूख जाए तब इसे मसल कर छुडा लें और चेहरे को धो लें।




















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Monday, October 3, 2016

Cardamom shall be to control high BP




हाइपर टेंशन से जूझ रहे लोग, अपने लाइफस्‍टाइल में अगर थोड़ा सा परिवर्तन ले आएं तो उन्‍हें अपनी समस्‍या से आसानी से छुटकारा मिल जाएगा। साथ ही दवा आदि का प्रतिदिन सेवन भी नहीं करना पड़ेगा।

डॉक्‍टर्स का भी मानना है कि हाइपर टेंशन से जूझने वाले लोग, नियमित रूप से सक्रिय रहें, बाहर जाएं, टहलें और खुश रहें, इससे उन्‍हें बीमारी को दूर करने में बहुत लाभ मिलेगा।

उच्‍च रक्‍तचाप को दूर भगाने के लिए सबसे पहले आपको जंक फूड का सेवन रोकना होगा और घर पर पकने वाले खाने को ही खाना होगा। कोशिश करें कि खाने में कम नमक का इस्‍तेमाल करें। कम नमक, बढ़े हुए रक्‍तचाप को कम कर देता है और आपके वजन को भी नियंत्रित रखने में सहायक होता है।


नमक कम खाने के अलावा, आपको कुछ प्राकृतिक उत्‍पादों का सेवन भी करना चाहिए, इससे रक्‍तचाप नियंत्रण में रहेगा। इनमें से प्राकृतिक उपाय इलायची है।

जी हां, इलायची सिर्फ जा़यका ही नहीं बल्कि अच्‍छी हेल्‍थ भी देती है। इसकी एरोमा, आपको अच्‍छी लगती है लेकिन इसके गुण आपके शरीर के लिए अच्‍छे होते हैं। चूकिं इसका स्‍वाद हल्‍का मीठा है तो आप राइस आदि बनाते समय इसे डाल सकती हैं। इलायची में एंटीऑक्‍सीडेंट भी होते हैं जो शरीर को फिट रखते हैं।




इलायची का इस्‍तेमाल कैसे करें?
आप चाय बनाते हुए इसे कूटकर डाल सकती हैं। चाहें तो चावल या पुलाव बनाते हुए इसे डाल दें। अपनी प्रतिदिन की खुराक में इलायची को शामिल करें। यह पाचन क्रिया को दुरूस्‍त रखती है और माउथफ्रेशनर का काम भी करती हैं।


जिन लोगों का रक्‍तचाप बहुत ज्‍यादा हो जाता है और उन्‍हें एक दिन में कम से कम चार इलायची का सेवन कर लेना चाहिए। अगर आप खाने में इसे नहीं डालना चाहते हैं तो कोई बात नहीं। यूं ही चबाकर खा जाएं।





सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Applying the paste of fenugreek leaves in the hair and the link 10 benefits


लंबे, घने और खूबसूरत बालों की चाह भला किसे नहीं होती लेकिन सभी को यह खूबसूरती मिल पाए यह मुमकिन नहीं। पर अगर आप अपने बालों की केयर अच्‍छे से करेंगी तो आपके बाल आपको थैंक्‍स जरुर बोलेंगे।

हमारे घरों में कडी पत्‍ती और मेथी काफी आसानी से उपलब्‍ध हो जाती है। आज हम आपको इसका हेयर पैक बनाना सिखाएंगे और इससे क्‍या लाभ मिलेंगे ये भी बताएंगे। इस पैक को बनाने के लिये एक ब्‍लेंडर में थोड़ी सी कडी पत्‍ती और भिगोइ हुई मेथी डालें। ऊपर से थोड़ा सा पानी भी डालें और फिर इसको पीस कर पेस्‍ट बनाएं।


इस हेयर मास्‍क को बालों में 15 मिनट तक लगाए रखें और फिर बालों को धो लें। अब आइये जानते हैं इससे क्‍या फायदे होते हैं।


बालों को बनाए मुलायम
यह नेचुरल हेयर पैक बालों को नमी देता है और उसे मुलायम बनाता है।







दो मुंहे बालों से छुटकारा दिलाए
यह घरेलू पैक आपके दो मुंहे बालों को नमी देगा और उन्‍हें दो मुंहे होने से बचाएगा।



बालों में चमक भरे
मेथी और कडी पत्‍ते में विटामिन होने के नाते यह बालों में अंदर से चमक भरता है।


सफेद बालों से छुटकारा
इसे नियमित बालों में लगाने से बालों की सफेदी चली जाती है। यह पैक बालों की सेल्‍स को अंदर से पोषण देता है और उन्‍हें ग्रे होने से बचाता है।


बालों का झड़ना रोके
यह बालों को पोषण पहुंचाता है और उनकी जड़ों को कस के जोड़ कर रखता है।


रूसी से छुटकारा दिलाए
इस हेयर पैक में एंटी बैक्‍टीरियल गुण होते हैं जो कि बैक्‍टीरिया का नाश करते हैं और रूसी से छुटकारा दिलाते हैं।

सिर की सफाई करे
जब यह मिश्रण नींबू के साथ मिक्‍स कर के सिर पर लगाया जाएगा तो यह सिर से अत्‍यधिक तेल और गंदगी को निकालेगा तथा सिर की सफाई करेगा।


बालों में बाउंस भरे
यह हेयर पैक बालों को घना और बाउंसी बनाता है।


सिर से तेल निकाले
यह सिर पर जमे हुए अत्‍यधिक तेल को कम करता है जिससे बालों को जल्‍दी शैंपू करने की जरुरत नहीं पड़ती।




सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Sunday, October 2, 2016

Health benefits of eating boiled vegetables in Hindi



उबाल कर खाए इन 10 सब्जियों को, मिलेंगी दुगनी ताकत – आज हम आपको इस लेख में उन सब्जियों के बारे में बता रहे है जिन्हें उबालने पर उनके पौष्टिक गुणों में वृद्धि होती है।


1. गाजर (Carrot)


गाजर प्लेन पानी में मुठ्ठी भर गाजर काट कर डालें। इसमें एक चुटकी नमक और थोड़ी सी काली मिर्च मिक्स करें। फिर इसे उबाल कर खाएं, यह आपकी आंखों के लिये काफी पौष्टिक होगी।


2. चुकन्‍दर (Beet root)


चुकंदर खून की कमी और पीरियड्स की समस्या को दूर रखने के लिये दिन में एक चुकंदर उबाल कर खाना चाहिये। चुकंदर को 3 मिनट से ज्यादा नहीं उबालना चाहिये।


3. आलू (Potato)


आलू जब भी आप आलू खाएं तो उसे उबाल कर ही खाएं क्योंकि उसमें कम कैलोरीज़ होती हैं।


4. बींस (Beans)


बींस को कम से कम 6 मिनट तक उबालें। फिर उसमें चुटकी भर नमक और काली मिर्च मिलाएं। उबली हुई बींस मधुमेह के लिये अच्छी होती है।


5. पालक (Palak)


वैज्ञानिकों का कहना है कि अगर हरी पत्तेदार सब्जियों को उबाल कर खाया जाए तो उसकी ताकत दोगुनी बढ़ जाती है। खास तौर पर मेथी और पालक की सब्जियां।

6. स्‍वीट कार्न (Sweet Corn)


स्वीट कार्न को उबालने में काफी पानी और समय लगता है। पर इस को हम बिना उबाले खा भी नहीं सकते। स्वीट कार्न में पोषण और ढेर सारे रेशे होते हैं जो कि कब्ज को दूर रखता है।

7. शकरकंद (Sweet Potato)


शकरकंद में काफी सारा कार्ब होता है जो कि शरीर के लिये बेहद जरुरी है। अगर आप डाइटिंग पर हैं तो शकरकंद खाएं।

8. फूल गोभी (Cauliflower)


भाप में पकी हुई फूल गोभी काफी पौष्टिक मानी जाती है। ऐसा करने पर इसमें मौजूदा न्‍यूट्र्रियन्‍ट्स और विटामिन्स नष्ट नहीं हो पाते।

9. पत्‍ता गोभी (Cabbage)


पत्ता गोभी जब उबाल कर खाई जाती है, तो उसका टेस्ट और भी ज्यादा बढ़ जाता है। उबालने के लिये जिस पानी का उपयोग किया गया हो, उसा प्रयोग कर लेना चाहिये क्योंकि इसमें सबसे ज्यादा पोषण होता है।

10. ब्रॉकली (Broccoli)


ब्रॉकली को उबाल कर खाने में ज्यादा टेस्ट मालूम पड़ता है। अगर आपको यह डिश सादी ही खानी हो तो उबालते समय इसमें थोड़ा सा ऑलिव ऑयल मिला लें।



सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


White hair treatment gharelu tips in Hindi


कम उम्र में बाल सफेद होना आजकल एक आम समस्या है। इस समस्या के सबसे मुख्य कारण फास्ट लाइफ कल्चर में बालों की ठीक से देखभाल न हो पाना और प्रदूषण आदि हैं। ऐसे में कम उम्र में आई सफेदी को छुपाने के लिए डाई करना या कलर करना ही एकमात्र विकल्प नहीं है।कुछ घरेलू नुस्खे आजमा कर भी सफेद बालों को काला किया जा सकता है। हम आपको बताने जा रहे हैं कुछ ऐसे ही सिंपल घरेलू फंडे जिनसे आप कम उम्र में सफेद हुए बालों को फिर से काला बना सकते हैं।




1. तुरई को काटकर नारियल तेल में उबालें व जब तुरई काली हो जाए, तब उसे छानकर किसी बोतल में भर लें। रोजाना इस तेल को बालों में लगाएं। धीरे-धीरे बाल काले होने लगेंगे।

2. तिल का तेल तो बालों के लिए अच्छा होता ही है। साथ ही, इसका सेवन भी बहुत लाभ पहुंचाता है। यदि आप अपने भोजन में तिल को शामिल कर लें तो आपके बाल लंबे समय तक काले और घने बने रहेंगे।

3. सिर धोने के लिए शिकाकाई पाउडर या माइल्ड शैम्पू का इस्तेमाल करें।

4. एक कप चाय का पानी उबालकर उसमें एक चम्मच नमक मिलाएं। इस मिश्रण को बाल धोने से एक घंटे पहले बालों में लगाएं। बाल काले होने लगेंंगे।


5. नारियल तेल में ताजे आंवला को इतना उबाले कि वह काला हो जाए। इस मिश्रण को ठंडा करके रात को सोने से पहले बालों में लगा लें व सुबह बाल धोएं।

6. अदरक को पीसकर उसमें थोड़ा शहद मिलाकर पेस्ट बनाएं और अपने सिर पर लगाएं। इस उपाय को रोजाना अपनाने से सफेद बाल फिर से काले होने लगते हैं।


7. बालों में रोजाना सरसों का तेल लगाने से बाल हमेशा काले रहेंगे।

8. नारियल तेल में मीठे नीम की पत्तियां को इतना उबाले की पत्तियां काली हो जाएं। इस तेल के हल्के हाथों से बालों की जड़ों पर लगाएं। बाल घने व काले हो जाएंगे।


9. रोजाना खाली पेट आंवले का जूस पिएं। बाल लंबी उम्र तक काले रहेंंगे।

10. सूखे आंवले को पानी में भिगोकर उसका पेस्ट बना लें। इस पेस्ट में एक चम्मच युकेलिप्टस का तेल मिलाएं। मिश्रण को एक रात तक लोहे के बर्तन में रखें। सुबह इसमें दही, नींबू का रस व अंडा मिलाकर बालों पर लगाएं। बालों में नई जान आ जाएगी। 15 दिन तक यह प्रयोग करने से सफेद बाल काले होने लगते हैं।

11. आंवला जूस, बादाम तेल व नींबू का जूस मिलाकर बालों की जड़ों में लगाएं बालों में चमक आ जाएगी व सफेद भी नहीं होंगे।

12. बालों में एलोवेरा जेल लगाने से भी बाल गिरना बंद हो जाते हैं और जल्दी सफेद नहीं होते।

13. रोजाना सुबह थोड़ी मात्रा में आंवला जूस लेने से भी बाल लंबी उम्र तक काले बने रहते हैं।

14. कम उम्र में सफेद होते बालों पर एक ग्राम काली मिर्च में थोड़ा दही मिलाकर सिर में लगाने से भी लाभ होता है।

15. गाय के दूध का मक्खन लेकर हल्के हाथों से बालों की जड़ों में लगाएं। जल्द ही फायदा दिखने लगेगा।

16. आपने अपने घर के बुजुर्गों को सिर पर देसी घी से मालिश करते हुए देखा होगा। घी से सिर की त्वचा को पोषण मिलता है। प्रतिदिन घी से सिर की मालिश करके भी बालों के सफेद होने की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है।

17. 2 चम्मच हिना पाउडर, 1 चम्मच दही, 1 चम्मच मेथी, 3 चम्मच कॉफी, 2 चम्मच तुलसी पाउडर, 3 चम्मच पुदीना पेस्ट मिलाकर बालों में लगाएं। तीन घंटे बाद शैम्पू करें। कम उम्र में सफेद हुए बाल फिर काले हो जाएंगे।

18. मेहंदी को नारियल तेल में मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को बालों में लगाने से बालों का रंग आकर्षक डार्क-ब्राउन होने लगता है।

19. 200 ग्राम आंवला, 200 ग्राम भांगरा, 200 ग्राम मिश्री, 200 ग्राम काले तिल इन सभी का चूर्ण बनाकर रोजाना 10 ग्राम मात्रा में लेने से कम उम्र में सफेद हुए बाल फिर से काले होने लगेंगे।

20. बाल धोने में नींबू पानी का उपयोग करें। इससे बाल नेचुरली ब्राउन होने लगते हैं व सफेद नहीं होते हैं।

21. नींबू का रस और नारियल तेल मिलाकर स्कल्प पर नियमित रूप से लगाने पर बाल काले होते हैं।

22. आंवला व आम की गुठली को पीसकर उसे सिर में लगाने से सफेद बाल काले हो जाएंगे।

23. बालों में नीम का तेल व रोज मेरी तेल का इस्तेमाल करने से बाल सफेद नहीं होते हैं।

24. प्याज का रस निकालकर उसे बालों की जड़ों में हल्के हाथों से लगाएं बाल घने व काले होने लगेंगे।

25. आंवला पाउडर में नींबू का रस मिलाकर या ताजे हरे आंवले को पीसकर सिर में लगाने से बाल घने व काले हो जाते हैं।




















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Saturday, October 1, 2016

20 home remedies for dandruff removal

लगातार खुजलाने से स्थितियाँ और खराब हो जाती हैं और दाने पड़ जाते हैं। रूसी वाला शैम्पू खरीदने की रस्म अदायगी को छोड़िये और नीचे लिखे 20 घरेलू नुस्खों को अपनाइये जो कि आपकी रूसी की चिन्ताओं को समाप्त कर देंगीं। आज सर में रूसी की समस्‍या बहुत आम हो चुकी है। इसकी वजह से बाल झड़ना तथा खुजली मचने जैसी समस्‍या और पैदा हो जाती है। लेकिन इससे पहले की आप इस समस्‍या का इलाज ढूढें, उससे पहले रूसी के पीछे के कुछ आश्चर्यजनक तथ्‍य को जान लें। हम में से कई लोग यह मानते हैं कि सर में रूसी तभी होती है, जब हमारे सर की त्‍वचा रूखी होती है। लेकिन यह कारण बिल्‍कुल ही गलत है क्‍योंकि इसके पीछे छुपी हुई है एक यीस्‍ट, जो कि सर की मृत्‍य त्‍वचा को खा कर जीती है या फिर सर में जमें हुए तेल को। इस वजह से हमारे सर की त्‍वचा कोशिका बहुत जल्‍दी-जल्‍दी झडने लगती है और हम समझते हैं कि हमारे सर में रूसी हो गई है। 

नींबू से धुलना 3-4 नीबुओं के छिलके उतारकर उन्हें 4-5 कप पानी में 15-20 मिनट के लिये उबालें। जब ठंडा हो जाये तो इस घोल से सप्ताह में कम से कम एक बार अपने बालों को धोयें। 

मेथी से उपचार 2 चम्मच मेंथी को रात भर पानी में भिगोयें और अगली सुबह उन्हें पीस कर लेप बना लें। इस लेप को अपने बालों और सिर पर कम से कम 30 मिनट के लिये लगायें। 30 मिनट के बाद बालों को अच्छी तरह से धुलें। बेहतर परिणाम के लिये इस प्रक्रिया को चार हफ्तों के लिये दोहरायें।   

नींबू रस से मालिश करना नहाने से पूर्व नींबू रस से अपने सिर की मालिश करें। 15 से 20 मिनट के बाद अपने बालों को अच्छी तरह से धुलें। यह उपचार चिपचिपेपन को दूर करता है, रूसी को रोकता है और आपके बालों को चमकीला बनाता है। 

सिरके से उपचार सिरके और पानी की समान मात्रा में मिलाकर एक मिश्रण बना लें। इस मिश्रण को अपने सिर पर लगाकर रात भर के लिये छोड़ दें। अगली सुबह अपने बालों को बच्चों वाले सौम्य शैम्पू से धुलें।

 दही का घोल अपने सिर और बालों पर थोड़ा सा दही लगाकर कम से से कम एक घण्टे इन्तजार करें। इसके बाद सौम्य शैंपू से इसे अच्छी तरह धो लें। यह प्रक्रिया सप्ताह में कम से कम दो बार करें। 

आपके बालों के लिये अण्डे दो अण्डों को फेंटकर बने लेप को अपने सिर पर लगायें और एक घण्टे बाद अच्छी तरह से धो लें। इस उपचार से आपके बालों में रूसी तथा बालों का गिरना कम होगा। 

गुनगुने तेल की मालिश बादाम, नारियल या जैतून के गुनगुने तेल से सिर की मालिश करने से रूसी कम होगी। मालिश के बाद तेल को सिर पर रात भर के लिये छोड़ें। 

एलो वेरा का प्रयोग नहाने से 20 मिनट पूर्व एलो वेरा जेल अपने सिर पर लगायें। 20 मिनट के लिये छोड़ने के बाद अपने बालों को शैम्पू से धुलें। 

नारियल तेल 1 चम्मच नींबू के रस के साथ 5 चम्मच नारियल तेल का मिश्रण बनायें और इसे अपने सिर पर लगायें। इस मिश्रण को लगाने के 20 से 30 मिनट बाद अच्छे शैम्पू से धुलें। 

अपने सिर को सेब द्वारा बचायें सेब और सन्तरे की बराबर मात्रा लेकर उसका लेप बना लें और फिर इसे अपने सिर पर लगायें। इस लेप को लगाने के 20 से 30 मिनट बाद सिर को शैम्पू से धुलें। 

नीम की पत्तियों का लेप नीम की कुछ पत्तियों को पतला पीस कर लेप बना ले और सीधे अपने सूखे सिर पर लगायें। इस लेप एक घण्टे तक रखने के बाद गरम या ठण्डे पानी से इसे साफ करें।

 तुलसी का जादू तुलसी और आँवले के पाउडर को पानी के साथ मिश्रित कर लेप बना लें। इस लेप की मालिश सिर पर करें। लगभग आधे घण्टे के लिये लेप लगा रहने दें। इसके बाद पानी और शैंपू की मदद से बालों को अच्छी तरह से धुलें। 

रूसी के लिये लहसुन 2 चम्मच लहसुन के पाउडर के साथ एक चम्मच नींबू रस मिलाकर लेप बना लें। इस लेप को सिर पर लगा के 30 से 40 मिनट के लिये छोड़ें। फिर इसको शैम्पू और ठण्डे पानी से अच्छी तरह से धो डालें। 

रीठा आप रीठा वाले साबुन का उपयोग कर सकते हैं या रीठा पाउडर का पतला लेप बनाकर अपने सिर पर लगायें। इसे 2 घण्टे बाद शैंपू और ठण्डे पानी से धो डालें। 

प्याज का लेप अपने सिर पर प्याज का लेप लगायें और इसे एक घण्टे तक लगा रहने दें। इसे अच्छी तरह से धोने के बाद ताजे नींबू रस से मालिश करें जिससे कि बालों से प्याज की बदबू निकल जाये। 

अदरक और चुकन्दर का लेप कुछ अदरक और चुकन्दर को पीसकर लेप बना लें। इस लेप से सिर पर मालिश करें और रात भर के लिये छोड़ दें। अगली सुबह अच्छी तरह से धो लें और इस प्रक्रिया को 4 से 5 रातों के लिये दोहरायें। 

बेसन उपचार दही के साथ मिलाकर बेसन का लेप अपने सिर पर लगायें। 20 से 30 मिनट बाद ठण्डे पानी से धोयें। 

बेकिंग सोडा उपचार शैम्पू करते समय एक चुटकी बेकिंग सोडा अपने बालों में डालकर मालिश करें। 15 से 20 मिनट बाद इसे धो डालें।

 रोज़मेरी तकनीक रोज़मेरी की पत्तियों को सिरके के साथ निचोड़े और फिर इसे अपने सिर पर 15 से 20 मिनट के लिये लगायें। फिर अच्छी तरह से बालों को धोयें। रूसी के उपचार के लिये आप सिर पर रोज़मेरी तेल और नारियल तेल का मिश्रण भी लगा सकते हैं। 

नियमित रूप से बालों को धुलें प्राकृतिक घरेलू नुस्खों से अपने बालों को रोज अथवा एकान्तर दिवसों पर धुलकर रूसी से बचा जा सकता है। बालों का ध्यान रखकर और सिर की भलीभाँति सफाई से भी रूसी से बचा जा सकता है।
























सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें ।