Wednesday, August 31, 2016

सरसों के तेल में हल्‍दी मिला कर खाएं, होंगे फायदे






अपनी निजी जिंदगी में हम सभी किसी ना किसी रोग से पीडित हैं। चाहे वह कब्‍ज, भूख ना लगना, अस्‍थमा या हृदय से संबन्‍धित बीमारी ही क्‍यूं ना हो।

इन बीमारियों को ठीक करने के लिये हम अच्‍छे खासे पैसे भी खर्च करते हैं मगर उससे भी कोई फरक नहीं पड़ता। हम आपको बताना चाहेंगे कि हमारे किचन में ही कुछ ऐसी सामग्रियां रखी हैं, जो दवाइयों को भी फेल कर सकती हैं।

अपनी निजी जिंदगी में हम सभी किसी ना किसी रोग से पीडित हैं। चाहे वह कब्‍ज, भूख ना लगना, अस्‍थमा या हृदय से संबन्‍धित बीमारी ही क्‍यूं ना हो। इन बीमारियों को ठीक करने के लिये हम अच्‍छे खासे पैसे भी खर्च करते हैं मगर उससे भी कोई फरक नहीं पड़ता। हम आपको बताना चाहेंगे कि हमारे किचन में ही कुछ ऐसी सामग्रियां रखी हैं, जो दवाइयों को भी फेल कर सकती हैं। कहने का मतलब है कि सरसों का तेल और हल्‍दी तो हर किचन में मौजूद होता है। बस 2 टीस्‍पून सरसों के तेल में 1 टीस्‍पून हल्‍दी मिला कर 2 मिनट तक गरम कीजिये और फिर इसे एक चम्‍मच में डाल कर मुंह में डाल लीजिये।ऐसा हफ्ते में तीन बार खाना खाने के बाद करें। यह मिश्रण आपको किन -किन बीमारियों से राहत दिलाता है, आइये जानते हैं इसके बारे में -




भूख को उत्तेजित करे: इसका सेवन करने से पेट में खाना पचाने वाले जूस का प्रोडक्‍शन तेज हो जाता है, जिससे आपको अच्‍छी भूख लगने लगती है।

कब्‍ज से राहत दिलाए: अगर कब्‍ज की काशियत है तो हल्‍दीऔर सरसों के तेल का नियमित सेवन करना चाहिये।
दिल के लिये लाभकारी: ये दो सामग्रियां शरीर से खराब कोलेस्‍ट्रॉल को निकालती हैं, जिससे हृदय तक खून का फ्लो अच्‍छा हो जाता है।
कैंसर से बचाए: इस घरेलू उपचार से शरीर में बनने वाली कैंसर की सेल्‍स का विकास होता है क्‍योंकि इनमें phytonutrients और एंटीऑक्‍सीडेंट काफी भारी मात्रा में पाया जाता है।

अस्‍थमा से राहत दिलाए: इसके सेवन से फेफड़ों की जकड़न दूर होती है और अस्‍थमा से राहत मिलती है।
शारीरिक दर्द से छुटकारा दिलाए: ये दोंनो मिश्रण जब एक साथ मिलते हैं तो इनमें सूजन को खत्‍म करने वाला गुण पैदा होता है। यह शरीर के किसी भी हिस्‍से से दर्द और सूजन को कम कर सकते हैं।





















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Tuesday, August 30, 2016

कब्‍ज के लिए लाभकारी घरेलू नुस्‍खे


कब्‍ज की समस्‍या कभी भी हो सकती है, लेकिन अगर यह कई दिन तक रहे तो इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। इसमें दवाओं के प्रयोग से अच्‍छा है कि आप घरेलू नुस्‍खों की शरण में जायें। कब्‍ज के लिए त्रिफला पाउडर या चूरन बहुत प्रभावी हैं। इसे गर्म पानी के साथ एक चम्मच लें, रात को सोते समय या सुबह खाली पेट पाउडर को शहद के साथ मिलाकर लें सकते हैं। इसके अलावा किशमिश में फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता है, एक मुठ्ठी किशमिश को रातभर भिगो कर रख दें। सुबह खाली पेट इसका सेवन करने से कब्‍ज की समस्‍या दूर होती है। अमरूद के पल्प में घुलनशील फाइबर और बीजों मे अघुलनशील फाइबर होता है। नींबू रस अंतड़ियों को साफ करता है, इसमें मौजूद नमक पेट को साफ करने में मदद करता है। एक ग्लास गर्म पानी में नींबू रस मिलाएं, इसमें थोड़ा सा नमक मिला लें, कब्ज से राहत पाने के लिए खाली पेट इसका सेवन करें।



सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


सुंदर व निखरी त्‍वचा पाने के लिए आप प्राकृतिक उपचार


अपना रूप निखारने के लिए हम क्‍या-क्‍या नहीं करते। तमाम तरह के सौंदर्य प्रसाधनों को अपने चेहरे और त्‍वचा पर मलते-घिसते फिरते हैं। लेकिन, इनसे कई बार रूप को नुकसान भी पहुंचता है। आप ही बताइये कुदरत से खूबसूरत क्‍या है भला। और सुंदर व निखरी त्‍वचा पाने के लिए आप प्राकृतिक सामग्रियों को इस्‍तेमाल किया जा सकता है। हम आपको कुछ ऐसे उपचार बता रहे हैं जिनका इस्‍तेमाल कर आप अपनी त्‍वचा को स्‍वस्‍थ व सुंदर बना सकते है




1 प्राकृतिक सौंदर्य सुंदर व निखरी त्‍वचा पाने के लिए आप प्राकृतिक उपचार





अपना रूप निखारने के लिए हम क्‍या-क्‍या नहीं करते। तमाम तरह के सौंदर्य प्रसाधनों को अपने चेहरे और त्‍वचा पर मलते-घिसते फिरते हैं। लेकिन, इनसे कई बार रूप को नुकसान भी पहुंचता है। आप ही बताइये कुदरत से खूबसूरत क्‍या है भला। और सुंदर व निखरी त्‍वचा पाने के लिए आप प्राकृतिक सामग्रियों को इस्‍तेमाल किया जा सकता है। हम आपको कुछ ऐसे उपचार बता रहे हैं जिनका इस्‍तेमाल कर आप अपनी त्‍वचा को स्‍वस्‍थ व सुंदर बना सकते हैं।
2
सेल्युलाईट



महिलाओं के शरीर के कुछ हिस्‍सों विशेष रूप से जांघों और हिप्‍स पर फैट का जमाव हो जाता है। इस जमाव से बचने के लिए आप 1/2 कप कैफीन कॉफी ग्राउन्ड के साथ 2 बड़े चम्‍मच जैतून के तेल को लेकर माइक्रोवेव में 10 सेकंड के लिए रखें। फिर अखबार पर खड़े होकर सेल्‍युलाईट स्‍पॉट पर इस मिश्रण को लगाकर इसको प्‍लास्टिक से कवर कर दें। 20 मिनट के बाद प्‍लास्टिक को निकाल दें। अच्‍छे परिणाम पाने के लिए एक सप्‍ताह में 2-3 बार 6 सप्‍ताह के लिए दोहराये।
Image Courtesy : Getty Images

3
फाइन लाइन



चेहरे पर पड़ने वाली फाइन लाइन यानी बारीक झुर्रियां खासतौर पर आंखों, मुंह और माथे के आस-पास पड़ी लाइन खूबसूरती को कम कर देती है। इस समस्‍या का समाधान आप प्राकृतिक उपायों द्वारा कर सकते हैं। इसके लिए आप हरे अंगूर को मैश करके, इसका रस निकाल लें। फिर इस रस को कॉटन की मदद से आंखों, मुंह और माथे के आसपास पड़ी लाइन पर उपयोग करें। 5 मिनट के बाद चेहरे को धो लें। अच्‍छे परिणाम के लिए इस उपाय को सप्‍ताह में 2-3 बार दोहरायें।

4
आंखों में पफीनेस



आंखों के नीचे सूजन (पफीनेस) मुख्य रूप से वॉटर रिटेंशन व वसा के जमाव के कारण होती है। उम्र बढ़ने के कारण भी आंखों के नीचे सूजन आ जाती है। कुछ लोगों में वंशानुगत भी यह समस्या देखने को मिलती है। समस्या के पीछे कारण चाहे कुछ भी हो, लेकिन इसका निदान जरूरी है।इस समस्‍या से बचने के लिए आप एक अंडे के सफेद हिस्‍से को अच्‍छे से फेंट लें। फिर ब्रश की मदद से इस मिश्रण को पफी आंखों पर लगाये। 15 मिनट लगा रहने के बाद इसे धो लें।

5 झुर्रियों का निदान



वैसे तो बढ़ती उम्र के साथ झुर्रियां आ ही जाती हैं, लेकिन आजकल की भागती दौड़ती जिंदगी में यह समस्‍या समय से पहले आने नजर आने लगी है। झुर्रियां आपकी सुंदरता पर बुरा असर डालती है। इस समस्‍या से बचने के लिए दूध का इस्‍तेमाल किया जा सकता है। इसके लिए 5 कच्‍चे बादाम को एक कप दूध में रात भर भिगो दें। बादाम को पीसकर इसमें थोड़ा और दूध मिलाकर इसका पेस्‍ट बना लें। फिर इस पेस्‍ट में थोड़ा शहद मिला लें। इस पेस्‍ट को अपने चेहरे पर 20 मिनट तक लगाकर चेहरे को धो लें। इस उपाय को सप्‍ताह में 2-3 बार के लिए दोहराये।
6
दांतों की खूबसूरती



मुस्‍कुराहट चेहरे की खूबसूरती को बढ़ा देती है लेकिन इसके लिए दांतों का खूबसूरत होना भी बेहद जरूरी है वरना मुस्कुराहट असरदार नहीं होगी। दांतों की खूबसूरती के लिए आप एक स्‍ट्रॉबेरी को मैश करके, उसमें आधा चम्‍मच बेकिंग सोडा मिला लें। फिर इस पेस्‍ट को पांच मिनट के लिए दांतों पर लगा रहने दें। इसके बाद सामान्‍य रूप से ब्रश और कुल्‍ला कर लें।
7
डार्क सर्कल



तनाव, नींद की कमी और कई अन्य कारणों से आंखों के नीचे डार्क सर्कल पड़ जाते हैं। जो आपकी खूबसूरती को कम कर देते हैं, लेकिन अब परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि इस प्राकृतिक उपाय को अपनाने से आपके डार्क सर्कल मिट जाएंगे और आप पहले की तरह खूबसूरत दिखने लगेंगे। इसके लिए पुदीने के पत्तों और टहनी को लेकर अच्‍छे से पीस लें। फिर इस पेस्‍ट को आंखों के आस-पास काले घेरे पर लगाये। 20 मिनट लगा रहने के बाद धो लें। इस उपाय को कुछ दिन अपनाने से आप अपने डार्क सर्कल को हमेशा के लिए अलविदा कर सकते हैं।
सुंदर व निखरी त्‍वचा पाने के लिए आप प्राकृतिक उपचार
8
मुंहासों की समस्‍या



हार्मोन की गड़बड़ी, त्वचा की ठीक से सफाई न करने या पेट की खराबी के कारण कील मुंहासों की समस्‍या होती है। इस समस्‍या को लेकर लड़किया काफी परेशान रहती हैं क्योंकि यह समस्या आमतौर पर टीनेज और युवावस्था में अधिक होती है। इस समस्‍या से बचने के लिए 1/3 कप गर्म सफेद चाय में 1/3 कप सेब साइडर सिरका मिला लें। फिर इसे ठंडा होने के लिए रख दें। इस मिश्रण को कॉटन की मदद से मुंहासों और निशान पर लगाकर 30 मिनट के लिए छोड़ दें। 30 मिनट के बाद इसे धो लें। यह मिश्रण पीएच संतुलन के पुन निर्माण, गंदगी निकालने और रोमछिद्रों को साफ करने में मदद करता है।

त्‍वचा के लिए एक्सफोलिएंट


9
हर सप्‍ताह स्क्रब और एक्सफोलिएंट का प्रयोग करने से त्वचा के नीचे की तेल ग्रंथियों की रूकावट दूर होती है। साथ ही यह त्‍वचा को हाइड्रेट करने के साथ-साथ त्‍वचा की सतह से मृत कोशिकाओं को हटा देता है। एक्सफोलिएंट के लिए एक चम्‍मच ब्राउन शुगर, एक चम्‍मच सफेद चीनी, 2 बड़े चम्‍मच नारियल का तेल और एक कटोरी मैश स्‍ट्रॉबेरी लेकर इन सबका मिश्रण बना लें। फिर इस एक्सफोलिएंट को मृत त्वचा और अशुद्धियों को दूर करने के लिए चेहरे पर धीरे से लगाये। जरूरत के हिसाब से से एक सप्‍ताह में 1-2 बार दोहराये।
10
रूखी त्‍वचा पर मौसम का असर फौरन पड़ता है। तेज हवा, धूप और ठंडे पानी से ऐसी त्‍वचा को बचाना चाहिए। इस तरह की त्‍वचा को ठंडे पानी से कम धोना और साबुन का इस्तेमाल भी कम करना चाहिए। इस समस्‍या के लिए घरेलू उपाय के रूप में आप एवोकाडो का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। इस पेस्‍ट को बनाने के लिए आप एवोकाडो को लेकर उसे मैश कर लें फिर 1/2 मैश कप एवोकाडो में 1/4 कप शहद मिला लें। चेहरे को साफ करके इस मास्‍क को चेहरे पर लगाकर दस मिनट के लिए बैठ जाये। फिर चेहरे को अच्‍छे से धो लें। इस उपाय से आपको मिलेगी चिकनी, मुलायम और नम त्‍वचा। pinterest
11
बड़े रोमछिद्र

कई लोगों के चेहरे पर पोर्स अर्थात रोम छिद्र बड़े हो जाते हैं। उम्र के साथ ये रोम छिद्र और भी बढ़ते जाते हैं। यह समस्या आमतौर पर तैलीय त्वचा में अधिक होती है और देखने में बहुत भद्दे लगती है। सौंदर्य विशेषज्ञों के अनुसार कई बार गलत मसाज करने से भी रोम-छिद्र गैरजरूरी तौर पर खुल जाते हैं। हालांकि इस समस्या का समाधान किया जा सकता है। बड़े रो‍मछिद्रों की समस्‍या से बचने के लिए एक अंडे के सफेद भाग में एक चम्‍मच कॉर्न स्टार्च को मिलाकर कांटे से अच्‍छे से फेटकर मास्‍क बना लें। इस मास्‍क को अपने चेहरे पर लगाकर सूखने तक लगा रहने दें। लगभग 20 मिनट के बाद गुनगुने पानी से चेहरे को धो लें। इस उपाय को सप्‍ताह में 1-2 बार दोहरायें।


12
उम्र के निशान
सौंदर्य की समस्याओं में झाइंयों की समस्या यानी उम्र के निशान प्रमुख समस्या है। चेहरे पर झाइयों को कम करने के लिए प्‍याज लेकर उसके पतले स्‍लाइस काटकर उसका रस निकाल लें। फिर एक भाग प्‍याज के रस में एक भाग सेब का सिरका मिलाकर इसका मिश्रण बना लें। इस मिश्रण को रूई की मदद से झाइयों पर लगा लें। 30 मिनट के बाद इसे धो लें। 6 सप्‍ताह तक इस उपाय को एक दिन में एक बार जरूर दोहराये। फिर देखें यह निशान कैसे दूर हो जाते हैं।


13
बालों का सौंदर्य
सुन्दर स्वच्छ व घने लहराते बाल आपके चेहरे और व्‍यक्तित्‍व को आकर्षक बनाते हैं। बालों की चमक बरकरार रखने और बालों को मुलायम और सुंदर बनाने के लिए प्राकृतिक उपायों में सिरके से किफायती कुछ भी नहीं। इसके लिए सामान्‍य रूप से शैंपू करने के बाद बालों में सेब का सिरका लगायें। इसके लिए एक मग पानी में एक चम्‍मच सिरका मिला लें। फिर इसे बालों में 5 मिनट तक लगाकर कंडीशनर कर लें। इससे आपके बाल स्‍वस्‍थ और चमकदार हो जायेंगे।


सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Monday, August 29, 2016

बच्चों में क्‍यूं होती है एलर्जी, इसके कारण


बच्चों में क्‍यूं होती है एलर्जी,  इसके कारण


आजकल बच्चों में एलर्जी होना बहुत आम है। बच्चों की प्रतिरोधन क्षमता कम होती है जिसके कारण उन्हें विभिन्न प्रकार की एलर्जी हो जाती है। लगातार दवाईयां देने से वे कमज़ोर हो जाते हैं तथा इससे उनके प्रतिरक्षा तंत्र पर भी प्रभाव पड़ता है।  समय समय पर होने वाली एलर्जी में शरद ऋतु में होने वाली एलर्जी है जो बच्चों को बहुत अधिक प्रभावित करती है। जब बहुत अधिक संवेदनशील बच्चे एलर्जी उत्पन्न करने वाले घटकों को श्वास द्वारा अंदर खींच लेते हैं जिसके कारण उनके कान, नाक और गले में एलर्जिक रिएक्शन हो जाता है। 

 श्वास के माध्यम से एलर्जी उत्पन्न करने वाले घटक दो प्रकार के होते हैं जो उनकी निरंतरता पर आधारित होते हैं: बारहमासी और मौसमी। वे बच्चे जिन्हें हमेशा ही एलर्जी बनी रहती है उन्हें पूरे वर्ष यह समस्या रहती है। यदि आपके बच्चे को मौसमी एलर्जी होती है तो अधिक हवा के दिनों में तथा सुबह के समय सावधानी बरतें। हवा के द्वारा परागण करने वाले पौधों से बहुत अधिक मात्रा में पराग कण हवा में आसानी से छोड़ दिए जाते हैं। यह अधिकांशत: सुबह के समय होता है। इसके कारण एलर्जी होती है।  अधिकाँश बच्चे नाक की एलर्जी से पीड़ित होते हैं जो एक प्रकार की पुरानी सांस की बीमारी है। एलर्जिक रायनाइटिस शरीर के प्रतिरोधी सिस्टम द्वारा परिभाषित ऐसी स्थिति है जिसमें बच्चा वातावरण में उपस्थित गलत पदार्थों को श्वसन द्वारा अपने शरीर के अंदर खींच लेता है जो बच्चे के शरीर पर प्रहार करते हैं।

 मौसमी एलर्जिक रायनाइटिस या समय समय पर होने वाली एलर्जी आम तौर पर बाहरी दूषक तत्वों के कारण होती है जिसे हे फीवर (बुखार) के रूप में जाना जाता है जबकि आंतरिक एलर्जिक रायनाइटिस या पारंपरिक एलर्जी सामान्यत: एलर्जी पैदा करने वाले तत्वों जैसे जानवरों की रूसी, घर में पाए जाने वाले धूल के कणों या कॉकरोच आदि के कारण होती है। बच्चों को होने वाली सर्दी इस एलर्जी में नहीं आती। एलर्जिक रिएक्शंस के कारण बुखार, छींक आना, गले में दर्द, नाक बहना तथा दुखना और दर्द आदि तकलीफें हो सकती हैं। हालाँकि नाक की एलर्जी जीवन के लिए खतरनाक नहीं होती फिर भी ये आपके बच्चे के जीवन की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकती हैं।   वे बाहर जाकर खेल नहीं सकते, यात्रा नहीं कर सकते तथा लोगों से मिल जुल नहीं पाते। यदि नाक की एलर्जी का उचित उपचार नहीं किया गया तो वह आपके बच्चे के जीवन को गंभीर रूप से प्रभावित कर सकती है। अन्य प्रकार की एलर्जी फ़ूड एलर्जी (खाद्य पदार्थों से होने वाली एलर्जी) है। बच्चों को दूध या गेंहूँ या कोको पाउडर या कभी कभी सब्जियों जैसे बैंगन आदि से एलर्जी हो जाती है। कुछ बच्चों को अंडे और समुद्री खाद्य पदार्थों से एलर्जी होती है। पालक होने के नाते आपको इन चीज़ों पर ध्यान देना चाहिए तथा ध्यान रखना चाहिए कि बच्चों को किसी प्रकार के खाद्य पदार्थ से एलर्जी तो नहीं है। एलर्जिक रिएक्शंस का इलाज जितने जितने जल्दी संभव हो करवा लेना चाहिए अन्यथा वे बच्चे को उसके जीवन का आनंद लेने से रोक सकते हैं




















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


बच्चों को चाय देना सही है या नहीं



बच्चों को चाय देना सही है या नहीं 


बहुत से भारतीय परिवारों में छोटे बच्चों को चाय देने का रिवाज सा है। यह माना जाता है कि चाय से पाचन क्रिया सही होती है, मौसमी बीमारियाँ दूर रहती हैं और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। चाय के ये फायदे ठीक हैं। लेकिन यदि आप सोचते हैं कि बच्चों को भी इन फ़ायदों के लिए बड़ों की तरह चाय देनी चाहिए तो आप गलत हैं। इसमें ज्यादा दूध मिलाकर देने और बिस्कुट आदि देने से बच्चों पर चाय के हानिकारक प्रभाव कम नहीं होंगे। एक्सपर्ट्स बताते हैं कि बच्चों के लिए चाय क्यों नुकसानकारी है 


 बच्चों को चाय देना सही है या नहीं 


चाय बड़ों के पीने के लिए है नवजात और थोड़े बड़े बच्चों में चाय के सेवन से कैल्शियम का अवशोषण प्रभावित होता है जिससे कैल्शियम की कमी या कैल्शियम से संबन्धित अन्य बीमारियाँ पैदा होती हैं। बड़े बच्चों में चाय के नियमित सेवन से दिमाग, मांसपेशी, तंत्रिका तंत्र पर प्रभाव पड़ता है और संरचनात्मक ग्रोथ रुकती है।

छोटी उम्र में चाय पीने के कुछ सामान्य साइड-इफ़ेक्ट्स... हड्डियों की कमजोरी शरीर में दर्द, खास तौर पर निचले अंगों में एकाग्रता की कमी, चिड़चिड़ापन और अन्य व्यवहारिक विकार मांसपेशियों की कमजोरी

क्या चाय में और दूध मिलाना ठीक है? बहुत सी माएँ मानती हैं कि चाय में और दूध मिलाकर बच्चों को देने से कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ता और बच्चे में कैल्शियम की कमी दूर होती है। लेकिन वे ये नहीं समझती हैं कि दूध में एक बूंद भी चाय मिलाने से दूध की फायदे खत्म हो जाते हैं।

 बच्चों को चाय देना सही है या नहीं 

दूध में पाया जाने वाला कैसीन और प्रोटीन चाय के कैटेचिंस से मिल जाता है, यह एक महत्वपूर्ण फ्लावोनोइड्स है। यह मिश्रण नर्वस सिस्टम पर 'अफीम' की तरह काम करता है - जिससे कि चाय की लत लग जाती है, और किसी भी उम्र में लत लगना स्वास्थ्य के लिए सही नहीं है।



















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


घरेलू नाइट क्रीम जवां दिखने के लिये रात में लगाएं

दिनभर हमारी त्‍वचा प्रदूषण और सूरज की तेज किरणों का सामना करती है, जिससे त्‍वचा की प्राकृतिक चमक और नमी खो सी जाती है।  रात में सोते वक्‍त हमारी त्‍वचा खुद को जल्‍दी रिपेयर करती है इसलिये ऐसे में अगर आप नाइट क्रीम लगा कर सोती हैं, तो वह क्रीम को अच्‍छी तरह से सोख लेती है और आपको दूसरे दिन बेस्‍ट रिजल्‍ट देती है। 
घरेलू नाइट क्रीम जवां दिखने के लिये रात में लगाएं
आइये जानते हैं कुछ आसान सी नाइट क्रीम बनाने की विधि-

 ग्रीन टी नाइट क्रीम ग्रीन टी में ढेर सार एंटीऑक्‍सीडेंट हेाता है जो चेहरे को झुर्रियों से बचाता है। साथ ही यह पिम्‍पल्‍स से बचाता है क्‍योंकि इसमें एंटीबैक्‍टीरियल गुण होते हैं।

 क्रीम बनाने की सामग्री- 
1 चम्‍मच ग्रीन टी का रस 
1 चम्‍मच बादाम तेल
 1 चम्‍मच रोज वॉटर 1 चम्‍मच एलो वेरा जूस 
1 चम्‍मच बी वैक्‍स 
क्रीम बनाने की विधि-  बी वैक्‍स और बादाम तेल को डबल बॉयलर में गरम करें। जब यह पिघल जाए तब आंच से हटा दें और इसमें एलोवेरा जैल मिक्‍स करें। उसके बाद इसमें ग्रीन टी का रस और रोज वॉटर मिलाएं। आपकी क्रीम तैयार हो गई, इसे किसी कंटेनर में रखें।

 मिल्‍क क्रीम इसे बनाने के लिये सामग्री- 

1 चम्‍मच दूध की मलाई 
1 चम्‍मच रोज वॉटर 
1 चम्‍मच जैतून तेल 
1 चम्‍मच ग्‍लीसरीन 
बनाने की विधि-  सभी सामग्रियों को एक साथ मिक्‍स कर लें और पेस्‍ट बना लें। फिर इसे किसी डिब्‍बी में बंद कर के रखें और रात में प्रयोग करें।



घरेलू नाइट क्रीम जवां दिखने के लिये रात में लगाएं   


 रंगत निखारने वाली नाइट क्रीम इस क्रीम में हल्‍दी, चंदन पावडर और केसर का प्रयोग किया गया है, जो कि चेहरे का रंग साफ करने के लिये जाने जाते हैं। 

क्रीम बनाने की सामग्री- 

7 -8 बादाम 
आधा कप दही 
1 चुटकी हल्‍दी
1 छोटा चम्‍मच चंदन पावडर 
4-5 बूंद नींबू का रस 
3-4 केसर के धागे 

क्रीम बनाने की विधि- बादाम को रातभर के लिये भिगो कर रखें और फिर अगली सुबह उन्‍हें छील कर मिक्‍सी में पीस लें। फिर उसमें दही, हल्‍दी, नींबू का रस, चंदन पावडर और केसर मिलाएं। फिर इसे एक कंटेनर में भर कर रख लें और यूज़ करें।



सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Saturday, August 27, 2016

इन चीजों को कभी नहीं खाना चाहिए एक साथ






जब खाना टेस्टी हो तो खाने वाले स्वाद में खो जाते हैं। वे ये भूल ही जाते हैं कि खाने के भी कुछ नियम होते हैं। यदि खाते समय कुछ छोटी-छोटी बातों का ध्यान न रखा जाए तो सेहत पर बुरा असर पड़ सकता है। इसलिए खाने में बैलेंस्ड डाइट की बात हमेशा कही जाती है। इसके साथ ही खाने के सही कॉम्बिनेशंस की जानकारी भी जरूरी है, यानी किन चीजों को एक साथ खाना चाहिए और किन चीजों को नहीं। आयुर्वेद में ऐसी कई चीजों का वर्णन मिलता है जिन्हें साथ खाना सेहत के लिए बहुत हानिकारक होता है।



इन्हीं चीजों के बारे में हम कई बार अपने घर के बड़े- बूढ़ों से भी सुनते है, लेकिन अंधविश्वास समझकर उनकी बातों को नजरअंदाज कर देते हैं। दरअसल, बहुत कम लोग जानते हैं कि फूड कॉम्बिनेशन का भी सेहत पर अच्छा व बुरा प्रभाव पड़ता है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कुछ ऐसे ही फूड कॉम्बिनेशन्स के बारे में जिन्हें साथ में लेना सेहत के लिए खतरनाक साबित हो सकता है।

1. दूध के साथ दही
दूध के साथ दही लेना सेहत के लिए बहुत हानिकारक होता है। दरअसल, दूध और दही दोनों की तासीर अलग होती है। इन्हें साथ लेने पर पेट की समस्याएं हो सकती हैं।

2. चिकन के साथ मिठाई
चिकन के साथ जूस या मिठाई आदि का शौक रखने वालों को भी इनके एक साथ सेवन से बचना चाहिए, क्योंकि इससे पेट खराब हो सकता है।

3. कोल्डड्रिंक के बाद पान मसाला
कोल्डड्रिंक पीने के बाद या पहले कभी भी पिपरमेंट युक्त पान मसाला या किसी अन्य चीज सेवन नहीं करना चाहिए। कोल्डड्रिंक व पिपरमेंट को मिलाने पर साइनाइड बनता है जो कि जहर के समान काम करता है।

4. आलू और चावल
कई लोग आलू व चावल के शौकीन होते हैं, लेकिन ऐसे लोगों को यह ध्यान रखना चाहिए कि इन दोनों को एक साथ न खाएं। इससे कब्ज की समस्या हो सकती है।



5. प्याज और दूध
प्याज और दूध को कभी एक साथ नहीं लेना चाहिए। प्याज के साथ दूध के सेवन से कई तरह के त्वचा रोग जैसे दाद,खाज ,खुजली,एग्जिमा सोराईसिस, आदि होने की संभावना होती है।

6. दही व मछली
दही की तासीर ठंडी है। उसे किसी भी गर्म चीज के साथ नहीं लेना चाहिए। मछली की तासीर काफी गर्म होती है, इसलिए उसे दही के साथ नहीं खाना चाहिए। इससे गैस, एलर्जी और स्किन की बीमारियां हो सकती हैं। दही के अलावा शहद को भी गर्म चीजों के साथ नहीं खाना चाहिए।

7. खाने के साथ फल
आयुर्वेद के अनुसार खाने के साथ फल नहीं खाना चाहिए। दोनों ही चीजों का कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन के पाचन का मेकैनिज्म अलग होता है। नीबू, संतरा, अनानास आदि खट्टे फल एसिडिक होते हैं। दोनों को साथ खाया जाए तो कार्बोहाइड्रेट या स्टार्च की पाचन क्रिया धीमी हो जाती है। इससे कब्ज, डायरिया या अपच की
शिकायत हो सकती है।


8. दूध के साथ नींबू
दूध के साथ नींबू या खटाई युक्त चीजें लेना सेहत के लिए बहुत नुकसानदायक होता है। दोनों का एक साथ सेवन करने पर एसिडिटी हो सकती है।

9. उड़द की दाल के साथ दही
उड़द की दाल के साथ दही खाना बहुत नुकसान पहुंचाने वाला होता है। माना जाता है कि इनके लगातार सेवन से दिल से संबंधित बीमारियां हो सकती हैं।

10. दही के साथ न खाएं पराठा
दही के साथ पराठा या अन्य तली हुई चीजों को लेने पर दही फैट के पाचन में रुकावट पैदा करता है। इससे फैट्स से मिलने वाली एनर्जी शरीर को नहीं मिल पाती हैं।



सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


त्वचा को चमकदार बनाएं, अपनाएं कुछ आसान टिप्स



दही और शहद

जैसे की आप सभी जानते है कि दही और शहद को एक सोफेटिनिंग एजेंट माना जाता है, इस पेस्ट को मनाने के लिए दही और शहद लें और उसका पेस्ट बनाए, फिर इस पैक को चेहरे और गर्दन पर अच्छी तरह लगा लीजिए और अच्छे से सूखने दीजिए। सूखने के बाद इसे ठन्डे पानी से धो दें। इस पेस्ट को लगाने से आपकी त्वचा चमकदार हो जाएगी, ये पेस्ट एक मॉस्चराइज़र का काम भी करता है।




हल्दी और दूध

चेहरे पर चमक लाने के लिए हल्दी और दूध को सबसे अच्छा माना जाता है। अगर किसी लड़की की शादी होने वाली है तो उसके लिए ये पैक अच्छा रहेगा। इस फेसपैक को बनाने के लिये दूघ और हल्दी को मिक्स करें और चेहरे पर लगा लीजिए, जैसे ही ये पेस्ट सूख जाए तो ठन्डे पानी से धो दें , ध्यान रहे की चेहरा धोने के बाद चेहरे पर कुछ न लगाएं।


केला और शहद




इस ब्यूटी पेस्ट को बनाने के लिए केले को मेस करे और उसमे शहद मिला दीजिए, इस पेस्ट को 20 मिनट तक चेहरे पर लगाकर रखें फिर ठन्डे पानी दें, जानकारी के लिए बता दें ये एक मॉस्चराइज़र के तौर पर भी काम करता है




दही और निम्बू

इस फेसपैक में इन दोनों चीज़ो को अच्छे से मिलाएं और 20 मिनट तक रखें। ये आपके चेहरे के दाग धब्बों को जड़ मिटा देगा।






सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Thursday, August 25, 2016

इन 6 आहारों के गलत समय पर सेवन करने से होते हैं ये नुकसान



जैसा कि हम सब जानते हैं कि स्वस्थ शरीर के लिए संतुलित आहार बहुत आवश्यक है और आवश्यक पोषक तत्वों से युक्त स्वस्थ आहार लेने से शरीर पोषित रहता है। परन्तु क्या आप जानते हैं कि इन खाद्य पदार्थों को गलत समय पर खाने से ये हमारे स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकते हैं? अत: यह जानना बहुत महत्वपूर्ण है कि किस समय कौन से पदार्थ खाने चाहिए ताकि स्वास्थ्य का उचित तरीके से ध्यान रखा जा सके। यह भी पढ़ें ? आइए इन खाद्य पदार्थों को खाने के उचित समय के बारे में जानें।

 1. चावल डाइटीशियन हमेशा यह सलाह देते है कि रात में चांवल नहीं खाना चाहिए क्योंकि इनमें स्टार्च बहुत अधिक मात्रा में पाया जाता है।  यदि आप रात में चांवल खाते हैं तो आपका पेट फूल सकता है और आपको नींद से संबंधित समस्याएं हो सकती है। ऐसा भी कहा जाता है कि रात में चांवल खाने से वज़न बढ़ता है क्योंकि इसे पचने में अधिक समय लगता है। चांवल खाने का सही समय क्या है? चांवल दिन के समय खाने चाहिए क्योंकि दिन के समय चयापचय की दर उच्च होती है। 

2. दूध दूध में प्रोटीन्स और अन्य पोषक तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। यही कारण है कि इसे हेल्दी ड्रिंक कहा जाता है। हालाँकि विशेषज्ञ दावा करते हैं कि दिन के समय दूध का सेवन करने से आप सुस्ती महसूस कर सकते हैं क्योंकि इसके पाचन में अधिक समय लगता है। दूध पीने का सही समय क्या है? दूध पीने का सही समय रात में है क्योंकि यह शरीर को आराम देता है तथा इसमें उपस्थित पोषक तत्व प्रभावी तरीके से अवशोषित किये जा सकते हैं। 

3. दही रात में दही खाने से शरीर में उष्णता बढ़ती है जिसके कारण एसिडिटी तथा पाचन से संबंधित तकलीफ हो सकती है। इससे कफ़, सर्दी और बलगम की समस्या हो सकती है। दही खाने का सही समय क्या है? दिन के समय दही खाना स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है क्योंकि यह पाचन की प्रक्रिया को आसान बनाता है और पेट को स्वस्थ रखता है।

 4. ग्रीन टी हम सभी को ग्रीन टी बहुत पसंद है क्योंकि इससे बहुत अधिक स्वास्थ्य लाभ होते हैं। परन्तु ये स्वास्थ्य लाभ आपको तभी मिल सकते हैं जब आप इसे सही समय पर पीयें। इसमें उपस्थित कैफीन के कारण सुबह जल्दी पीने से एसिडिटी और डिहाईड्रेशन की समस्या हो सकती है। ग्रीन टी पीने का सही समय क्या है? आप सुबह का समय छोड़कर दिन में कभी भी ग्रीन टी पी सकते हैं।

5. सेब सेब में ऑर्गेनिक एसिड प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। यह पेट में एसिडिटी को बढ़ाता है। अत: रात के समय इसे खाने से एसिडिटी हो सकती है। सेब खाने का सही समय क्या है? सेब पेक्टिन का बहुत अच्छा स्त्रोत है। पेक्टिन एक फाइबर होता है जो मल त्याग को आसान बनाता है तथा कैंसर उत्पन्न करने वाले कारकों को शरीर से बाहर निकालता है अत: इसका सेवन दिन के समय करना चाहिये।




















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


सेहत पर कैसे भारी पड़ सकता है पापड़ खाना, जानें इसके नुकसान




हम अक्‍सर होली पर अपने घरों की छतों पर आलू या साबूदाने के पापड़ सुखाया करते थे। पर जब से बाजार में पापड़ मिलने शुरु हो गए हैं, हमने अब घर पर पापड़ बनाना बंद कर दिये हैं।




आज कल आपको बाजार में तरह तरह के स्‍वाद और रंग वाले पापड़ और चिप्‍स बिकते हुए दिख जाएंगे। अक्‍सर लोग अपने भोजन के साथ साथ एक रोस्‍टेड पापड़ या फिर फ्राई किया हुआ पापड़ खाना पसंद करते हैं, जो सेहत के लिये काफी हानिकारक हो सकता है।


यहां तक कि कॉकटेल स्‍नैक के तौर पर भी मसालेदार पापड़ ही सर्व किया जाता है। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि ये पापड़ हमारी सेहत के लिये कितने खराब हैं, आइये जानते हैं...






1. पापड़ बढ़ा सकता है मोटापा- दो पापड़ एक रोटी के समान होता है। अगर आप कैलारी नहीं बढ़ाना चाहते हैं तो पापड़ खाने की गल्‍ती कभी ना करें। 13 ग्राम पापड़ में 35-40 कैलोरी, सोडियम- 226 एमजी और कार्बोहाइड्रेट 7.8 ग्राम पाया जाता है।










2. प्रीज़र्वटिव का होता है प्रयोग- पापड़ को लंबे समय तक ताजा बनाए रखने के लिये पापड़ बनाने वाली फैक्‍टरियां उसमें प्रीज़र्वटिव आदि मिलाती हैं। साथ ही इसमें नमक के साथ साजी नामक सोडियम साल्‍ट मिलाया जाता है, जिससे इसका स्‍वाद तो बढ़ता है। यह साल्‍ट हार्ट और किडनी की बीमारी के साथ हाई बीपी भी पैदा कर सकता है।












3. एसिडिटी की समस्‍या- दुकान से खरीदे हुए पापड़ों में अक्‍सर आर्टिफीशियल फ्लेवर और मसाले मिलाए जाते हैं जो कि पेट के लिये खराब तो होते ही हैं साथ में ज्‍यादा खाने पर एसिडिटी भी हो जाती है।











4. फ्राई किये पापड़ तो और भी घातक: फ्राई किये पापड़ों में तेल और फैट दोनों ही हाई होते हैं। रिसर्च के अनुसार पाया गया है कि फ्राई और आग पर भुने हुए पापड़ में एक्रिलामाइड जो एक टॉक्‍सिन है, उसकी मात्रा बढ़ जाती है, इसे कार्सीनोजिन भी कहते। इससे आपको बेचैनी, घबराहट और मूड स्‍विंग जैसी समस्‍याएं हो सकती हैं। मगर माइक्रोवेव में पकाए पापड़ आपकी सेहत को कभी नुकसान नहीं पहुंचा सकते।







5. पापड़ कैसे बनाए जाते हैं: पापड़ बनाई जाने वाली फैक्‍ट्रियां कभी साफ नहीं होती। इन्‍हें हाथों से बनाया जाता है और फिर इन्‍हें सुखाने के लिये धूप में खुले स्‍थान पर रखा जाता है, जहां इनमें धूल मिट्टी पड़ती रहती है।




सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Tuesday, August 23, 2016

रोज़ सुबह कीजिये ये काम होगी 1 महीने में 10 किलो चर्बी कम


जी हां, अब 1 महीने में आप 10 किलो तक चर्बी घटा सकते हैं। यह कोई जादू नहीं है बल्‍कि यह बिल्‍कुल सच बात है। अगर रोज़ सुबह आप अपने रोज के रुटीन में ज़रा परिवर्तन कर लें तो आपको पतला होने से कोई नहीं रोक सकता। मोटापा कम करने में आपका मेटाबॉलिज्‍म रेट काफी सहायक माना जाता है। अगर यह हाई है तो आप अपना वजन आराम से कम कर सकते हैं, लेकिन अगर यह स्‍लो है तो आपको चाहे जितनी महनत और डायटिंग कर लें, आपका वजन ज़रा सा भी कम नहीं होगा। 
तो अगर आप गंभीरता से वजन कम करने की सोंच रहे हैं, तो अपने जीव शैली में परिवर्तन कीजिये। सुबह उठ कर आपको एक महीने तक कुछ सरल काम करने होंगे और फिर आप देंखेगे कि आपका वजन कितनी जल्‍दी कम होना शुरु हो जाता है। 
तो आइये डालें एक नज़र इधर... ठंडे पानी से नहाएं हां, हो सकता है कि यह आपको थोड़ा तकलीफ दे, लेकिन इससे आपके शरीर का तापमान कम हो जाएगा और वह खुद को गरम करने के लिये बॉडी के फैट सेल्‍स का उपयोग करने लगेगी जिससे वजन कम होने में मदद मिलेगी। 
रोज ग्रीन टी पीजिये अपनी सुबह की चाय या कॉफी को बाय बोलिये और अब से रोज सुबह ग्रीन टी का सेवन कीजिये। ग्रीन टी में एंटीऑक्‍सीडेंट होता है जो मेटाबॉलिज्‍म बढाने में मदद करता है। 
भर पेट नाश्‍ता कीजिये अपना ब्रेकफास्‍ट कभी ना छोड़ें और ना ही उसे आधा अधूरा करें। हमेशा पेट भर कर ब्रेकफास्‍ट करना चाहिये जिससे आपको दुपहर तक भूख ना लगे और बेकार की चीजें खाना बंद कर दें। व्‍यायाम करना ना भूलें सुबह सुबह एक्‍सरसाइज करने से आपका वजन जल्‍दी कम होगा। अगर सुबह समय नहीं मिल पाता तो शाम को एक घंटे व्‍यायाम करें। 
.. प्रोटीन से भरा ब्रेकफास्‍ट खाएं अपने नाश्‍ते में ऐसी चीज़ें खाइये जिसमें ढेर सारा प्रोटीन हो। प्रोटीन खाने से आपका पेट लंबे समय तक भरा रहेगा और प्रोटीन, चर्बी से भी लड़ता है। अंडा, बींस, ओट्स या स्‍प्राउट्स खाना ना भूलें। हमेशा एक्‍टिव रहें सुस्‍त और आलसी लोग ज्‍यादा जल्‍दी मोटे हो जाते हैं। आपको दिनभर में बहुत ज्‍यादा एक्‍टिव बने रहने की जरुरत है। ऑफिस जाने के लिये लिफ्ट का नहीं सीढियों का प्रयोग करें या फिर ऑफिस पैदल जाएं।
 सूरज की धूप खाएं रिसर्च से पता चला है कि जो लोग सुबह की धूप खाते हैं, उनका वजन जल्‍दी घटता है। इससे शरीर का मेटाबॉलिज्‍म बढ़ता है।

















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Monday, August 22, 2016

चेहरे पर कुछ दिनों तक लगाएं ये घरेलू पैक और बन जाएं गोरी



चेहरा चाहे जितना गोरा हो पर अगर उस पर गहरे रंग के स्‍पॉट हैं, तो चेहरा काला दिखने लगता है। मगर अब चिंता की कोई बात नहीं है क्‍योंकि हमारे पास एक घरेलू नुस्‍खा है, जिसके दृारा आप साफ और बेदाग त्‍वचा बस कुछ ही दिनों में पा सकती हैं। घर बैठे साफ और बेदाग और गोरी त्‍वचा पाना अब काफी आसान है। आपको बस चावल के आटे और टमाटर के रस से तैयार पेस्‍ट लगाना होगा। इस पेस्‍ट में ढेर सारे विटामिन्‍स होते हैं। तथा टमाटर तो आपके चेहरे को ब्‍लीच भी कर सकता है। इसके अलावा चावल का आटा लगाने से चेहरे से डेड स्‍किन साफ होगी, जिससे साफ स्‍किन सामने आएगी। 

अब आइये जानते हैं इस पैक को कैसे बनाया जाता है और इसको चेहरे पर लगाने तरीका क्‍या है। 

 सामग्री- चावल का आटा- 1 चम्‍मच 

टमाटर कर रस- 2 चम्‍मच 

दूध - 1 चम्‍मच 

विधि - टमाटर के टुकडे़ कर के मिक्‍सर में डालें और पीसें।  फिर उसमें बाकी की चीजें मिलाएं। इस पेस्‍ट को कटोरी में निकालें और मिलाएं।  फिर इस पेस्‍ट को चेहरे पर लगा कर कुछ मिनट तक मसाज करें।  इसे चहरे पर 15 मिनट तक छोड़ दें और फिर चेहरे को मिसी फेस वॉश और ठंडे पानी से धो लें।




















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


शरीर के कालेपन को दूर करना है तो खीरे और शक्‍कर से बनाइये बॉडी स्‍क्रब


अगर आप बहुत ज्‍यादा धूप में निकली हैं और आपकी स्‍किन में टैनिंग हो गई है तो, हम आपके लिये ले कर आए हैं एक बड़ा ही आसन घरेलू नुस्‍खा।

यह नुस्‍खा शरीर के कालेपन को दूर कर के स्‍किन को गोरा बनाता है। इसे बनाने के लिये आपको खीरे के रस और शक्‍कर की आवश्‍यकता पड़ेगी।




आप इस मिश्रण को ज्‍यादा सा बना कर फ्रिज में रख कर कई दिनों तक यूज कर सकती हैं। खीरे के रस में हल्‍का ब्‍लीचिंग एजेंट होता है जो कि शरीर से टैनिंग को मिटाने में मदद करता है। इसके साथ अगर आप ऑलिव ऑइल मिलाएंगी तो यह आपकी स्‍किन को नमी पहुंचाएगा और ड्रायनेस से बचाएगा।

आइये जानते हैं शरीर के कालेपन को दूर करने के लिये कैसे बनाएं खीरे और शक्‍कर का बॉडी स्‍क्रब।






सामग्री-
खीरे का जूस
एलो वेरा जैल
पावडर वाली शक्‍कर
जैतून का तेल

बनानेकी विधि -
खीरे को घिस कर उसका रस निकाल लें। फिर इसमें एलो वेरा जैल, शक्‍कर और दो बूंद ऑलिव ऑइल की मिलाएं।
आपका टैन रिमूवल स्‍क्रब तैयार है, इसे आप अब यूज कर सकती हैं।





















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


मात्र 7 दिनों में दूर होंगे चेहरे से दाग अगर लगाएंगी दालचीनी


चेहरे पर अगर काले रंग के दाग पड़ गए हैं, तो उसे दूर करने का सबसे अच्‍छा और आसान तरीका घरेलू उपचार ही होता है। इसलिये अगर आपको भी अपना चेहरा देखने में खराब लगता है और आप उसे साफ करना चाहती हैं तो हम आपको दालचीनी और शहद का फेस पैक बनाना सिखाएंगे।  यह दोंनो ही सामग्रिया एंटीबैक्‍टीरियल गुणों से भरी हुई हैं, जो चेहरे से मुंहासों के दाग हटा कर चेहरा साफ और सुंदर बनाने में मदद करेंगे। इस ट्रिक को आप चंद मिनटों में कर सकती हैं और मजे की बात तो यह है कि दालचीनी तथा शहद दोंनो ही आपके किचन में हर वक्‍त मौजूद रहते हैं। अगर आपको ज्‍यादा फायदा चाहिये तो आपको शुद्ध शहद का ही प्रयोग करना चाहिये। तो आइये जानते हैं कि यह पेस्‍ट कैसे बनाते हैं और इसे कितनी बार चेहरे पर लगाना है, जिससे यह अपना बेस्‍ट रिजल्‍ट दे।

 सामग्री- एक कटोरी 

 कॉटन की छोटी बॉल ब्रश

 ऐसे करें प्रयोग: एक कटोरी में 2 छोटे चम्‍मच दालचीनी पावडर डालें। फिर उसमें 2 चम्‍मच शहद मिला कर गाढा पेस्‍ट बनाएं।  ब्रश की मदद से इसे पूरे चेहरे पर लगाएं।  आप चाहें तो दाग धब्‍बों पर कॉटन से भी इस पेस्‍ट को लगा सकती हैं। दालचीनी में एंटबैक्‍टीरियल गुण पाए जाते हैं जो कि दाग धब्‍बे और पिंपल्‍स के लिये अच्‍छा होता है। इसको चेहरे पर लगाने से त्‍वचा साफ और नम बनती है।





















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Sunday, August 21, 2016

दूध में हल्दी मिलाकर पीने से शरीर को होते हैं ये फायदे



आयुर्वेद में हल्दी को सबसे बेहतरीन नेचुरल एंटीबायोटिक माना गया है। इसलिए यह स्किन, पेट और शरीर के कई रोगों में उपयोग की जाती है। हल्दी के पौधे से मिलने वाली इसकी गांठें ही नहीं, बल्कि इसके पत्ते भी बहुत उपयोगी होते हैं। ये तो हुई बात हल्दी के गुणों की, इसी प्रकार दूध भी प्राकृतिक प्रतिजैविक है। यह शरीर के प्राकृतिक संक्रमण पर रोक लगा देता है। हल्दी व दूध दोनों ही गुणकारी हैं, लेकिन अगर इन्हें एक साथ मिलाकर लिया जाए तो इनके फायदे दोगुना हो जाते हैं। इन्हें एक साथ पीने से यह कई स्वास्थ्य संबंधित समस्याएं दूर होती हैं।

1 . हडि्डयों को पहुंचाता है फायदा

रोजाना हल्दी वाला दूध लेने से शरीर को पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम मिलता है। हड्डियां स्वस्थ और मजबूत होती है। यह ऑस्टियोपोरेसिस के मरीजों को राहत पहुंचाता है।
2. गठिया दूर करने में है सहायक

हल्दी वाले दूध को गठिया के निदान और रियूमेटॉइड गठिया के कारण सूजन के उपचार के लिए उपयोग किया जाता है। यह जोड़ो और पेशियों को लचीला बनाकर दर्द को कम करने में भी सहायक होता है।

3. टॉक्सिन्स दूर करता है

आयुर्वेद में हल्दी वाले दूध का इस्तेमाल शोधन क्रिया में किया जाता है। यह खून से टॉक्सिन्स दूर करता है और लिवर को साफ करता है। पेट से जुड़ी समस्याओं में आराम के लिए इसका सेवन फायदेमंद है।
4. कीमोथेरेपी के बुरे प्रभाव को कम करते हैं

एक शोध के अनुसार, हल्दी में मौजूद तत्व कैंसर कोशिकाओं से डीएनए को होने वाले नुकसान को रोकते हैं और कीमोथेरेपी के दुष्प्रभावों को कम करते हैं।
5. कान के दर्द में आराम मिलता है

हल्दी वाले दूध के सेवन से कान दर्द जैसी कई समस्याओं में भी आराम मिलता है। इससे शरीर का रक्त संचार बढ़ जाता है जिससे दर्द में तेजी से आराम होता है।


6. चेहरा चमकाने में मददगार

रोजाना हल्दी वाला दूध पीने से चेहरा चमकने लगता है। रूई के फाहे को हल्दी वाले दूध में भिगोकर इस दूध को चेहरे पर लगाएं। इससे त्वचा की लाली और चकत्ते कम होंगे। साथ ही, चेहरे पर निखार और चमक आएगी।
7. ब्लड सर्कुलेशन ठीक करता है

आयुर्वेद के अनुसार, हल्दी को ब्लड प्यूरिफायर माना गया है। यह शरीर में ब्लड सर्कुलेशन को मजबूत बनाता है। यह रक्त को पतला करने वाला आैर लिम्फ तंत्र और रक्त वाहिकाओं की गंदगी को साफ करने वाला होता है।
8. शरीर को सुडौल बनाता है

रोजाना एक गिलास दूध में आधा चम्मच हल्दी मिलाकर लेने से शरीर सुडौल हो जाता है। दरअसल गुनगुने दूध के साथ हल्दी के सेवन से शरीर में जमा फैट्स घटता है। इसमें उपस्थित कैल्शियम और अन्य तत्व सेहतमंद तरीके से वेट लॉस में मददगार हैं।

9. स्किन प्रॉब्लम्स में है रामबाण

हल्दी वाला दूध स्किन प्रॉब्लम्स में भी रामबाण का काम करता है।
10. लीवर को मजबूत बनाता है

हल्दी वाला दूध लीवर को मजबूत बनाता है। यह लीवर से संबंधित बीमारियों से शरीर की रक्षा करता है और लिम्फ तंत्र को साफ करता है।
11. अल्सर ठीक करता है

यह एक शक्तिशाली ऐन्टी-सेप्टिक होता है और आंत के स्वस्थ बनाने के साथ-साथ पेट के
अल्सर और कोलाइटिस का उपचार करता है। इससे पाचन बेहतर होता है और अल्सर, डायरिया और अपच नहीं होता।
12. महावारी में होने वाले दर्द से राहत देता है

हल्दी वाला दूध माहवारी में होने वाले दर्द में राहत देता है। गर्भवती महिलाओं को इस सुनहरे दूध को आसान प्रसव, प्रसव बाद सुधार, बेहतर दूध उत्पादन और शरीर को जल्दी सामान्य करने के लिए हल्दी का दूध लेना चाहिए।
13. सर्दी खांसी में है रामबाण

हल्दी वाले दूध के एंटीबायोटिक गुण के कारण सर्दी-खांसी में ये एक कारगर दवा का काम करता है। हल्दी वाला दूध मुक्त रैडिकल्स से लड़ने वाले एंटी-ऑक्सीडेंट का बेहतरीन स्रोत है। इससे कई बीमारियां ठीक हो सकती हैं।





सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Saturday, August 20, 2016

तैलीय त्‍वचा के लिये चंदन और हल्‍दी का फेस पैक



ऑइली स्‍किन या फिर तैलीय त्‍वचा वालों को अपना चेहरा साफ रखने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। ना वे कोई क्रीम लगा सकती हैं और मेकअप लगाने की तो बात ही छोड़ो। ऑइली स्‍किन के लिये चंदन और मुल्‍तानी मिट्टी पावडर काफी अच्‍छे माने जाते हैं क्‍योंकि ये चेहरे से तेल को सोख लेते हैं और उसे ऑइली नहीं होने देते हैं।

अगर आप भी कुछ ऐसा प्राकृतिक इलाज चाहती हैं तो हमारा बताया हुआ चंदन पावडर का यह फेस पैक लगाना ना भूलें। आइये देखें इसे कैसे बनाया जाता है और इसके गुण क्‍या क्‍या हैं। 


चंदन फेस पैक बनाने की विधि- 1 चम्‍मच मुल्‍तानी मिट्टी में 1 चम्‍मच चंदन पावडर और चुटकीभर हल्‍दी मिलाएं। फिर इसमें थोड़ा सा दूध मिला कर गाढा पेस्‍ट तैयार करें। इस पेस्‍ट को चेहरे पर 10 से 20 मिनट तक लगा रहने दें। फिर जब यह पेस्‍ट सूख जाए तब चेहरे पर थोड़ा पानी लगाएं और फेस पैक को उगंलियों से रगड़ कर गोलाई में छुड़ाएं। उसके बाद चेहरे को पानी से धो लें और सुखा लें। आप इस फेस पैक को हफ्ते में एक बार लगा सकती हैं। यह कैसे काम करता है?

इस फेस पैक में मुल्‍तानी मिट्टी होता है जो चेहरे से एक्‍सट्रा तेल को सोख लेती है और उस पर से गंदगी तथा डेड स्‍किन को साफ करती है। इसके अलावा इसमें चंदन भी होता है, जो कि चेहरे को नमी प्रदान करता है और खुले पोर्स को छोटा करता है। इस पैक में हल्‍दी भी मिलाया जाता है, जो त्‍वचा का रंग साफ करने में मदद करता है। अगर इसे दूध के साथ मिला कर लगाया जाए तो चेहरे पर ग्‍लो आता है और सनबर्न तथा पिगमेंटेशन से राहत मिलती है।





















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


चुकंदर के जूस में शहद मिला का पियें, होंगे ये 7 फायदे

क्या आप अक्सर बिमार पड़ जाते हैं और आपके ज़रूरी काम छूट जाते हैं? क्या आपको लगता है कि आप अपनी ज़्यादातर बचत राशि डॉक्टर और दवाइयों पर खर्च कर रहे हैं?  अगर हाँ तो हम आपकी परेशानी समझ सकते हैं। कई बीमारियां इंसानों को अलग अलग डिग्री तक प्रभावित करती हैं। कुछ बीमारियां ऐसी हैं जिनका इलाज आसान होता है पर कुछ ऐसी भी बीमारियां होती हैं जिनका कोई इलाज नहीं होता और वह जानलेवा भी होती हैं। इसलिए आपको अपनी रोगक्षम तंत्र को मजबूत रखने की ज़रुरत है ताकि बीमारियां आपको छू भी न सके। क्या आपको पता है कि चुकंदर के जूस और शहद के मिश्रण में सात से भी ज़्यादा स्वास्थ्य लाभ हैं?  ये 6 घरेलू उपचार यहाँ पर यह ड्रिंक बनाने की विधि जानें आवश्यक सामग्री: चुकंदर का जूस- 1 बड़ा चम्मच, 1 कप शहद बनाने की विधि: ऊपर बतायी गयी सामग्रियों को कप में डालें। इसे चला कर मिश्रण बनाएं। आपकी ड्रिंक तैयार है। इस आर्टिकल को पढ़कर आप यह जान सकते हैं कि चुकंदर के जूस और शहद के मिश्रण से आपकी सेहत पर कैसे असर पड़ सकता है

1. रक्तचाप कम करता है चुकंदर के रस और शहद के मिश्रण में नाइट्रेट की मात्रा सही होती है जिससे रक्त धमनी फैलती है और रक्त का प्रवाह सही होता है। इससे रक्तचाप कम होता है।

2. रोगक्षम तंत्र को सही करता है इस घर पर बने जूस में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जिससे रोगक्षम तंत्र मजबूत होता है। इससे कई बीमारियां भी दूर रहती हैं।

3. भूलने की बीमारी से बचाए एक खोज से पता चला है कि चुकन्दर के रस और शहद के मिश्रण से दिमाग तक का रक्त प्रवाह सही रहता है जिससे भूलने की बीमारी से बचा जा सकता है।

4. दिल का दौरा पड़ने से बचाता है चूँकि, चुकन्दर के रस और शहद के मिश्रण से दिमाग तक का रक्त प्रवाह सही रहता है और रक्त धमनी फैली रहती हैं तो इससे दिल का दौरा नहीं पड़ता और दूसरी दिल की बीमारियों से भी बचाता है।

5. हड्डियों को मजबूत करता है इस जूस में सिलिका की मात्रा अधिक होती है जिससे हड्डियां अधिक कैल्शियम सोख लेती हैं। इससे हड्डियां मजबूत होती हैं।

6. स्वस्थ गर्भावस्था को बढ़ावा देता है इस जूस में फोलिक एसिड की मात्रा अधिक होती है जिससे महिला और अजन्मे बच्चे दोनों को सही पोषण मिलता है। इससे गर्भावस्था का समय सही गुज़रता है।

7. वज़न कम करता है: इस जूस में कैलोरी काफी कम होती है और एंटीऑक्सीडेंट और फाइबर अधिक होती है जिससे आप आसानी से अपना वज़न कम कर सकते हैं।

















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Friday, August 19, 2016

5 तरह से खूबसूरत बनाता है गुड़, इसके आगे सब क्रीम हैं फेल



जब से बाजार में शक्‍कर की शुरुआत हुई है तब से लोंगो ने गुड़ खाना मानों बंद ही कर दिया है। गुड़ सेहत के लिये जितना अच्‍छा होता है उतना ही त्‍वचा की खूबसूरती निखारने के भी काम आता है

शुद्ध गुड़ खााने से शरीर को आयरन और विटामिन प्राप्‍त होता है, जिससे बीमारियां तो दूर होती ही हैं साथ त्‍वचा से दाग धब्‍बे दूर होते हैं और बाल भी खूबसूरत बनते हैं।

अगर आपको अपना सौंदर्य निखारना है तो गुड़ खाना आज से शुरु कर दें। इसे लेने के कई तरीके हैं, जिसके बारे में हम आपको इस आर्टिकल में बताएंगे।

एक्‍ने और पिंपल दूर करे यदि आप नियमित रूप से गुड़ का सेवन करती हैं तो आपके चेहरे से काले धब्‍बे और पिंपल्‍स आदि दूर होने शुरु हो जाएंगे। आप चेहरे के लिये पैक भी बना सकती हैं, जिसके लिये 1 चम्‍मच गुड़ या ब्राउन शुगर में 1 चम्‍मच टमाटर का रस, आधा नींबू का रस, चुटकीभर हल्‍दी तथा जरुरत भर की गरम ग्रीन टी मिलाएं। फिर इसे चेहरे पर 15 मिनट के लिये लगाएं और फिर चेहरे को धो लें।



एंटी एजिंग के लिये भी अच्‍छा गुड़ में एंटीऑक्‍सीडेंट होता है जो कि फ्री रैडिक से लड़ने में सहायक होता है। इससे उम्र कम होने लगती है और चेहरे की झुर्रियां दूर हो जाती हैं।

घने और खूबसूरत बालों के लिये गुड़ के पैक में आपको ढेर सारा आयरन और विटामिन सी मिलेगा जो कि कमजोर बालों के लिये अच्‍छा माना जाता है। अगर गुड़ को मुल्‍तानी मिट्टी, दही तथा पानी के साथ मिला कर बालों के लिये पैक बना कर लगाया जाए तो बालों की ग्रोथ हेागी, बाल घने भी बनेंगे और स्‍मूथ भी होंगे।

स्‍किन को अंदर से पोषण पहुंचाए गुड़ में ढेर सारे मिनरल्‍स और विटामिन्‍स होने के कारण यह एक प्राकृतिक क्‍लींजर की तरह काम करता है। यह कब्‍ज होने से रोकता है जो कि स्‍किन में ग्‍लो भरता है, शरीर हो हाइड्रेट रखता है और स्‍वस्‍थ रखता है। आप को रोज़ गुनगुने पानी में या फिर चाय में शक्‍कर की जगह पर गुड़ मिला कर रोजाना पीना चाहिये।



रक्‍त शुद्ध करे यह खून को अंदर से साफ करता है और एनीमिया से बचाता है। अगर रक्‍त साफ है तो आपके शरीर पर कभी भी फोड़े और फुंसियां नहीं निकलेंगी। इसलिये इसका नियमित सेवन करें।

सावधानी: वे लोग जो ओवरवेट या फिर मधुमेह से पीडित हैं,





















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Thursday, August 18, 2016

अब जरुर घटेगा मोटापा... रोज़ सुबह केला खा कर पियें 1 कप गर्म पानी



आज कल लोग वजन कम करने के चक्‍कर में ना जाने कौन कौन सी डाइट अपना रहे हैं। मगर केला खा कर अगर गरम पानी (खौलता हुआ नहीं, बस गुनगुना पानी) पी लिया जाए तो इससे भी काफी वजन कम करने में सहायता मिलती है।

इससे कोई फरक नहीं पड़ता कि आप दिनभर में क्‍या खाते हैं, पर अगर आप सुबह नाश्‍ते में पेट भर केला और गरम पानी पी लेते हैं, तो सब बराबर हो जाता है।
इस डाइट का नाम मॉर्निंग बनाना रखा गया है, जो कि आसानी से की जा सकती है। अगर आप सोंच रहे हैं कि यह डाइट इतने अच्‍छे से कैसे काम करती है, तो हम बता दें कि इसको करने से शरीर का मेटाबॉलिज्‍म बढ़ जाता है और पाचन क्रिया तेज हो जाती है। केला एक प्रकार के स्टार्च से भरपूर होता है, जिसमें ग्लाइसेमिक इंडेक्स की मात्रा बेहद कम होती है, जिससे यह पचने में काफी ज्‍यादा समय लेता है और लंबे समय तक पेट भरे रहने का एहसास दिलाता रहता है। इससे एनर्जी भी खूब मिलती है।

जो लोग इस डाइट का पालन करते हैं, उन्‍हें रात में 8 बजे तक डिनर कर लेने की हिदायत दी जाती है और डिनर के बाद मीठा भी नहीं खाना चाहिये। केला हमेशा ताजा ही खाएं। आइये उदाहरण के तौर पर जानते हैं कि कैसी होनी चाहिये आपकी डाइट: ब्रेकफास्‍ट में 1 या अधिक केले (जब तक कि पेट ना भर जाए) 1 गिलास गरम पानी लंच में ताजे सलाद के साथ भोजन भूख लगने पर 3 बजे से पहले कुछ भी मीठा खा सकते हैं डिनर में सब्‍जियों से भरपूर्ण भोजन मीठा ना खा



केला खाते खाते गरम पानी पीने से शरीर में पानी की कमी की समस्‍या भी दूर होती है। वे लोग जो सोंचते हैं कि सुबह खाली पेट उठ कर ठंडा पानी पीने से दिन की शुरुआत अच्‍छी होती है तो, ऐसा नहीं है। बल्‍कि इससे शरीर का मेटाबॉलिज्‍म धीमा पड़ जाता है और वजन घटाना मुश्‍किल हो जाता है



तो फिर अब जिम जाने और बोरिंग डाइट करने की चिंता छोडिये और अपनाइये यह बनाना डाइट और कुछ ही दिनों में देखिय























सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Tuesday, August 16, 2016

आँखों में ज्यादा पानी आने पर करें ये घरेलू उपाय

आँखों में पानी आने का कारण आंसुओं का ज्यादा बनना, सूजन या सामान्य आंसुओं का पूरी तरह नहीं निकल पाना है। इसके इलाज के लिए कुछ घरेलू नुस्खे जानना फायदेमंद है। आँखों से पानी आना (अश्रुपात) वह स्थिति है जिसमें बिना किसी कारण के आँसू पैदा होते हैं और पूरी तरह बाहर नहीं निकल पाते हैं। अधिकतर बार, इसका समाधान घरेलू इलाज से हो सकता है।

ठंडे या गरम कपड़े से दबाना आंसू नलिकाओं की रुकावट आँखों में पानी का प्रमुख कारण है। ठंडे या गरम कपड़े से दबाने से आँखों से यह परत हट जाती है, जिससे जहरीले पदार्थ भी बाहर निकाल जाते हैं और आँख की ललाई और जलन ठीक हो जाती है।


टी बैग ठंडे या गरम कपड़े से दबाने की तरह ही टी बैग भी एक अच्छा घरेलू उपाय है। टी बैग को कुछ देर गर्म पानी में रखें। जब यह गर्म हो जाये तो इसे आँखों पर रखें। कैमोमाइल, पेपरमिंट और स्पेयरमिंट पानी भरी आँखों के इलाज के लिए कारगर ह

बेकिंग सोडा आप घर पर ही इसके लिए मिश्रण बना सकते हैं। एक टी स्पून बेकिंग सोडा को गर्म पानी में डालें। इससे आँखों को 2-3 बार या जितना जरूरी हो धोएँ।

नमक और पानी का घोल आँखों में पानी होने पर जलन और खुजली चलती है। ऐसे में आप नमक और पानी का घोल घर पर बनाकर इलाज कर सकते हैं। नमक एक एंटी-बैक्टीरियल होने के कारण यह जहरीले बैक्टीरिया को आँखों से बाहर निकाल देता है। इसे 3 दिन तक दिन में कई बार लगाएँ

यदि कोई धूल मिट्टी चली गई हो यदि आपको लगे कि कोई बाहरी तत्व या धूल, मिट्टी आँखों में चली गई है तो आप गीले कपड़े से इसे साफ कर सकते हैं। आंसुओं को हाथों के बजाय गीले कपड़े से ही साफ करें क्यों कि हाथों में कई बैक्टीरिया होते हैं।

नारियल का तेल हम सब जानते हैं कि नारियल का तेल एक अच्छा मोश्चुराइजर है। इसे आँखों के आस पास रगड़ने से आराम मिलेगा।
























सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


विटामिन डी की कमी आपको कमज़ोर बना सकती है


विटामिन डी फैट में घुलनशील विटामिन है जो अंडे की जर्दी, दूध से बने उत्पाद, फिश, फिश ऑइल, साबुत अनाज में पाया जाता है। हमें सूर्य से भी पर्याप्त मात्रा में विटामिन डी मिलता है। इसलिए इसे सन विटामिन भी कहा जाता है। अध्ययनों से सिद्ध हो चुका है कि विटामिन डी कमी से शरीर कमज़ोर हो जाता है। विटामिन डी हमारे शरीर द्वारा कैल्शियम के समुचित उपयोग के लिए ज़िम्मेदार होता है। अत: हड्डियों के उचित स्वास्थ्य के लिए, मज़बूत दांतों के लिए तथा हड्डियों से संबंधित बीमारियों के निदान के लिए विटामिन डी की बहुत आवश्यकता होती है। नई रिपोर्ट्स से पता चला है कि सूर्य से मिलने वाला यह विटामिन विशेष तरह की बीमारियों से लड़ने में सहायक होता है जिसमें उच्च रक्तचाप, डाइबिटीज़, अवसादग्रस्तता, ट्यूमर, कमज़ोर हड्डियां और कमज़ोर प्रतिरक्षा तंत्र आदि शामिल है।

विटामिन डी की कमी से रिकेट्स जैसी बीमारी हो जाती है जिसके कारण हड्डियों में विकृति आ जाती है तथा हड्डियां कमज़ोर हो जाती हैं। विटामिन डी की कमी के लक्षणों में हड्डियों में दर्द और मांसपेशियों की कमज़ोरी शामिल है। विटामिन डी कमी से बच्चों में हृदय से संबंधित बीमारियाँ, कैंसर, अस्थमा आदि समस्याएं तथा वयस्कों में संज्ञानात्मक दुर्बलता आ सकती है
बहुत से लोग कई कारणों से विटामिन डी कमी से ग्रस्त होते हैं। वे लोग जो विटामिन डी युक्त आहार नहीं लेते उनमें विटामिन डी की कमी पाई जाती है। क्योंकि विटामिन डी की अधिकतम स्त्रोत जानवरों से प्राप्त खाद्य पदार्थ हैं अत: शाकाहारी लोगों में विटामिन डी कमी होनी की समस्या अधिक होती है।

वे लोग जो हमेशा अंदर रहते हैं तथा सूर्य की रोशनी में नहीं निकलते उनमें भी विटामिन डी की कमी होने की संभावना होती है। शोध से पता चला है कि ऐसे बुज़ुर्ग जिनकी त्वचा का रंग गहरा होता है उन्हें भी विटामिन डी की कमी होने का खतरा अधिक होता है। कभी कभी कुछ लोगों में किडनी शरीर में विटामिन डी को उस रूप में नहीं बदल पाती जिस रूप में शरीर इसे अवशोषित करता है। इसके कारण विटामिन डी की कमी हो जाती है।

आँतों की बीमारी से ग्रसित लोगों में विटामिन डी की कमी पाई जाती है क्योंकि इन लोगों के शरीर का पाचन तंत्र पर्याप्त मात्रा में विटामिन डी को अवशोषित नहीं कर पाता। मोटे लोगों में भी विटामिन डी कमी पाई जाती है क्योंकि वसा कोशिकाएं रक्त से विटामिन डी अवशोषित कर लेती हैं।




















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


प्राकृतिक तरीके से कैसे हटाएँ ठोड़ी से अनचाहे बाल?



बहुत सी महिलाओं के चेहरे पर अत्यधिक संख्या में बाल दिखाई देते हैं और ऐसी कई महिलायें होती हैं जिनके चेहरे के बालों का रंग ज़्यादा गहरा होता है जिसकी वजह से दूसरों की अपेक्षा उनकी ओर सबका ध्यान अधिक जाता है और ऐसी स्थिति में आत्म सम्मान और आत्म विश्वास की कमी महसूस होती है। इस समस्या के निवारण के लिए हम इस आर्टिकल में ठोड़ी (chin) और ठोड़ी के ऊपर के बालों को हटाने के घरेलू उपाय पर चर्चा करेंगे इन प्राकृतिक उपचारों की मदद से आप ठोड़ी के अनचाहे बालों से मुक्ति पा सकते हैं।

ठोड़ी पर अनचाहे बालों का मुख्य कारण (Causes of unwanted hairs on chin)

शरीर पर लगने वाले इन अत्यधिक बालों की स्थिति को ‘हिर्सुटिज़्म’ (Hirsutism) कहते हैं। इसके विभिन्न कारण हो सकते हैं जैसे,
रक्त में एंडरोजेन (Androgens) का अत्यधिक निर्माण
पॉलीसिस्टिक ओवरियन डिसऑर्डर (PCOD)

‘हिर्सुटिज़्म’ एक ऐसी अवस्था है जो पीढ़ी पर पीढ़ी हो सकती है, अर्थात यह अनुवंशानुगत रूप से प्रभावशाली होती है।
प्राकृतिक तरीके से ठोड़ी से अनचाहे बाल कैसे हटाएँ (How to remove unwanted hairs on chin)



ठोड़ी और ठोड़ी के नीचे के अनचाहे बालों से छुटकारा के लिए हल्दी का प्रयोग (Turmeric to remove hair under chin)

पिछले कई वर्षों से भारत और चीन में हल्दी का प्रयोग उपचार के तौर पर किया जा रहा है। दवा के रूप में हल्दी के अनेक गुण है, आज हम यहाँ हल्दी (turmeric) के साथ दही (yogurt) को एक सरल उपचार के रूप में आपके लिए प्रस्तुत कर रहे हैं। दही और हल्दी को मिलाकर गाढ़ा पेस्ट बना लें और इसका प्रयोग ठोड़ी के बालों पर करें। अनचाहे बालों को हटाने के लिए हल्दी और दही के इस प्रयोग को कम उम्र से ही रोजाना नियमित रूप से करना फायदेमंद होता है।
अनचाहे बालों को हटाने के लिए बेसन का प्रयोग (Gram flour for remove hair from chin and face)

एक चम्मच हल्दी में एक चम्मच बेसन और नींबू का रस मिलाकर अच्छी तरह मिला लीजिये। इस पेस्ट को अपनी ठोड़ी और आसपास के बालों पर लगा लीजिए। इस पेस्ट को लगाने के बाद सूखने तक प्रतीक्षा कीजिये और फिर एक कपड़े को गरम पानी में भिगो कर हल्के हाथों से सर्कुलर मोशन (circular motion) में रगड़कर धो लीजिये।
शुगर वेक्स के घरेलू उपाय से हटाएँ अनचाहे बाल (Sugar wax to remove chin hair)

शुगर वेक्स एक प्राकृतिक उपाय है जो बहुत से सलोन (salon) और पार्लर्स में इस्तेमाल किया जाता है। पर जब आप इसे घर पर ही कर सकतीं हैं तो बाहर पैसे खर्च करने का कोई मतलब नहीं। 10 चम्मच पानी (water) में 2 चम्मच नींबू के रस (lemon juice) को मिलाकर गरम करें। जब इस पानी में उबाल आए तो 2 चम्मच चीनी डालकर तब तक उबालें जब तक की इस मिश्रण का रंग भूरा (brown) ना हो जाए। अब इसे उतार कर ठोड़ी गर्म अवस्था में ही बालों वाले हिस्से पर लगा लें और सूती कपड़े से ढ़क दें। इसके बाद कपड़े को बालों की विपरीत दिशा की तरफ खींच कर निकाल लें।




प्युमिस पत्थर से करें अनचाहे बालों को दूर (Pumice stone to get rid of unwanted hairs)

प्युमिस पत्थर (pumice stone) को अपनी ठोड़ी और उन हिस्सों पर रगड़िए जहाँ से अनचाहे बालों को आप हटाना चाहती हों। इसे आम बोलचाल की भाषा में इसे ‘झामक या झामां’ भी कहते हैं, इसके नियमित इस्तेमाल से ठोड़ी के अनचाहे बाल (anchahe baal) बाहर निकल आते हैं, पर यह प्रयोग संवेदनशील त्वचा (sensitive skin) के लिए नुकसानदायक हो सकता है। और इससे त्वचा अत्यधिक रूखी हो सकती है इसलिए जब भी इसका इस्तेमाल अपनी त्वचा पर करें तब इसे हल्के हाथों से ही रगड़ें और प्रयोग के बाद कोई सौम्य क्रीम या मॉश्चराइज़र अवश्य लगा लें।
पहाड़ी पुदीने की चाय (Spearmint tea se unchahe balo ko hatana)

इसे लोग जिन्हें अत्यधिक टेस्टोस्टेरॉन (Testosterone) की मात्रा की समस्या होती है वे लोग इसका प्रयोग कर सकते हैं। टेस्टेस्टेरॉन की ज़्यादा मात्रा अनचाहे बालों को बढ़ाने में सहायक होती है। नियमित रूप से 2 कप इस चाय को पीने से टेस्टेस्टेरॉन कम होता है और बालों की संख्या भी कम होने लगती है।
ठोड़ी के बालों को हटाने के लिए मास्क (Mask to get rid of hair under chin)

ठोड़ी के बालों को हटाने के लिए नीचे कुछ फेस मास्क के बारे में जानकारी दी जा रही है, इनका प्रयोग पूरे चेहरे पर करना चाहिए, ये मास्क न केवल बालों को कम करता है बल्कि चेहरे को ग्लो (Glow) देने में भी मदद करता है।

चेहरे के बाल कैसे हटाए, एक छोटी कटोरी में 2 चम्मच कॉर्नफ्लोर (Corn flour) और 2 चम्मच अंडे के सफ़ेद हिस्से को लेकर अच्छी तरह मिक्स कर लें। अब इसमें 1 चम्मच चीनी मिलाकर इस मास्क को चेहरे पर लगा लें। जब ये सूख जाए तब हल्के गुनगुने पानी से चेहरे को धो कर साफ कर लें। यह मास्क न केवल आपके अनचाहे बालों को हटाता है बल्कि चेहरे पर स्क्रब का भी काम करता है।


शरीर से बाल हटाने के घरेलू उपाय – पपीता (Use of papaya for remove hair)

कच्चे पापीते (Raw papaya) को पीसकर कच्चे दूध या हल्दी में मिलाकर पेस्ट बना लीजिये। इसे चेहरे पर लगा कर सूखने दीजिये। जब यह मास्क सूख जाए तो पानी से धो लें और बेहतर परिणाम के लिए अनचाहे बालों वाले स्थान पर इस प्रयोग को दिन में दो बार करें।

अनचाहे बालों को हटाने के लिए दाल और आलू का प्रयोग (Yellow gram with potato – anchahe balo ko hatana)

आपने इस प्रयोग के बारे में पहले कभी नहीं सुना होगा, पर ये प्रयोग आपकी त्वचा से अनचाहे बालों को दूर करने के लिए बहुत प्रभावी हो सकता है। पीले दाल (Yellow lentil) को पीस कर आलू के रस (potato juice) में मिलाकर पेस्ट बना लीजिये, अब इस पेस्ट में थोड़ा नींबू का रस मिलाकर रात भर के लिए छोड़ दीजिये। सुबह इसे छानकर इसके पानी को अलग कर लीजिये। इस पेस्ट से निकाला यह अतिरिक्त पानी बालों को हटाने में काफी मददगार होता है। आप इस पेस्ट को थोड़ा और चिपचिपा और गाढ़ा बानाने के लिए कुछ मात्रा में शहद (Honey) मिला सकते हैं।
त्वचा के अनचाहे बाल हटाने का तरीका के लिए हरे चने का बेसन (unchahe baal hatane ke tarike ke liye green gram)

हरे चने को पीसकर इस पाउडर में नींबू का रस और गुलाब जल (Rose water) मिला लें। यह पैक चेहरे के लिए बहुत फायदेमंद तो होता ही है साथ ही यह अनचाहे बालों को निकालने में भी प्रभावी होता है।

ये सभी कुछ बेहतरीन घरेलू उपाय हैं, जिनकी मदद से आप ठोड़ी के अनचाहे बालों को हटा सकते हैं। ये उपचार धीमी गति से कार्य करते हैं इसलिए आपको धैर्य रखते हुये इनका प्रयोग करना चाहिए और साथ ही अच्छे और पूर्ण परिणामों के लिए इनका दोहराव भी करना आवश्यक हैसरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


चमकती त्वचा के लिये अनन्नास के फेस पैक, फेस मास्क



अनन्नास काफी स्वादिष्ट फलों में से एक है जो कि आपकी आंतरिक सुन्दरता को बाहर लाने के लिए भी जाना जाता है। एक बार अगर आपने अनन्नास के फेस पैक और मास्क्स का अपने चेहरे पर प्रयोग कर लिया तो आपकी त्वचा पर चमक आने से कोई नहीं रोक सकता। ताज़े अनन्नास से बने ये फेस पैक्स बाज़ार में मौजूद अन्य रसायन युक्त फेस पैक्स के मुकाबले कही ज़्यादा असरदार होते हैं। इसके लिए आपको ब्यूटी पार्लर्स (beauty parlors) में जाकर अपनी सुन्दरता को बाहर लाने के लिए अनावश्यक पैसे खर्च करने की भी कोई आवश्यकता नहीं होती। घरेलू नुस्खों का प्रयोग करने से आपका काफी पैसा बच जाएगा। अगर आप हफ्ते में कम से कम 2 बार इन पैक्स का अपने चेहरे पर प्रयोग कर सकें तो आपको अपनी सुन्दरता के लिए कुछ और करने की बिल्कुल भी ज़रुरत नहीं पड़ेगी। अनन्नास के घरेलू नुस्खों की मदद से आपकी त्वचा लम्बे समय तक जवान और खिली हुई बनी रहेगी। त्वचा की देखभाल कैसे करें :-

आवश्यक शहद अनन्नास फेशियल मास्क (Essential Honey Pineapple face mask)

सामग्रियां (Ingredients) : ताज़ा अनन्नास, 3 चम्मच अतिरिक्त वर्जिन जैतून तेल, 1 चम्मच प्राकृतिक शहद

फेस पैक बनाने की विधि (Procedure) : स्किन की देखभाल, अनन्नास को जैतून तेल और शहद के साथ चिकना लेप बनाने के लिये मसल लें। इस मिश्रण को अपने चेहरे और गर्दन पर लगा लें। इसे लगाकर 30 मिनट तक सूखने के लिये छोड़ दें। इसके बाद गुनगुने पानी से इसे धो दें और अपने चेहरे पर ठण्डे पानी के छींटे डालें और मॉइस्चराइज़ करें।
नारियल, अनन्नास कॉस्मेटिक फेस मास्क (Coconut, Pineapple cosmetic mask)

सामग्रियां (Ingredients) : 4 ताज़ा अनन्नास टुकड़े, 2 चम्मच नारियल दूध



फेस पैक बनाने की विधि (Procedure) : इन सभी सामग्रियों को फूड प्रोसेसर में डाल कर अच्छे से मिला दें जब तक आपको एक चिकना लेप न मिल जाये। इस मिश्रण को चेहरे और गर्दन पर लगा लें। 30 मिनट तक इसे सूखने के लिये छोड़ दे। इसे गुनगुने पानी के साथ धो दें और अपने चेहरे पर कुछ ठण्डे पानी के साथ छीटें डालें। अपने चेहरे को सुखा दें और इसे मॉइस्चराइज़ करें।
पपीता, शहद और अनन्नास फेस मास्क (Papaya, Honey Pineapple face mask)

यह अनन्नास कॉस्मेटिक मास्क आपकी त्वचा का अपपर्णन, जलीकरण और नमी करता है साथ ही आपकी त्वचा की रंगत में कांति और स्फूर्ति को लाता है। शहद का एंटीऑक्सीडेन्ट गुण आपकी त्वचा का पोषण करने में सहायता मरम्मत के साथ करता है। यह नमी को बचाते हुए आपकी त्वचा पर अच्छी चमक लेकर आता है।

सामग्रियां (Ingredients) : 4 टुकड़ा ताज़ा पपीता, 3 टुकड़ा तज़ा अनन्नास, 1 चम्मच प्राकृतिक शहद

फेशियल करने का तरीका (Procedure) : पपीते और अनन्नास को फूड प्रोसेसर में मसल लें और इसके बाद इसमें शहद को मिला दें। अच्छी तरह मिला कर चिकना लेप बना लें। अपने चेहरे और गर्दन पर लगाकर 20 मिनट तक सूखने के लिये छोड़ने बाद ठण्डे पानी से धो दें। लम्बे समय तक चमक को बनाये रखने के लिये मॉइस्चराइज़ करें।
हरी चाय, पपीता, शहद और अनन्नास घरेलू फेस पैक (Green tea, Papaya, Honey and Pineapple gharelu face pack hindi me)




पिछले बताये गये पपीते अनन्नास पैक से इसमें थोड़ा अंतर है। चाय इसे प्रमाणिक मुन्हासे का मास्क बनाता है। इसमें पाये जाने वाले तत्व समान प्रकार की बिमारियों से लड़ने में और त्वचा को मजबूत और कसा करने में भी सहायता करते हैं।

सामग्रियां (Ingredients) : 4 टुकड़ा ताज़ा पपीत, 3 टुकड़ा ताज़ा अनन्नास, आधा चम्मच प्राकृतिक शहद, 1 चम्मच हरी चाय

फेशियल करने का तरीका (facial kaise kare hindi me) : चाय की पत्तियों के साथ पानी को उबालकर ठण्डा होने के लिये छोड़ दें। पपीते और अनन्नास को ब्लेंडर में डालकर अच्छे से मसल लें। शहद और चाय के काढ़े को इसमें डालकर अच्छे से मिलाकर चिकना लेप बना लें। चेहरे और गर्दन पर लगाकर 20 मिनट के लिये छोड़ने के बाद ठण्डे पानी से धो दें। लम्बे सम्य तक त्वचा की चमक के लिये मॉइस्चराइज़र की पतली परता लगायें।
अंगूर के बीज, शहद, अनन्नास घरेलू फेस पैक (Grape seeds, Honey Pineapple face mask)

इस फेस मास्क में अंगूर के बीज के तेल में मोटा अम्ल मिलता है जो टूटी/फटी त्वचा, आंखों के पास की झुर्रियों और खिंचाव के निशान की मरम्मत करने में सहायता करता है।


सामग्रियां (Ingredients) : 4 टुकड़ा अनन्नास, 1 चम्म्मच अंगूर बीज तेल, 2 चम्मच प्राकृतिक शहद

फेशियल कैसे करे (Procedure) : इन सभी सामग्रियों को फूड प्रोसेसर में डालकर मिलालें जब तक कि आपको चिकना लेप न मिल जाये। इसे अपने चेहरे और गर्दन पर 20 मिनट तक लगाकर छोड़ दे। इसके बाद ठण्डे पानी से धो दें। लम्बे समय तक की चमक के लिये मॉइस्चराज़र लगायें।


अण्डे की सफेदी, शहद अनन्नास मास्क (Egg white, Honey, Pineapple mask)

यह एक नया त्वचा को कसने वाला मास्क है। अण्डे की सफेदी त्वचा को मजबूत और कसने में सहायता करती है।

सामग्रियां (Ingredients) : 1 अण्डे की सफेदी, केवल 2 बड़े ताज़े नये अनन्नास के भाग, 1 चम्मच प्राकृतिक शहद


फेशियल कैसे करे (Procedure) : इन सभी सामग्रियों को फूड प्रोसेसर में डालकर अच्छे से मिलाकर चिकना लेप बना लें। अब इसे चहरे और गर्दन पर अचछे से लगा कर 20 मिनट के लिये छोड़ दें। इसके बाद ठण्डे पानी से धो दें और अपने चेहरे को थपथपायें। लम्बे समय तक चमक को बनाये रखने के लिये मॉइस्चराइज़र को लगायें।
सिर्फ अनन्नास (Simply pineapple)

बाज़ार से एक ताज़ा अनन्नास खरीदें और इसका छिलका छुड़ा लें। इसके बाद इसके टुकड़े कर लें। अनन्नास के टुकड़ों को थोड़ा छोटा काटें, जिससे इनका इस्तेमाल आसानी से किया जा सके। अब इन टुकड़ों को अपनी त्वचा पर धीरे धीरे रगडें। इसे लगाने के बाद आप पाएंगी कि आपका चेहरा दिखने में गीला लग रहा है। अब अपने चेहरे के सूखने की तथा अनन्नास के रस के आपके चेहरे में समाने की प्रतीक्षा करें। 10 मिनट के बाद अपने चेहरे पर पानी डालकर इस रस को निकाल लें। इसके प्रयोग से आपकी त्वचा नर्म मुलायम और दमकती हुई हो जाएगी।
अनन्नास और बेसन (Pineapple and gram flour)

आप अब अनन्नास और बेसन के मिश्रण की मदद से भी काफी बेहतरीन फेस पैक का निर्माण कर सकते हैं। सालों से लोगों के द्वारा बेसन का प्रयोग त्वचा को गोरा करने एवं त्वचा से काले दाग एवं धब्बे पूरी तरह हटाने के लिए किया जा रहा है। इस फेस मास्क को तैयार करने के लिए एक ताज़ा अनन्नास लें और इसे छीलें, काटें और ब्लेंडर (blender) की मदद से इसका गूदा निकाल लें। अब एक पात्र में 2 चम्मच बेसन और इतनी ही मात्रा में अनन्नास का गूदा लें। इन दोनों को काफी अच्छे से मिश्रित करें, जिससे कि यह एक गाढ़े पेस्ट में परिणत हो जाए। इस गूदे का प्रयोग अपने चेहरे के ऊपर करें तथा आधे घंटे के लिए छोड़ दें जिससे ये सूख जाए। अब इसे ठन्डे पानी से धो लें और त्वचा में आया निखार स्वयं देखें।



ग्रीन टी और अनन्नास का फेस मास्क (Green tea and pineapple face mask)

चेहरे पर चमक लाने के लिए त्वचा से एक्ने (acne) के दाग दूर करना काफी ज़रूरी होता है। ग्रीन टी आपके चेहरे से अनचाहे एक्ने के दाग हटाने में काफी कारगर साबित होती है और इसमें चमक भी लाती है। अनन्नास और ग्रीन टी के मिश्रण की मदद से आपके चेहरे की टोनिंग (toning) भी हो जाती है। इसके लिए अनन्नास का गूदा, 1 चम्मच ग्रीन टी और एक चम्मच शहद लें। इन सबको अच्छे से मिलाकर एक पात्र में डालें और एक बार महीन पेस्ट तैयार हो जाने पर अपने चेहरे पर लगा लें। अपनी उँगलियों की मदद से इसका प्रयोग अपने चेहरे और गले पर करें। इस पैक को 15 मिनट के लिए छोड़ दें जब तक ये सूख ना जाए। एक बार समय समाप्त होने पर इसे हलके गर्म पानी से धो लें। इससे आपकी त्वचा साफ़ सुथरी और चमकदार बनेगी।
अनानास, खीरा और मलाई (Pineapple, cucumber and cream)

खीरा आपकी त्वचा को आराम देता है, खासकर तब जब आप गर्मियों के दिनों में बेचैन हो जाते हैं। यह त्वचा से धूल और गन्दगी को पूरी तरह साफ़ करके इसे साफ़ सुथरा एवं खूबसूरत बनाता है। अनानास और मलाई खीरे की कार्यशीलता में वृद्धि करते हैं और त्वचा पर चमत्कारी चमक जगाते हैं। इसके लिए अनानास के कुछ टुकड़े और इसे ग्राइंडर (grinder) में पीस लें। अब खीरे के कुछ टुकड़ों को लेकर इनका भी गूदा बना लें। अब एक पात्र लें और इसमें 2 चम्मच खीरे और 2 चम्मच अनानास का गूदा डाल दें। इसमें एक चम्मच मलाई भी डालें और इन सबको अच्छे से मिश्रित करें। अनानास के इस बेहतरीन फेस पैक को अपने चेहरे पर लगाएं और 15 मिनट तक प्रतीक्षा करें। इसे हलके गर्म पानी से धो लें। त्वचा में आई अतिरिक्त चमक और ताजगी को महसूस करें। बार बार इसका प्रयोग करने से आपकी त्वचा को काफी लाभ होगा।


सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


Saturday, August 13, 2016

पेट फूल रहा है तो कीजिये इन खाद्य पदार्थों का सेवन


ब्लॉटिंग (पेट फूलना) बहुत कष्टप्रद हो सकता है परन्तु यह एक ऐसी समस्या है जिसका सामना हम सभी को कभी न कभी करना ही पड़ता है। पेट फूलने के साथ कभी कभी डकार आने की भी समस्या हो सकती है। ब्लॉटिंग के कई कारण हो सकते हैं। खाना खाने के बाद होने वाली ब्लॉटिंग का मुख्य कारण आहार है। खाना खाने के लिए पर्याप्त समय नहीं देने से भी ब्लॉटिंग की समस्या हो सकती है।

महिलाओं में मासिक धर्म भी ब्लॉटिंग का एक कारण हो सकता है। डिहाईड्रेशन (पानी के कमी) के कारण भी ब्लॉटिंग की समस्या हो सकती है।

यद्यपि चिंता की कोई बात नहीं है। कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जिनका आज सेवन करके आप कल ब्लॉटिंग से छुटकारा प्राप्त कर सकते हैं।

अदरक आप अपनी चाय में अदरक डाल सकते हैं और अदरक की चाय पी सकते हैं या अपने खाने में अदरक को शामिल कर सकते हैं।

सौंफ इसका उपयोग गैस और ब्लॉटिंग की समस्या से निपटने में किया जाता है। सौंफ आँतों की कोशिकाओं को आराम पहुंचाती हैं जो फंसी हुई गैस को दूर करने में सहायक होता है। खाने के बाद थोड़ी सी सौंफ खाएं तथा गैस और पेट फूलने की समस्या से छुटकारा पायें।

दही 
दही में प्रोबायोटिक्स प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। प्रोबायोटिक्स अच्छे बैक्टीरिया होते हैं जो पाचन में और भोजन के अवशोषण को बढ़ाकर पाचन तंत्र को अच्छी तरह कार्य करने में सहायक होते हैं। इस से डि-ब्लॉटिंग में सहायता मिलती है।



केला 
केले में पोटैशियम प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। पोटैशियम शरीर में सोडियम की मात्रा को नियमित करता है जो ब्लॉटिंग के लिए ज़िम्मेदार होता है।

लाल मिर्च इसके अलावा अपने आहार में लाल मिर्च शामिल करें। लाल मिर्च में कैपेसिन नामक तत्व पाया जाता है जो पाचन के लिए आवश्यक एंजाइम्स के स्तर को बढ़ाता है। इससे गैस और पेट फूलने की समस्या में कमी आती है।



















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें ।