Wednesday, June 22, 2016

जरूर पढ़ें, अगर बनने वाली है माँ


बच्चे, जिन्हे हम भगवन का रूप मानते है, ऐसा कहा जाता है कि छोटे बच्चों को भगवान् नजर आते है, जिनके साथ वे खेलते है। अक्सर जन्मे बच्चे बेवक़्त उठते है, रोतें  हैं जिसकी वजह मात पिता कि नींद ख़राब होती है, इसलिए आज हम आपको जन्मे शिशु को चुप कराने और सुलाने के आसान तरीकों के बारे में बताने जा रहे है। अगर आप क्वारी है या आपकी शादी होने वाली है, तो आपके लिए इन टिप्स को और भी जरुरी हो जाता है।
आमतौर पर बच्चों को लोरी गाकर सुलाया जाता है, लेकिन बच्चे सिर्फ लोरी से ही नहीं सोते, उनको हलकी-हलकी थपकी और थोड़ा थोड़ा झूला झुलाते रहना चाहिए, जिससे उन्हें नींद आ जाएगी।
ध्यान रहे की बच्चों को पेट के बल न लिटाए, ऐसा करने से उनके शारीरिक विकास पर काफी असर पड़ता है।
बच्चे सबसे ज्यादा जल्दी स्तनपान कराते वक़्त सोते है, ध्यान रखें स्तनपान करते वक़्त बच्चे के सर पर धीरे धीरे हाथ फेरे, जब बच्च गहरी नींद में सो जाए तो उसे उसे बिस्तर पर लिटा दें।बच्चों को बिस्तर पर लिटाने से पहले खुद की गोद में सुलाएं। स्तनपान के बाद तुरंत बिस्तर पर लिटाने से बच्चे के मुंह से दूध बाहर आ सकता है।
बच्चों को अक्सर स्ट्रॉलर में खेलना व उसमे चलना पसंद होता है, कभी कबार बच्चे स्ट्रॉलर में खेलते खेलते ही सो जाते है। स्ट्रॉलर बच्चों के विकास का सबसे अच्छा तरीका है , इससे उनके पैरों को आराम भी मिलता है और वे चलना भी सीख जाते है।




















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


No comments:

Post a Comment