Monday, June 6, 2016

राई का पहाड़ नहीं राई से इलाज कीजिए... पढ़ें 10 गुण









राई का पहाड़ नहीं राई से इलाज कीजिए... पढ़ें 10 गुण

राई। भारतीय मसालों में सबसे नन्हा मसाला। इसकी गिनती सरसों की जाति में होती है। इसका दाना छोटा व काला होता है। इसके बारें में कहावत है कि राई का पहाड़ मत कीजिए यानी छोटी सी बात का बतंगड़ ना बनाएं... यह छोटा सा दाना अपने आप में सेहत के राज छुपाए हैं आइए जानें इसके 10 गुण :


राई का प्रमुख गुण पाचक होता है।

पेट के कीड़े इसका पानी पीने से मर जाते हैं।






हैजे में राई को पीस कर पेट पर लेप करने से उदरशूल व मरोड़ में आराम मिलता है।

इसकी पुल्टिस बना कर दर्द वाली जगह पर सेंक किया जाए तो तुरंत राहत मिलती है।



राई के लेप से सूजन कम होती है।

गर्म पानी में राई डालने से राई फूल जाती है। उसके गुण पानी में पहुंच जाते हैं। इस पानी को गुनगुना सहने योग्य कर किसी टब में कमर तक भर कर बैठा जाए तो सभी प्रकार के यौन रोग प्रदर, प्रमेह आदि में बेहतर सुधार आता है।



इसे पीस कर शहद में मिलाकर सूंघने से जुकाम में आराम मिलता है।

मिर्गी-मूर्च्छा में मात्र राई पीस कर सूंघाने से फायदा होता है।

राई के तेल में बारीक नमक मिलाकर मंजन करने से पायरिया रोग का नाश होता है।

राई के दानों से नजर उतारी जाती है। अगर हम इस अंधविश्वास को ना भी मानें तो भी राई के दाने पास में रखने से कई बीकारियों से बचा जा सकता है।

चेतावनी : राई के अधिक प्रयोग से उल्टी हो सकती है अत: राई का सीमित मात्रा में प्रयोग करना चाहिए।
















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


No comments:

Post a Comment