Tuesday, May 5, 2015

अच्छी सेहत सुन्दर सूरत के लिए लाभकारी है यह काला फल …

अच्छी सेहत सुन्दर सूरत के लिए लाभकारी है यह काला फल … 

आश्चर्य न करें.. जामुन है ही चीज। इसका काढ़ा पीने से आवाज मधुर हो जाती है। यह कई गुणों से भरपूर है। इसमें आयरन, विटामिन और फाइबर पाया जाता है। इसमें खनिजों की मात्रा अधिक है। इसके बीज में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और कैल्शियम अधिक मात्रा में पाया जाता है।  पानी की प्रचुरता से यह गर्मी के खास फलों में गिना जाता है। इसके फल ही नहीं गुठली, पत्ते व छाल भी गुणकारी है। जानिए यह सेहत के लिए कितना फायदेमंद है... 


पेट के लिए रामबाण जामुन शरीर की पाचनशक्ति को मजबूत करता है। मधुमेह के रोगी जामुन की गुठलियों को सुखाकर पीसकर खाएं, तो काफी लाभ मिलेगा। इसकी गुठली के अंदर की गिरी में जंबोलीन नामक ग्लूकोसाइट पाया जाता है। यह स्टार्च को शर्करा में परिवर्तित होने से रोकता है। इसी से मधुमेह के नियंत्रण में सहायता मिलती है। जामुन में एंटी कैंसर के गुण पाये जाते हैं। जामुन की गुठली के चूर्ण को दही के साथ मिलाकर खाने से पथरी में फायदा होता है। लीवर के लिए भी यह बेस्ट है। कब्ज और पेट के रोगों में यह बेजोड़ है। छाले हो गए हैं, तो जामुन का रस आराम देता है। हैरत होगी यह जानकर कि दस्त या खूनी दस्त होने पर जामुन के रस को सेंधानमक के साथ मिलाकर खाने से दस्त बंद हो जाते हैं। एसिडिटी होने पर जामुन को काला नमक के साथ खाएं। 



रोचक जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें 

मुहांसे होने पर जामुन की गुठलियों को सुखाकर पीस लें। इस पाउडर में रात को सोते समय गाय का दूध मिलाकर चेहरे पर लगाएं। सुबह ठंडे पानी से धो लें। काफी आराम मिलेगा। अगर आवाज फंस गई हो या फिर बोलने में दिक्कत हो रही हो तो, जामुन की गुठली के काढ़े से कुल्ला करें। आवाज को मधुर बनाता है जामुन का काढ़ा। जामुन की छाल को बारीक पीसकर हर रोज मंजन करने से दांत मजबूत और रोगरहित होते हैं। 



जामुन के साथ दूध न लें, इससे पेट के विकार हो सकते हैं। हमेशा खाना खाने के बाद खाएं। इसमें वातदोष है, इसलिए वात के रोगी को सावधानी रखनी चाहिए। 

No comments:

Post a Comment