Tuesday, May 26, 2015

"दूध" बनाये तंदरूस्त और मिटायें बीमारी

"दूध" बनाये तंदरूस्त और मिटायें बीमारी 

दमा : 250 ग्राम दूध, 250 ग्राम पानी, 12 मुनक्का बीज निकाल कर पीस कर सबको मिला कर उबालें। जब उबालते -उबालते आधा पानी रह जाए तब इसमें पीसी हुई दस काली मिर्च, एक चम्मच मिश्री मिलाकर गरमागरम नित्य एक बार पिलायें। दमा में यह बहुत लाभकारी है। 
शक्तिवर्धक : (1) एक गिलास दूध में एक चम्मच देशी घी तथा तीन चम्मच शहद मिलाकर नित्य पीया करें। बुढ़ापा शीघ्र नहीं आएगा। बल. वीर्य और सौंदर्य में वृद्धि होती रहेगी। 
(2) मोटापा : एक गिलास  दूध में 15 मुनक्का बीज निकल कर डाल दें। फिर उबाल कर पीने से जैसा ठंडा होने पर एक चम्मच देशी घी और तीन चम्मच शहद डालकर पीयें। इससे वजन बढ़ेगा। 

बाल काले करना : दो किलो दूध उबाल  कर उसमें सौ ग्राम मिलाकर दही जमायें। उसे बिलो कर घी  निकालकर लोहे के अमामदस्ते में इतना रगड़ें कि सारा घी काला  जाये। इस घी को बालों पर लगाने से बाल काले हो जाते हैं। 

सिर दर्द : दूध 500 ग्राम में साफ पानी से धुली हुई 50 ग्राम इमली डाल कर एक घंटा भीगने दें, फिर उस दूध को उबालें। जब दूध फट जाए तो छान कर पानी निकाल लें। इस पानी में पीसी हुई मिश्री स्वाद के अनुसार मिला लें और पीयें। इस प्रकार एक सप्ताह नित्य करें। हर प्रकार के सिर दर्द में इससे लाभ होगा।

अपच : गरिष्ठ भोजन, जैसे - मिठाइयां, जीमन, पूरी आदि  खाने से पेट खराब हो जाता है। अपच हो जाती है। एक गिलास दूध, आधा गिलास पानी, स्वादानुसार चीनी मिलाकर सबको उबालें। अच्छी तरह उबलने के बाद गरमा गर्म धीरे - धीरे पीएं। चार घंटे बाद पुनः इसी प्रकार दूध बना कर पीयें। खाना नहीं खाएं। प्यास लगने पर गर्म पानी पीयें। सारी अपच ठीक हो जाएगी। 

दूध कैसे पीयें : दूध के झाग बहुत लाभदायक होते हैं। इसलिए जब भी दूध पीयें खूब उल्ट - पुलट करके झाग पैदा करके पीयें। झागों का स्वाद लेकर चूसें। जितने ही ज्यादा झाग दूध में होंगे, वह उतना ही लाभदायक होगा।  

No comments:

Post a Comment