Tuesday, May 19, 2015

पथरी और तनाव को दूर करे "कद्दू के बीज "

पथरी और तनाव को दूर करे "कद्दू के बीज "

पथरी या किडनी स्टोन
सन 1987 में अमेरिकन जर्नल ऑफ क्लिनिकल न्यूट्रिशन में प्रकाशित एक शोध के अनुसार जिन लोगों के यूरिन सैंपल में कैल्शियम ऑक्जेलेट के कण पाए गए, उनके भोजन शैली में कद्दू के बीजों को सम्मिलित कर इस समस्या को काफी हद तक कम होते देखा गया। कैल्शियम ऑक्जेलेट ही किडनी में पथरी का निर्माण करते हैं।
नींद ना आना, चिंता और तनाव (डिप्रेशन)
कद्दू के एक ग्राम बीजों में करीब 22 मिलीग्राम ट्रिप्टोफान प्रोटीन पाया जाता है, जिसे नींद का कारक भी माना जाता है। कनाडियन जर्नल ऑफ फिजियोलॉजी में साल 2007 में प्रकाशित एक शोध के परिणामों पर गौर किया जाए, तो जानकारी मिलती है कि ग्लूकोज के साथ कद्दू के बीजों का सेवन करने वाले अनिद्रा से ग्रस्त रोगियों को आमतौर पर साधारण दिनों की तुलना में बेहतर नींद आती है। ग्रामीण इलाकों में जी मचलना, थकान होना या चिंतित व्यक्ति को कद्दू के बीजों को शक्कर के साथ मिलाकर खिलाया जाता है।
अन्य लाभ :मेनोपॉज के दौरान होने वाली समस्याएं खत्म करता है, हृदय रोग में फायदेमंद, लिवर की कमजोरी दूर करता है, जोड़ दर्द या आर्थराइटिस में मददगार, उच्च रक्तचाप या हाईपरटेंशन को कंट्रोल करता है, पेट के कीड़े मारता है, हाथ- पैरों में जलन को कम करता है, घावों को सूखाता है, प्रोस्टेट वृद्धि को रोकता है।  
हृदय रोग, लिवर की कमजोरी
अलसी और कद्दू के बीजों की समान मात्रा (करीब 2 ग्राम प्रत्येक) प्रतिदिन एक बार ली जाए, तो माना जाता है कि लिवर की कमजोरी और हृदय की समस्याओं से छुटकारा मिलता है। जर्नल ऑफ फूड केमिस्ट्री एंड टॉक्सिकोलॉजी में प्रकाशित 2008 की एक रिसर्च रिपोर्ट भी इस तरह के दावों को सही ठहराते हैं।



रोचक जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें 

No comments:

Post a Comment