Tuesday, May 26, 2015

काला है तो क्या..... रंगत निखारे "काला नमक"

काला है तो क्या..... रंगत निखारे "काला नमक" 

 काले नमक को आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति में एक ठंडी तासीर का मसाला माना जाता है और इसका प्रयोग पाचन सहायक के रूप में किया जाता है। यह भी माना जाता है कि यह पेट की गैस (उदर वायु) और पेट की जलन में यह राहत प्रदान करता है। इसे कभी कभी उच्च रक्तचाप या कम नमक का आहार लेने वाले व्यक्ति भी प्रयोग करते हैं क्योंकि यह माना जाता है कि इसमें आम नमक की तुलना में कम सोडियम होता है। और तो और यह सुंदरता भी निखारता है। यह स्किन के  पोर्स खोल देता है और ब्‍लड सर्कुलेशन बढ़ाता है, जिससे त्‍वचा हमेशा हाइड्रेट बनी रहती है।
रूखी त्वचा अगर है, तो...
अगर आपकी त्‍वचा रूखी है और खुजली हो रही है, तो काले नमक  को पानी में डालकर नहाकर देखें। राहत मिलेगी। एक्ने की समस्या भी काफी हद तक कम हो करता है काला नमक । ज्‍यादातर साबुन, मास्‍क, टोनर और क्‍लींजर आदि बनाने में काले नमक का प्रयोग किया जाता है। यह नमक  त्‍वचा के  रोम छिद्रों को साफ करता है, जिससे पोर्स में बैक्‍टीरिया नहीं पनप पाते।
स्‍क्रब व टोनर
1 चम्‍मच बारीक  काला नमक  और 1 चम्‍मच ऑलिव ऑइल का पेस्ट बनाकर स्क्रब करें। चेहरा साफ-सुथरा नजर आएगा। टोनर के लिए
रोज वाटर और 1 चम्‍मच काला नमक  मिक्‍स कर आंखें बंद कर चेहरे पर स्प्रे करें। यह तैलीयता भी कम करता है।
क्‍लींजर
किसी भी फेस वॉश में एक  छोटा चम्‍मच काला नमक  डालें। फिर इसे चेहरे पर हल्‍के  से रगड़ें। स्किन साफ हो जाएगी। पीले नाखूनों पर नियमित रूप से काला नमक  रगड़ें, बेजान नाखूनों में जान आ जाएगी। काला नमक बालों को मुलायम, शाइनी और घना बनाता है। गीले बालों में पिसा हुआ काला नमक लगाएं। रूसी खत्म हो जाएगी।
एडिय़ां नर्म-मुलायम
हल्के गर्म पानी में पांव डुबोकर रखें। फटी एडिय़ां ठीक हो जाएंगी। कुछ दिनों तक करके देखें। पैरों के दर्द और सूजन में भी राहत मिलेगी।

No comments:

Post a Comment