Thursday, May 21, 2015

"आलू बुखारे" से दूर होगी मोटापे की समस्या

"आलू बुखारे" से दूर होगी मोटापे की समस्या 

बहुत ही कम फल ऐसे होते हैं जो खाने में स्वादिष्ट होने के साथ ही साथ सेहत के लिए भी फायदेमंद होते हैं और प्लम(आलूबुखारा) उन्हीं में से एक है। इसमें मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट की मात्रा कई सारी बीमारियों जैसे ऑस्टियोपोरोसिस, आंखों के सूखेपन, कैंसर, डायबिटीज, और मोटापे से दूर रखने का काम करते हैं। बॉडी में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कंट्रोल करने के साथ ही कार्डियोवैस्कुलर हेल्थ और सही इम्यूनिटी सिस्टम को बरकरार रखता है। ब्लड की क्लॉटिंग से बचाता है और इलेक्ट्रोलाइट को बैलेंस करता है, नर्वस सिस्टम को दुरुस्त रखने के साथ ही त्वचा की कई प्रकार के रोगों से सुरक्षा करता है।
आलूबुखारा एक जूसी फल है जो बहुत से आकार और रंगों का बाजार में मिलता है। तकरीबन 2000 प्रकार के प्लम पूरी दुनिया में मौजूद हैं। इसे फ्रेश खाने के अलावा सूखाकर भी खाया जा सकता है। आलूबुखारे में मौजूद फेनॉल्स और फ्लेवोनॉइड्स सेहत के लिए हर तरीके से फायदेमंद है।
1. मोटापा कम करें
आपको जानकर आश्चर्य होगा कि आलूबुखारा खाने से न सिर्फ मोटापा दूर होता है बल्कि मोटापे से जुड़ी और हो रही कई प्रकार की समस्याओं से भी छुटकारा दिलाता है। तमाम रिसर्च के अनुसार बीज वाले फलों के सेवन से मेटाबॉलिक रेट सही रहता है। इसमें मौजूद एंटी-ओबेसिटी और एंटी इन्फ्लेमेटरी बॉडी में अलग-अलग तरीके से काम करते हैं, जो फैट के साथ-साथ कोलेस्ट्रॉल, डायबिटीज और कार्डियोवैस्कुलर संबंधी बीमारियों को दूर करते हैं।
2. एंटी-ऑक्सीडेंट से भरपूर
आलूबुखारे में विटामिन सी और फाइटोन्यूट्रिएंट्स (phytonutrients), जैसे ल्यूटीन, क्रिप्टोजैन्थीन, जीजैन्थीन और क्लोरोजेनिक एसिड्स मौजूद होते हैं। जो एक एंटी-ऑक्सीडेंट के तौर पर काम करते हैं। जो रैडिकल्स की समस्या को दूर करते हैं। आलूबुखारे में मौजूद तत्व मोटापा कम करने के साथ ही अंदरूनी सेल्स की रिपेयरिंग का भी काम करते हैं। 
3. डायबिटीज
आलूबुखारे में एंटी-हाइपरग्लाइसेमिक(anti-hyperglycemic) तत्व डायबिटीज रोगियों के लिए लाभदायक होता है। इसे खाने से ब्लड में ग्लूकोज की मात्रा का बैलेंस बना रहता है। साथ ही इसमें मौजूद फ्लेवोनॉइड्स डायबिटीज में जरूरी इंसुलिन लेवल को भी बनाए रखता है।
4. ऑस्टियोपोरोसिस की संभावना कम करता है
सूखे हुए आलूबुखारा खाने से ऑस्टियोपोरोसिस जैसी समस्या में बहुत आराम मिलता है क्योंकि इसका काम हड्डियों को मजबूत बनाना होता है। ये हड्डियों के बनने में जरूरी टिश्यूज की रिपेयरिंग का काम करता है जिससे महिलाओं में मेनोपॉज के दौरान ज्यादातर होने वाली हड्डियों की समस्या दूर रहती है। सूखे हुए आलूबुखारे में पोटैशियम के साथ पॉलीफेनॉल्स भी पाए जाते हैं जो ओवेरियन के लिए जरूरी हार्मोन के स्राव के लिए जिम्मेदार होता है। 
अन्य लाभ : डायबिटीज में आराम, ऑस्टियोपोरोसिस की संभावना कम करता है, पाचन में सहायक, गर्भावस्था में फायदेमंद, कैंसर से बचाता है, त्वचा की देखभाल करता है, कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल करता है, इम्यूनिटी सिस्टम सही रखता है, तनाव कम करें, नर्वस सिस्टम को बेहतर बनाता है।

No comments:

Post a Comment