Tuesday, May 26, 2015

"सौंफ" करें पेट से सम्बन्धी विकार दूर


"सौंफ" करें पेट से सम्बन्धी विकार दूर

पेट दर्द : पाचन क्रिया ख़राब होने पेट दर्द हो तो सेकी हुई सौंफ खाएं। दर्द में लाभ होगा।

खट्टी डकारे : चार चम्मच सौंफ गिलास पानी में उबालें। आधा पानी रहने पर स्वाद के अनुसार मिश्री मिला कर छान कर पियें। अपच दूर करने का प्रयास करें।

कब्ज : 100 ग्राम सौंफ पीस कर रख लें। इसकी दो चम्मच  गुलाब के गुलकंद मिला कर सुबह, शाम भोजन के बाद खाएं।

पुराने दस्त : यदि नित्य पांच, छः बार दस्त आते हों तो सौंफ, जीरा, धनिया समान मात्रा में सेक लें। समान मात्रा में ही सौंठ और बेलगिरी मिला कर पीस लें। इसकी एक - एक चम्मच तीन बार ठन्डे पानी से या छाछ से फंकी लें।

नेत्र ज्योति : 100 ग्राम सौंफ को कूट कर छिलका उतार कर समान मात्रा में मिश्री एवं दस इलायची मिला कर पीस लें। इसकी दो चमच्च सुबह - शाम गर्म दूध से फंकी लें। नेत्र ज्योति बढ़ेगी।

आई फ्लू : सौंफ खाने अथवा रात्रि को एक कप पानी में थोड़ी सौंफ भिगो कर सुबह उसका पानी पीने से ' आई फ्लू ' जल्दी ठीक हो जाती हैं। 'आई फ्लू ' के रोगी को कुछ दिन टेलीविज़न नहीं देखना चाहिए और न ही ऐसा काम करना चाहिए जिससे आँखों पर जोर पड़े।

गर्मी की फुंसियां : चार चम्मच सौंफ और इतनी ही मिश्री पीस कर पानी में घोल कर नित्य पीने से या फंकी लगाने से गर्मी की फुंसियों में लाभ होता है।


रोचक जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें 

No comments:

Post a Comment