Friday, May 22, 2015

"भृंगराज" दिलाये बालो की समस्या से निदान

"भृंगराज" दिलाये बालो की समस्या से निदान 

 नदी, नालों, मैदानी इलाकों, खेत और बागानों में अक्सर देखा जाने वाला भृंगराज आयुर्वेद के अनुसार बड़ा ही महत्वपूर्ण औषधीय पौधा है। गांवों में ब्लैक बोर्ड को काला करने के लिए जिस पौधे को घिसा जाता है, वो भृंगराज ही है। इसका वानस्पतिक नाम एक्लिप्टा प्रोस्ट्रेटा है। आदिवासी भृंगराज को अनेक हर्बल नुस्खों में दवा के तौर पर उपयोग में लाते हैं। आइए जानते हैं आदिवासी किन चीजों में और कैसे भृंगराज का इस्तेमाल करते हैं।
बाल गिरने की समस्या से मुक्ति
भृंगराज की ताज़ा पत्तियों को कुचलकर इसका पेस्ट तैयार करते हैं फिर इसमें थोड़ी सी दही की मात्रा मिलाकर सिर पर 15 मिनट तक लगाकर रखने से बाल झड़ने की समस्या से छुटकारा मिलता है। ताजा पत्तियां उपलब्ध ना हों, तो पत्तियों से बने पाउडर का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। हेल्दी बालों के लिए ये नुस्खा बहुत ही कारगर होता है।
बालों को सफेद होने से बचाएं
डांग-गुजरात के हर्बल जानकार त्रिफला, नील और भृंगराज तीनों को एक-एक चम्मच मात्रा लेकर 50 मिली पानी में मिलाकर रातभर लोहे की कड़ाही में रख देते हैं। सुबह इसे बालों में लगाकर, कुछ देर सूखने के लिए छोड़ दिया जाता है। 15-20 मिनट बाद साफ पानी से धो लेते हैं। आदिवासियों के अनुसार ऐसा करके बालों को असमय पकने से बचाया जा सकता है।
पीलिया रोग में लाभदायक
भृंगराज के पौधे का रस पीलिया रोग में बहुत ही असरदार होता है। आदिवासी हर्बल जानकारों के अनुसार रोजाना आधा कप इसका रस पीने से एक सप्ताह के अंदर ही पीलिया रोग का असर खत्म होने लगता है। इसके लिए भृंगराज के पौधे (करीब 50 ग्राम) को लगभग 100 मिली पानी में कुचलकर और फिर छानकर पीना लाभदायक होता है।

खांसी से आराम
भृंगराज की पत्तियों का रस शहद के साथ मिलाकर देने से बच्चों को खांसी में काफी आराम मिलता है। दिन में कम से कम 3 बार तकरीबन 10 ग्राम पत्तियों को कुचलकर इसका रस तैयार कर पीना चाहिये

रोचक जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें 


एलिफेंटेयासिस में असरदार
हाथीपांव या एलिफेंटेयासिस होने पर तिल के तेल के साथ भृंगराज की पत्तियों के रस को मिलाकर पांव पर लगाने से राहत मिलती है।

अन्य लाभ : बालों को सफेद होने से बचाएं, पीलिया रोग में लाभदायक, खांसी से आराम, एलिफेंटेयासिस में असरदार, एसिडिटी दूर करता है , सिरदर्द में राहत, त्वचा के रोगों से निजात, माईग्रेन में बेहतर परिणाम।

No comments:

Post a Comment