Wednesday, May 6, 2015

नाश्ते में खाए "अंकुरित दाने" और पाये सेहत का खज़ाना

नाश्ते में खाए "अंकुरित दाने" और पाये सेहत का खज़ाना 

अंकुरित दानों का सेवन केवल सुबह नाश्ते के समय ही करना चाहिए। अंकुरित आहार शरीर को नवजीवन देने वाला अमृतमय आहार कहा गया है। अंकुरित भोजन क्लोरोफिल, विटामिन, कैल्शियम, फास्फोरस, पोटैशियम, मैगनीशियम, आयरन, जैसे खनिजों का अच्छा स्रोत होता है।
अंकुरीकरण की प्रक्रिया में अनाज/दालों में पाए जाने वाले कार्बोहाइट्रेड व प्रोटीन और अधिक सुपाच्य हो जाते हैं।
अंकुरित होने पर लगभग दोगुना विटामिन सी इनसे पाया जा सकता है। अंकुरण की प्रक्रिया से विटामिन बी कॉम्प्लेक्स खासतौर पर थायमिन यानी विटामिन बी1, राइबोप्लेविन यानी विटामिन बी2 व नायसिन की मात्रा दोगुनी हो जाती है। इसके अतिरिक्त केरोटीन नामक पदार्थ की मात्रा भी बढ़ जाती है, जो शरीर में विटामिन ए का निर्माण करता है।
अंकुरित दालों में कैलोरी की मात्रा बहुत कम होती है इसलिए अगर आप वजन को लेकर चिंतित हैं और कैलोरीज घटाने का आसान तरीका ढ़ूंढ़ रहे हैं तो ये दालें आपकी मदद कर सकती हैं।
ये फाइबर का एक प्राकृतिक स्रोत हैं। फाइबर पाचनतंत्र को स्वस्थ रखता है और नाश्ते व लंच के बीच के समय में आपको बार-बार भूख का अहसास नहीं होने देता।
अंकुरित दालों में पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन होता है जो सेहत के लिए फायदेमंद होता है। ये दालें बढ़ते बच्चों के विकास के लिए भी उपयोगी होती हैं क्योंकि इनसे पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन मिल जाता है।
ये दालें रक्त को शुद्ध करने में लाभकारी होती हैं और त्वचा से लेकर आपके बालों को निखारने में मदद करती हैं।
अगर आप बाल झडऩे की समस्या से परेशान हैं तो एक कटोरी अंकुरित दाल रोजाना नाश्ते में लें।
अंकुरित दालें ऑक्सीजन का एक बहुत अच्छा स्रोत हैं। ऑक्सीजन युक्तखाद्य पदार्थ शरीर में उपस्थित तरह-तरह के वायरस और बैक्टीरिया को खत्म करने में मदद करते हैं।
मूंग, मोंठ और चने की दाल को अंकुरित कर प्रयोग किया जा सकता है। इनमें टमाटर, प्याज, धनिया, खीरा आदि को मिलाकर सलाद के तौर पर भी इस्तेमाल  किया जा सकता है।
अंकुरण की विधि
अंकुरित करने वाली दालों को अच्छी तरह पानी से धोकर एक कांच के बर्तन में रात भर भीगने दें। अगले दिन दुबारा धोकर साफ सूती कपडे में बांधकर रखे दें। बीच-बीच में पानी का छिड़काव करते रहें। ताकि इसमें नमी बनी रहे। गर्मियों में सामान्यत: 24 घंटे में बीज अंकुरित हो जाते हैं

No comments:

Post a Comment